टैक्स चोरी का मामला:एयरपोर्ट से पकड़े माल में से बिना बिल वाले की कीमत डेढ़ करोड़, 19 कार्मिकों से पूछताछ

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

मुम्बई-जयपुर एयरपोर्ट से टैक्स चोरी के मामले में गुरुवार तक चली वैल्यूएशन डेढ़ करोड़ पर खत्म हुई यानी पकड़े गए 2 करोड़ के माल में से डेढ़ करोड़ का माल बिना बिल का मिला है। वहीं, मामले में जयपुर एयरपोर्ट के 19 अधिकारियों और कर्मचारियों से पूछताछ की गई कि बिना बिल का माल आखिर बाहर कैसे आ गया। इसकी भी पड़ताल की गई कि इसके लिए कौन-कौन जिम्मेदार हैं।

  • वैल्यूएशन पूरी: 54 लाख के माल पर ज्वेलर का नाम ही नहीं, माल किसका- कूरियर बाॅयज से नहीं पूछ सकी एसडीआरआई

भास्कर के खुलासे के बाद; पूछताछ, कुछ कार्मिकों की मिलीभगत सामने आई, 3 को चेकिंग से हटाया
मालूम हो कि दैनिक भास्कर ने गुरुवार को ‘मुम्बई से जयपुर बिना बिल जेम्स-ज्वेलरी की रोज नॉन स्टॉप उड़ानें, भास्कर ने पकड़वाई 96 लाख रुपए की टैक्स चोरी’ शीर्षक से खबर प्रकाशित कर टैक्स चोरी के मामले का खुलासा किया था। इसके बाद एयरपोर्ट अथॉरिटी पर सवाल उठे और गुरुवार सुबह ही ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्योरिटी ने एयरपोर्ट अथॉरिटी और कार्गों में तैनात प्रबंधक स्तर के कर्मचारियों से पूछताछ की। सात से आठ घंटे चली पूछताछ के बाद कुछ कर्मचारियों की मिलीभगत होना सामने आया है। तीन जनों चैकिंग से हटाया गया है।

56 लाख के माल पर किसी का नाम नहीं
पकड़े गए दो करोड़ कीमत के माल में से 96 लाख रुपए का वह माल है, जिसमें ज्वेलर्स के नाम की स्लिप है। अब उनसे इनकम टैक्स और जीएसटी विभाग पूछताछ करेगा। वहीं 54 लाख रुपए का ऐसा माल है, जिन पर किसी ज्वेलर्स की पर्ची नहीं है। पकड़े गए दोनों लोगों से एसडीआरआई ने पूछताछ तो की लेकिन दोनों ने उन ज्वेलर्स का नाम नहीं बताया, जिनके यहां माल जाना था।

स्क्रीनिंग तक नहीं होती, कोई भी माल जा सकता है
सामने आया कि घरेलू कार्गो से आने वाले सामान की एक्स-रे स्क्रीनिंग तक नहीं की जाती। ऐसे में कोई भी माल बाहर जा सकता है। सामने यह भी आया है कि आने वाले अधिकांश माल और उसके बिल में फर्क होता ही है। अब जयपुर अथॉरिटी मुम्बई में जांच होने की बात कह रही है कि वहां जांच होनी चाहिए थी लेकिन सवाल यह कि माल यहां से बिना जांच के कैसे बाहर आ गया।

कई सुराग लगे हैं

कई महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगे हैं। कुछ माल ऐसा भी सामने आया है, जिसमें किसी का नाम नहीं है। हम पूछताछ कर रहे हैं। -आनंद स्वरूप, डीजी, एसडीआरआई

खबरें और भी हैं...