पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Paper From The Center In Jaipur Was Sent To Sikar Teacher On WhatsApp, If The Complete Solution Is Not Solved Then Sent To Haryana, Teacher Arrested

NEET का पेपर आउट होकर हरियाणा पहुंचा:जयपुर में सेंटर से पेपर वॉट्सऐप पर सीकर टीचर के पास भेजा, पूरा सॉल्व नहीं हुआ तो हरियाणा भेजा, एक टीचर गिरफ्तार

जयपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सीकर में पेपर सॉल्व करने वाला टीचर मंगलवार को पुलिस की गिरफ्त में आया। - Dainik Bhaskar
सीकर में पेपर सॉल्व करने वाला टीचर मंगलवार को पुलिस की गिरफ्त में आया।

जयपुर में NEET का पेपर 35 लाख रुपए में सेंटर से ही आउट हुआ। इसे सॉल्व करने वाले टीचर को सीकर से गिरफ्तार कर लिया गया है। सेंटर से मोबाइल फोन से फोटो खींच कर सीकर में दो युवकों को भेजा था। जब इस टीचर से पेपर सॉल्व नहीं हो पाया तो उसने हरियाणा में दूसरे टीचर को भेज दिया। वहीं से पूरा पेपर सॉल्व करके मंगवाया गया। पकड़े गए टीचर के मोबाइल में प्रश्न पत्र भी पुलिस को मिल गया है।

जयपुर पुलिस ने 13 सितंबर को ही राजस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एवं टेक्नोलॉजी में परीक्षा सेंटर से एक युवती सहित 8 लोगों काे गिरफ्तार किया था। परीक्षार्थियों के परिजन बाहर गाड़ियों में 10 लाख रुपए लेकर बैठे हुए थे। डीसीपी ऋचा तोमर ने बताया कि प्रश्न पत्र को सॉल्व करने वाले सुनील कुमार (24) पुत्र बंशीलाल जाट निवासी गांव पेवा, धोद जिला सीकर हाल निवासी तोदी नगर सीकर को गिरफ्तार किया है। उससे पूछताछ में पता लगा कि NEET 2021 का प्रश्न पत्र उसके दोस्त पंकज यादव ने वॉट्सऐप पर सॉल्व करने के लिए भेजा था। इसको उसने सॉल्व करके वापस भेज दिया था। उसे कुछ प्रश्नों के जवाब नहीं आ रहे थे। तब उसने हरियाणा निवासी एक दोस्त को वॉट्सऐप भेजकर सॉल्व करवाए थे। प्रश्न पत्र को सॉल्व कर आंसर-की वॉट्सऐप के जरिए पंकज यादव को भेजी थी।

टीम बनाकर पकड़ा

उन्होंने बताया कि राजस्थान इंस्टीटयूट ऑफ इंजीनियरिंग एवं टेक्नोलॉजी में नीट का सेंटर था। परीक्षा दोपहर दो बजे से पांच बजे तक थी। एएसपी रामसिंह ने निर्देशन में एसीपी रायसिंह, भांकरोटा थानाधिकारी मुकेश चौधरी, चित्रकूट थानाधिकारी पन्नालाल जागिड़, डीएसटी वेस्ट इंचार्ज नरेंद्र कुमार की टीम बनाई गई। कमरा नंबर 35 से एग्जामिनर रामसिंह ने बताया कि नवरत्न उसका परिचित है। वह बानसूर में राइफल डिफेंस एकेडमी चलाता है। उसका दोस्त अनिल यादव है और निवारू रोड पर ई-मित्र है। उनके पड़ोसी सुनील यादव की भतीजी धनेश्वरी का सेंटर आया है।

10 लाख रुपए भी जब्त किए

पेपर भेजने के लिए 35 लाख रुपए में डील हुई। उसका पेपर मोबाइल से फोटो खींच कर भेजा गया। उसके चाचा 10 लाख रुपए गाड़ी में बैठे थे। पकंज यादव व संदीप ने प्रश्नपत्र को हल करके रामसिंह व कॉलेज प्रशासक मुकेश सामोता को आंसर शीट भेजी। उसका प्रिंट लेकर मुकेश सामोता ने निकलवा कर धनेश्वरी को दे दिया। पुलिस ने धनेश्वरी से प्रश्नपत्र व आंसर शीट जब्त कर ली। रामसिंह से हार्डकॉपी बरामद की। बाहर बैठे चाचा सुनील, ईमित्र संचालक अनिल यादव, नवरत्न यादव को 13 सितंबर को ही पकड़ लिया गया था। पुलिस ने 10 लाख रुपए जब्त कर लिए थे।

रामसिंह परीक्षा वीक्षक व मुकेश सामोता प्रशासक ने मोबाइल से पकंज को भेजा था। वो पकंज यादव ने सीकर में सुनील रिणवां व दिनेश बेनीवाल को मोबाइल पर भेजे दिए थे। उन्होंने कुशल टीचर से पेपर सॉल्व कराया। पेपर जयपुर व सीकर में लीक करवा दिया गया। अब पुलिस की टीम सुनील व दिनेश को पकड़ने सीकर रवाना हो गई।

इनको गिरफ्तार कर चुके

पुलिस ने मुकेश कुमार (30) पुत्र हरीसिंह निवासी जयरामपुरा श्रीमाधोपुर सीकर, राम सिंह (30) पुत्र बनवारीलाल निवासी कुडि़यों की ढाणी, खंडेला सीकर, धनेश्वरी यादव (18) पुत्री अनिल यादव निवासी निवारू रोड करधनी, सुनील यादव (35) पुत्र रामकुमार निवासी निवारू रोड करधनी, नवरत्न स्वामी (31) पुत्र रामलखन निवासी लसाड़िया श्रीमाधोपुर सीकर, अनिल यादव (30) पुत्र शिंभूदयाल निवासी कोटपूतली, संदीप (23) पुत्र फूलाराम निवासी जयरामपुरा श्रीमाधोपुर सीकर, पकंज यादव (26) पुत्र ओमप्रकाश निवासी महरोली रींगस सीकर को गिरफ्तार किया जा चुका है।

खबरें और भी हैं...