सीएम गहलोत ने कहा:लोगों को सरकारी कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़ें, इसलिए चला रहे अभियान

जयपुर/नागौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रशासन गांवों के संग व प्रशासन शहरों के संग का मौका मुआयना करने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पहले नागौर और उसके बाद जयपुर के जोबनेर पहुंचे। - Dainik Bhaskar
प्रशासन गांवों के संग व प्रशासन शहरों के संग का मौका मुआयना करने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पहले नागौर और उसके बाद जयपुर के जोबनेर पहुंचे।

प्रदेश में 10 लाख परिवारों को आवास के पट्टे जारी करने के लिए राज्य सरकार की ओर से चलाए जा रहे अभियान प्रशासन गांवों के संग व प्रशासन शहरों के संग का मौका मुआयना करने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पहले नागौर और उसके बाद जयपुर के जोबनेर पहुंचे। गहलोत ने नागौर के निम्बोला बिश्वां गांव में आयोजित प्रशासन गांवों के संग अभियान शिविर में उपस्थित ग्रामीणों को संबोधित किया।

उन्हाेंने सभी 22 विभागों के स्टाॅल्स पर जाकर अधिकारियों एवं कर्मचारियों से किए जा रहे कामों की जानकारी ली। ग्रामवासियों से बातचीत कर उनकी समस्याओं को जाना। साथ ही अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे पूरी निष्ठा एवं सेवा भाव के साथ मौके पर ही लोगों की समस्याओं का निराकरण कर उन्हें राहत पहुंचाएं।

18 माह बाद खिलखिलाई सरकार : ग्राम पंचायत निंबोला बिस्वा पंचायत समिति भेरूंदा जिला नागौर में प्रशासन गांवों के संग अभियान के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश प्रभारी अजय माकन, प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, राजस्व मंत्री हरीश चौधरी और विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी सहित मंच पर खिलखिलाते हुए प्रमुख नेता।

जोबनेर: सीएम गहलोत जयपुर के डेहरा गांव (जोबनेर) में अभियान के शिविर में पहुंचे। उन्होंने कहा कि इस अभियान की मूल भावना यही है कि लोगों को अपने आवश्यक कामों के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़े। अधिकारी-कर्मचारी इसी भावना के साथ काम करें। समस्याओं का निस्तारण तुरंत हो, यह जिम्मेदारी जिला कलेक्टर की की है। वे मॉनिटरिंग करें।

खबरें और भी हैं...