• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Pink Slip Will Be Cut For Unnecessarily Playing Horn In Traffic, Counseling Will Be Done By Showing The Film, Even Then 1000 Will Be Challaned

NOISE POLLUTION कम करने के लिए ट्रैफिक पुलिस का अभियान:ट्रैफिक में बेवजह हॉर्न बजाने पर पिंक पर्ची कटेगी, फिल्म दिखाकर कांउसलिंग होगी, फिर भी नही माने तो 1000 का चालान होगा

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एक्सपर्ट का कहना है कि आम आदमी के लिए 55 डेसीबल से ज्यादा की ध्वनि खतरनाक है। - Dainik Bhaskar
एक्सपर्ट का कहना है कि आम आदमी के लिए 55 डेसीबल से ज्यादा की ध्वनि खतरनाक है।

NOISE POLLUTION को कम करने के लिए जयपुर में ट्रैफिक पुलिस तीन महीने तक अभियान चलाएगी। एडिशनल कमिश्नर राहुल प्रकाश ने जेएलएन रोड पर ओटीएस चौराहे से अभियान की शुरूआत की। उन्होंने कहा कि बेवजह हॉर्न बजाने वालों की पिंक पर्ची कटेगी और मानसरोवर स्थित काउंसलिंग सेंटर में समझाइश की जाएगी। काउंसलिंग में नहीं आने पर नए मोटर व्हीकल एक्ट के तहत 1000 रु. का चालान काटा जाएगा। इस दौरान साइकिल रैली निकाल कर नो हॉर्न का संदेश भी दिया गया।

ट्रैफिक में हॉर्न बजाने पर एडीशनल कमिश्नर राहुल प्रकाश समझाते हुए।
ट्रैफिक में हॉर्न बजाने पर एडीशनल कमिश्नर राहुल प्रकाश समझाते हुए।

प्रदूषण की ध्वनि कम करने के लिए दैनिक भास्कर और ट्रैफिक पुलिस की ओर से संयुक्त पहल ‘कृपया व्यर्थ हॉर्न ना बजाएं’ की जा रही है। एडिशनल कमिश्नर राहुल प्रकाश ने बताया कि शहर के सभी प्रमुख चौराहों पर हॉर्न के दुष्परिणामों वाले स्लोगन लगाए जाएंगे। बुधवार को ओटीएस पर जागरूकता के लिए एक शॉर्ट फिल्म दिखाएंगे। ‘नो हॉर्न जोन’ के साइन बोर्ड लगेंगे। चौराहों पर नुक्कड़ नाटक से संदेश देंगे। कुछ दिन पहले डीजीपी एमएल लाठर ने पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव से शहर में अनावश्यक हॉर्न बजाने पर चिंता जाहिर की थी। इस पर पुलिस कमिश्नर ने अभियान की रूप-रेखा तैयार की। बेवजह हॉर्न बजाने वालों को पिंक पर्ची काट कर दी जाएगी। फिर उन्हें मानसरोवर में कांउसलिंग सेंटर में हॉर्न बजाने के नुकसान के बारे में बताया जाएगा।

डीसीपी ट्रैफिक श्वेता धनखड़ ने बताया कि जयपुर में कई इलाकों को नो हॉर्न जोन घोषित कर रखा है। ट्रैफिक पुलिस ने यहां पर NOISE POLLUTION चैक किया। संतोकबा दुर्लभजी, सिविल लाइन्स, गवर्नर हाउस, नगर निगम, बड़ी चौपड, राजापार्क व शास्त्रीनगर में लेवल अधिक मिला। शहर में बढ़ते वाहनों ने ध्वनि प्रदूषण का ‘डेसीबल’ बढ़ा दिया है। 70% ध्वनि प्रदूषण वाहनों के हॉर्न से हो रहा है। एक्सपर्ट का कहना है कि आम आदमी के लिए 55 डेसीबल से ज्यादा की ध्वनि खतरनाक है।

खबरें और भी हैं...