राजस्थान में पेट्रोल 9.55, डीजल 7.20 रुपए लीटर सस्ता हुआ:गहलोत बोले- सरकार को हर साल होगा 1200 करोड़ का नुकसान

जयपुर6 महीने पहले

देशभर में लगातार रिकॉर्ड तोड़ रही महंगाई पर अंकुश लगाने के लिए केंद्र सरकार ने आम आदमी को बड़ी राहत दी है। पेट्रोल पर 8 रुपए और डीजल पर 6 रुपए प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी घटाने से राजस्थान में पेट्रोल 9 रुपए 55 पैसे और डीजल 7 रुपए 20 पैसे प्रति लीटर सस्ता हुआ है। इसके बाद राजस्थान में प्रति लीटर पेट्रोल की कीमत घटकर 108 रुपए 48 पैसे और डीजल की कीमत 93 रुपए 72 पैसे पर पहुंच गई है।

इससे पहले केंद्र सरकार ने पिछले साल 3 नवंबर को भी पेट्रोल और डीजल सरकार ने पेट्रोल पर 5 रुपए और डीजल पर 10 रुपए एक्साइज ड्यूटी कम की थी। ऐसे में 9 महीने में सरकार ने दूसरी बार एक्साइज ड्यूटी कम की है।

राजस्थान सरकार को होगा 1200 करोड़ का नुकसान
केंद्र सरकार के फैसले के बाद CM अशोक गहलोत ने ट्वीट कर बताया की केंद्र सरकार की और से एक्साइज ड्यूटी में कटौती से राज्य सरकार का पेट्रोल पर 2.48 रुपए प्रति लीटर एवं डीजल पर 1.16 रुपए प्रति लीटर वैट भी कम होगा।

ऐसे में सरकार के इस फैसले से राजस्थान की सरकार को हर साल लगभग 1200 करोड़ रुपए के राजस्व का नुकसान उठाना पड़ेगा। गहलोत ने कहा कि इससे पहले भी आम जनता को राहत देने के लिए दो बार वैट में कटौती की गई थी। जिससे राज्य को 6300 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था। ये सभी कटौती जाेड़कर राज्य सरकार को साढ़े 7 हजार करोड़ का नुकसान होगा।

CM अशोक गहलोत ने ट्वीट कर राजस्व घाटे की दी जानकारी।
CM अशोक गहलोत ने ट्वीट कर राजस्व घाटे की दी जानकारी।

रसोई गैस पर मिलेगी 200 रुपए की सब्सिडी
केंद्र सरकार ने PM उज्ज्वला योजना वाले सिलेंडर पर इस साल 200 रुपए की सब्सिडी देने का ऐलान किया है। इसके तहत एक परिवार को साल में 12 सिलेंडर मिलेंगे। ऐसे में देशभर में इसका फायदा 9 करोड़ परिवारों को मिलेगा।

बता दें राजस्थान में उज्ज्वला योजना से जुड़े कुल 70 लाख उपभोक्ता हैं। जिन्हें केंद्र सरकार द्वारा दी गई राहत से सीधा फायदा होगा। इन 70 लाख उपभोक्ताओं में से हर महीने सिर्फ 60 से 70% उपभोक्ता ही उज्जवला गैस का उपयोग कर रहे हैं।

कैसे तय होती हैं पेट्रोल-डीजल की कीमतें?
जून 2010 तक सरकार पेट्रोल की कीमत निर्धारित करती थी। हर 15 दिन में इसे बदला जाता था। 26 जून 2010 के बाद सरकार ने पेट्रोल की कीमतों का निर्धारण ऑयल कंपनियों के ऊपर छोड़ दिया। इसी तरह अक्टूबर 2014 तक डीजल की कीमत भी सरकार निर्धारित करती थी। 19 अक्टूबर 2014 से सरकार ने ये काम भी ऑयल कंपनियों को सौंप दिया। अभी ऑयल कंपनियां अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल की कीमत, एक्सचेंज रेट, टैक्स, पेट्रोल-डीजल के ट्रांसपोर्टेशन का खर्च और बाकी कई चीजों को ध्यान में रखते हुए रोजाना पेट्रोल-डीजल की कीमत निर्धारित करती हैं।

प्रमुख जिलों में पेट्रोल की कीमतें

जिलापेट्रोलडीजल
जयपुर108.4893.72
जोधपुर108.2793.55
कोटा107.0393.26
श्रीगंगानगर113.6698.55
सीकर106.9893.61
अलवर109.2194.56
अजमेर108.0993.37