• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Pegasus Spying Scandal Rajasthan Congress Will Do Protest Gherao Raj Bhavan On July 22 Demanding Amit Shah's Resignation

22 जुलाई को राजभवन का घेराव करेगी कांग्रेस:पेगासस जासूसी मामले में प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा ने कहा- केंद्रीय मंत्रियों को हटाने का सच भी सामने आना चाहिए

जयपुर3 महीने पहले
पेगासस फोन जासूसी केस में केंद्र सरकार के रवैये को लेकर प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा जयपुर में केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाए।

पेगासस फोन जासूसी केस में राजस्थान में भी उबाल नजर आ रहा है। इस केस में देश के गृहमंत्री अमित शाह के इस्तीफे और पूरे मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की एक कमेटी से करवाने की मांग को लेकर प्रदेश कांग्रेस 22 जुलाई को जयपुर में राजभवन का घेराव करेगी। राज्यपाल को ज्ञापन सौंपेगी। मंगलवार को प्रेसवार्ता में राजस्थान कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि देश के गृहमंत्री अमित शाह के नेतृत्व में यह जासूसी करना और अब उनका कोई जवाब नहीं देना देश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है। सत्ता में बैठे लोग किसी भी वर्ग को नहीं बख्श रहे हैं।

पूरी दुनिया में तहलका
डोटासरा ने कहा कि हमारे नेता राहुल गांधी, उनके निजी स्टाफ, मुख्य चुनाव आयुक्त, भारत सरकार के आईटी मंत्री, राज्यमंत्री और यहां तक कि राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के निजी सचिवों, स्मृति ईरानी के भी ओएसडी के फोन की निगरानी रखी गई। पूरी दुनिया में तहलका मचा है। आईटी मंत्री कह रहे हैं कि इस तरह की कोई बात नहीं हुई है। ऐसे में तमाम लोगों की निगरानी उनकी निजता का हनन है।

चर्चाओं पर लगी मुहर
प्रेसवार्ता में डोटासरा ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के फोन टेपिंग व निगरानी करवाने के बाद अब कई बातें साफ हो गई हैं। राजस्थान में अक्सर चर्चा होती थी कि मोदी व शाह ने वसुंधरा राजे को चाय में मक्खी के जैसे बाहर निकालकर फेंक दिया है। इस प्रकरण के बारे में अब तरह-तरह के सवाल उठने लग गए हैं। केंद्र सरकार ने किसी को नहीं छोड़ा। न विधायिका को छोड़ा, न ही न्यायपालिका को छोड़ा।

केंद्रीय मंत्रियों को हटाने का सच सामने आना चाहिए
डोटासरा ने कहा कि देश के आईटी मंत्री की भी पहले जासूसी कराकर पता किया गया कि वह हमारे पक्ष में है या नहीं। डोटासरा ने कहा कि जिन मंत्रियों को केंद्र सरकार ने हटाया। इन मंत्रियों को हटाने के पीछे का सच भी सामने आना चाहिए। इससे लगता है कि जो मंत्री हटाए गए हैं, वे सभी मोदी-शाह सरकार के रवैये से नाखुश थे। इन्होंने जो जासूसी करवाई, इसके बाद मंत्रियों को हटाने के फैसले लिए गए हैं। डोटासरा ने कहा कि हम मांग करते हैं कि सुप्रीम कोर्ट के माध्यम से इस मामले की जांच कराई जाए। डोटासरा ने कहा कि जो भी दस्तावेज अभी तक सामने आ रहे हैं, इससे साफ है कि मोदी व शाह इस केस में लिप्त हैं। अमित शाह से इस्तीफा लिया जाए।

पीएम भी आएं जांच के दायरे में
डोटासरा ने कहा कि जो भी दस्तावेज अभी तक सामने आ रहे हैं, इससे साफ है कि मोदी व शाह इस केस में लिप्त हैं। वे असंवैधानिक कार्य कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट तक को दबाव में लेकर अपने मनमाफिक फैसले करवा कर कुछ भी कर सकते हैं, तो फिर इस देश में क्या बचा है?

खबरें और भी हैं...