पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उम्मीदों की कतार:आउट ऑफ टर्न नौकरी और 2 प्रतिशत कोटे का असर, जयपुर जिला एथलेटिक चैंपियनशिप में पहुंचे 1000 से ज्यादा एथलीट

संजीव गर्ग | जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • खिलाड़ियों की यह लंबी कतार खेल जगत के लिए वह रोशनी है जो कल का उजाला बनेगी

एसएमएस में एथलेटिक ट्रैक पर शनिवार को अद्भुत नजारा दिखा। जिला जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 1000 से ज्यादा खिलाड़ी ट्रायल देने पहुंचे। ट्रायल ले रहे कोच भी अचंभित थे। स्पोर्ट्स काउंसिल के कोच सहित कई अन्य कोच भी ये ट्रायल ले रहे थे। उन्होंने कहा, जिला स्तर की एथलेटिक मीट में ऐसा नजारा पहली बार देखा है। 6-7 साल से ट्रायल देख रहे हैं कभी भी 100-150 से ज्यादा एथलीट नहीं आते।

कोविड में इतनी संख्या में एथलीट का आना वाकये ताज्जुब करने वाला है।जयपुर जिला एथलेटिक संघ के सचिव और द्रोणाचार्य अवार्डी वीरेन्द्र पूनिया ने कहा, ‘ये नजारा इसलिए है क्योंकि राजस्थान सरकार ने खिलाड़ियों के लिए नौकरी के रास्ते खोल दिए हैं। नेशनल मेडलिस्ट तक को आउट ऑफ टर्न सरकारी नौकरी राजस्थान सरकार दे रही है। फिर नेशनल में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ी भी 2 प्रतिशत कोटे में आसानी से नौकरी पा सकते हैं। राजस्थान ही देश में एकमात्र ऐसा राज्य है जो कि स्टेट मेडलिस्ट तक को इनामी राशि देता है।’

2 प्रतिशत कोटे में भी मिलती है नौकरी
नेशनल खेले खिलाड़ियों को आउट ऑफ टर्न के अलावा 2 प्रतिशत कोटे में भी राजस्थान सरकार के विभिन्न विभागों में नौकरी मिलती है। साफ है कि खिलाड़ियों के लिए अब राजस्थान में नौकरियों दरवाजे खुल गए हैं।
^ 4-5 साल से ट्रायल देख रहा हूं। 100-150 बच्चे आते हैं। पहली बार इतने एथलीट जिले की चैंपियनशिप में हिस्सा लेने आए हैं।
-विनोद पूनिया, एथलेटिक कोच, स्पोर्ट्स काउंसिल
^ राजस्थान सरकार में नौकरी दो एक कारण है ही, हमने अच्छी तरह से पब्लिसाइज भी किया, इसलिए भी एथलीट हिस्सा लेने पहुंचे।
-वीरेन्द्र पूनिया, सचिव, जिला जिला एथलेटिक संघ

450 नेशनल मेडलिस्ट को जल्द मिलेगी नौकरी

नेशनल मेडलिस्ट 450 खिलाड़ियों की लिस्ट भी तैयार है और जल्द ही उन्हें भी राजस्थान सरकार आउट ऑफ टर्न नौकरी देने का योजना बना रही है।

कई खिलाड़ी बिना जूतों के पहुंचे
कंपकंपाती सर्दी में इतनी बड़ी संख्या में एथलीट स्टेडियम पहुंचे। इनमें कई खिलाड़ी तो बिना जूतों को ही दौड़ते नजर आए। कोच के मना करने पर इन खिलाड़ियों ने किसी अन्य खिलाड़ी से जूते उधार में लिए और अपनी-अपनी प्रतियोगिता में हिस्सा लिया।

एक सवाल: 100 की अनुमति तो इतने खिलाड़ी कैसे पहुंचे?
कोविड के कारण किसी भी खेल आयोजन में 100 से ज्यादा लोगों की अनुमति नहीं है तो फिर इतनी बड़ी संख्या में इतने एथलीट हिस्सा लेने कैसे पहुंचे। क्या एक-एक दिन एक-एक इवेंट नहीं हो सकता था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज समय कुछ मिला-जुला प्रभाव ला रहा है। पिछले कुछ समय से नजदीकी संबंधों के बीच चल रहे गिले-शिकवे दूर होंगे। आपकी मेहनत और प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। किसी धार्मिक स्थल पर जाने से आपको...

    और पढ़ें