जेसीटीएसएल मुखिया बनने के लिए दोनों मेयर आमने-सामने हुईं:यात्री हेरिटेज में अधिक इसलिए हमारा हक : मुनेश, ग्रेटर निगम का एरिया बड़ा, चेयरमैन हमारा : सौम्या

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जेसीटीएसएल का मुखिया बनने को ग्रेटर और हेरिटेज निगम की  मेयर आमने-सामने हैं। - Dainik Bhaskar
जेसीटीएसएल का मुखिया बनने को ग्रेटर और हेरिटेज निगम की  मेयर आमने-सामने हैं।

जेसीटीएसएल का मुखिया बनने को ग्रेटर और हेरिटेज निगम की मेयर आमने-सामने हैं। ग्रेटर की ईसी की बैठक में चेयरमैन के लिए प्रस्ताव रखा गया और सरकार के पास भिजवाने के लिए चर्चा की गई। ग्रेटर मेयर के इस कदम के बाद अब हेरिटेज मेयर मुनेश गुर्जर ने चेयरमैन बनाने के लिए अपनी दावेदारी जताते हुए जल्द प्रस्ताव सरकार को भिजवाने की बात कही है। ग्रेटर मेयर के इस कदम के बाद अब हेरिटेज मेयर मुनेश गुर्जर ने चेयरमैन बनाने के लिए अपनी दावेदारी जताते हुए जल्द प्रस्ताव सरकार को भिजवाने की बात कही है।

निगम ग्रेटर में कार्यकारी समिति की बैठक के बाद सौम्या गुर्जर ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जेसीटीएसएल में चेयरमैन के पद के लिए हम सरकार को प्रस्ताव भिजवाएंगे। क्योंकि नगर निगम ग्रेटर का एरिया हेरिटेज से ढाई गुना बड़ा है। ग्रेटर एरिया में बसों का संचालन भी सबसे ज्यादा होता है। इसलिए मेरा मानना है कि चेयरमैन में ग्रेटर नगर निगम से ही बनना चाहिए।

प्रावधान: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दूसरे कार्यकाल में जेसीटीएसएल का गठन किया था। कंपनी में जेडीए, रोडवेज, निगम को बोर्ड ऑफ मेम्बर बनाया गया। जबकि इस कंपनी का चेयरमैन नगर निगम मेयर को बनाया गया। चूंकि अब जयपुर में दो नगर निगम हो गए तो इसको लेकर विवाद चल रहा है कि किस मेयर को कंपनी का चेयरमैन बनाया जाए। इसको देखते हुए राज्य सरकार ने फिलहाल आईएएस अधिकारी को यहां चेयरमैन बना रखा है।

जेसीटीएसएल की बसों में रोजाना 1.80 लाख से ज्यादा पैसेंजर सफर करते हैं। कंपनी 284 बसों का करती है संचालन
शहर और ग्रामीण रूटों पर जेसीटीएसएल 284 बसों का संचालन करती है, जिसमें रोजाना 1.80 लाख पैसेंजर सफर करते हैं। कंपनी को रोजाना 30 लाख रुपए मिलते हैं। 284 बसों में 124 मिनी बसें हैं, जो अधिकांशत: चारदीवारी में चलाई जाती है। कंपनी द्वारा 100 इलेक्ट्रिक बसों की खरीद को मंजूरी दी जा चुकी है, जबकि 300 बसों का प्रपोजल राज्य सरकार को भिजवाया गया है।

खबरें और भी हैं...