पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Parking At Risk For Two Months, Because The Fee Is So Much That No One Takes The Contract; Escalator Could Not Start For One And A Half Year, Station Master Office Became Inquiry Center

पार्किंग एट ऑन योर रिस्क:फीस इतनी कि कोई लेता ही नहीं ठेका; डेढ़ साल से नहीं शुरू हो पाया एस्केलेटर, स्टेशन मास्टर ऑफिस बना पूछताछ केंद्र

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
6 महीने से लगेज स्कैनर मशीन और यात्रियों की जांच करने वाली मशीन खराब है। - Dainik Bhaskar
6 महीने से लगेज स्कैनर मशीन और यात्रियों की जांच करने वाली मशीन खराब है।

कोरोना संक्रमण की रफ्तार तो धीमी हो गई है। लेकिन रेलवे की व्यवस्थाएं अभी भी पटरी पर नहीं आ रही हैं। दरअसल पिछले साल आए कोरोना संक्रमण के बाद एक तरफ जहां कुछ ट्रेनें स्थाई रूप से बंद कर दी गई। कुछ को स्पेशल बनाकर कभी रद्द तो कभी संचालित किया जाता है। ट्रेनों को स्पेशल बनाकर रेलवे यात्रियों से सामान्य ट्रेनों में भी 15 से 30 फीसदी अधिक किराया लिया जा रहा है। लेकिन यात्रियों को दी गई सुविधाओं का रखरखाव रेलवे के लिए जरुरी नहीं है। इसके पीछे रेलवे की दलील है कि जब यात्री ही नहीं आ रहे, तो इनका रखरखाव भी क्यों किया जाए?

दुर्गापुरा स्टेशन पर बीते वर्ष जनवरी से चल रहे एस्केलेटर को रेलवे डेढ़ साल में भी शुरू करना तो दूर पूरा तक नहीं कर पाया है। इसे बीते साल ही जुलाई तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। वहीं स्टेशन मास्टर का ऑफिस ट्रेनों का सफल संचालन करने का कम और यात्रियों के पूछताछ का केंद्र अधिक बन गया है। क्योंकि पहले स्टेशन मास्टर के ठीक पास वाला ऑफिस टिकट चैकिंग और पूछताछ के लिए था। ऐसे में वहां से यात्री ट्रेन और टिकट की स्थिति की जानकारी कर लेते थे। लेकिन पिछले दिनों ही बुकिंग, रिजर्वेशन और पूछताछ का ऑफिस स्टेशन के बाहर पीछे शिफ्ट कर दिया गया है। ऐसे में ना तो इसका डिस्प्ले किया जाता और दूर होने के कारण यात्री ट्रेन छूट जाने के डर से स्टेशन मास्टर ऑफिस से ही पूछताछ करते हैं और भीड़ लगाते हैं। वहीं पिछले छह महीने से यहां लगेज स्कैनर मशीन और यात्रियों की जांच करने वाली डीएफएमडी मशीन भी खराब पड़ी है।

एस्केलेटर को रेलवे डेढ़ साल में भी शुरू नहीं कर सका है। एस्केलेटर के पास कचरा पड़ा रहता है।
एस्केलेटर को रेलवे डेढ़ साल में भी शुरू नहीं कर सका है। एस्केलेटर के पास कचरा पड़ा रहता है।

पार्किंग एट ऑन रिस्क

पिछले दो महीने से यहां यात्रियों को छोड़ने और लेने (ड्रॉप एंड पिकअप) के लिए आने वाले लोगों को अपने फोर और टू व्हीलर भी स्वयं की जोखिम (ऑन रिस्क) पर पार्क करने को मजबूर होना पड़ रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि पार्किंग की लाइसेंस फीस अधिक होने के कारण कोई स्टेशनों की पार्किंग का ठेका ही नहीं ले रहा है। यात्री भार कम होने की वजह से पार्किंग ठेकेदार घाटा होने के डर से पार्किंग व्यवस्था ही नहीं संभाल रहा है। कई स्टेशनों पर तो ठेकेदार बीच अवधि में से ही पार्किंग छोड़कर चले गए।

खबरें और भी हैं...