पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Pitbull Will Be Imprisoned With The Municipal Corporation For 7 Days, The Caretaker Said He Is One And A Half Year Old, The Bigger It Is, The More Dangerous It Will Be, Monitoring Will Be Done From Aggression To Behavior

बच्चे को नोंचने वाला डॉग सलाखों के पीछे पहुंचा:7 दिनों तक नगर निगम के पास कैद रहेगा पिटबुल, एग्रेशन-बिहेवियर की होगी मॉनिटरिंग; एसएमएस में भर्ती बच्चे की हालत अब भी नाजुक

जयपुर15 दिन पहले

जयपुर में अजमेर रोड पर टैगोर नगर में तीन दिन पहले बच्चे को नोंच खाने वाला खूंखार कुत्ता अब सलाखों के पीछे पहुंच गया है। नगर निगम जयपुर की टीम सात दिनों तक इस पिटबुल की मॉनिटरिंग करेगी। ​​​​​​यहां उसके ​एग्रेसन से लेकर बिहेवियर तक की पूरी मॉनिटरिंग की जाएगी। सलाखों के अंदर ही पिटबुल डॉग पर दिन व रात निगरानी रखी जाएगी। खाने पर भी ध्यान रखा जा रहा है। परिवहन मंत्री प्रताप सिंह ने एक दिन पहले ही इस डॉग को राज्य में बैन करने की बात कही थी। डॉग के हमले में घायल बच्चा विशाल का एसएमएस अस्पताल में इलाज चल रहा है।

पिटबुल डॉग को नगर निगम में सलाखों के पीछे रखा गया है।
पिटबुल डॉग को नगर निगम में सलाखों के पीछे रखा गया है।

नगर निगम में डॉग की निगरानी कर रहे राकेश शर्मा ने बताया कि दो दिनों से डॉग बिल्कुल सामान्य है। उसे पुलिस और खुद मालिक ही लेकर आए थे। उसे सुबह और शाम दूध, ब्रेड, कैल्शियम बोन, पैडीगरी खाने के लिए दिए जा रहे हैं। उसे नॉन वेज बिल्कुल भी नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि डॉग काफी खतरनाक और खूंखार होता है। उनका कहना है कि अभी पूरी तरह से इसकी ग्रोथ नहीं हुई है। यह अभी डेढ़ साल के करीब है। जैसे ये बड़ा होगा यह ज्यादा खतरनाक होगा। अंदर यह चुपचाप बैठा रहता है। इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है।

पिटबुल डॉग को केयरटेकर राकेश देखते हुए।
पिटबुल डॉग को केयरटेकर राकेश देखते हुए।

जानिए- आखिर हुआ क्या था
जयपुर में अजमेर रोड पर टैगोर नगर में सोमवार को पिटबुल नस्ल के पालतू कुत्ते ने 11 साल के बच्चे विशाल पर हमला कर दिया था। वह बहन निशा के साथ कमरे में था। पिटबुल डॉग बाहर गार्डन में बंधा हुआ था। अचानक उसकी चेन खुल गई और वह भौंकते हुए सीधे कमरे में आ गया। आते ही उसने विशाल पर हमला कर दिया। उसके सिर और जांघ को नोंच लिया। 20 से ज्यादा जख्म उसके शरीर पर हो गए थे। विशाल कमरे में ही बेहोश हो गया था। पिता जगदीश और मां लौट कर आए तो वह कमरे में लहूलुहान अवस्था में था। उसे बाहर लेकर गए और बच्चे को अस्पताल में भर्ती करवाया। अभी भी बच्चे का एसएमएस अस्पताल में इलाज चल रहा है। उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।

खबरें और भी हैं...