पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Pitliya Said If The Withdrawal Of Nominations Had Taken More People With Them, The Congressmen Would Have Picked Up, Hence Secretly Picked Up The Form By Going Backwards.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पितलिया का 6 दिन में तीसरा ऑडियो आया:पितलिया ने भाजपा नेता से कहा- नामांकन वापसी का प्रचार करता तो कांग्रेस वाले भीड़ से उठा ले जाते, इसलिए पीछे के रास्ते से गया

जयपुर13 दिन पहले
रायपुर सरंपच भाजपा नेता रामेश्वर छींपा और लादूलाल पितलिया की बातचीत का ऑडियो सामने आया है- (फाइल फोटो)

भीलवाड़ा जिले की सहाड़ा सीट पर भाजपा से बगावत कर यू-टर्न करने वाले ​लादूलाल पितलिया को लेकर उठा सियासी विवाद थम नहीं रहा है। 6 दिनों में पितलिया का तीसरा ऑडियो वायरल हुआ है। इस ऑडियो में सामने आया कि नाम वापस लेने से पहले पितलिया को कांग्रेस के नेताओं से भी डर लग रहा था। पहले के ऑडियो से भाजपा के दबाव की बात सामने आई थी। अब तीसरे ऑडियो में पितलिया ने इस डर से गुपचुप नामांकन वापस लेने की बात कही है कि उन्हें कांग्रेस नेता उठा ले जाते।

ऑडियो में हुई बातचीत पितलिया और भीलवाड़ा के रायपुर पंचायत के सरपंच और भाजपा नेता रामेश्वर छींपा के बीच की बताई जा रही है। ऑडियो के मुताबिक जब छींपा ने पितलिया को नामांकन वापस लेने के दिन गाड़ी से उतारने पर नाराजगी जाहिर की तो पितलिया बोले- नामांकन वापस लेते वक्त ज्यादा भीड़ नहीं करनी थी। ज्यादा भीड़ में कांग्रेस वाले उठाकर ले जाते और दो दिन रख लेते तो नाम भी वापस नहीं ले पाता। इसलिए साइलेंट तरीके से नाम वापस लिया।

नए ऑडियो में दो बातें साफ हुई

ऑडियो से दो बातें नई निकलकर आई हैं। एक तो पितलिया कांग्रेस से भी खतरा बता रहे हैं कि कांग्रेस के लोग उन्हें उठाकर ले जा सकते थे। अब तक भाजपा के दबाव की बात सामने आई थी। इसका मतलब कांग्रेस के नेता भी पितलिया को नाम वापस नहीं लेने देने का दबाव बना रहे थे। लेकिन पितलिया ने उन्हें भी चकमा दे दिया। बातचीत में एक जगह पितलिया भगवान सिंह चांदमल सोमानी, शंकरजी माली से बैठकर चर्चा का जिक्र कर रहे हैं कि ये लोग जो कहेंगे व​ह किया जाएगा। ये तीनों लोग भीलवाड़ा आरएसएस के पदाधिकारी हैं। संगठन में इनकी प्रमुख भूमिका है। इससे यह भी साफ हो गया कि आरएसएस का एक बड़ा धड़ा पितलिया का शुभचिंतक है।

5 अप्रैल को जयपुर में सतीश पूनिया के आवास पर लादूलाल पितलिया के साथ रायपुर सरपंच रामेश्वर छींपा (बाएं से तीसरे)
5 अप्रैल को जयपुर में सतीश पूनिया के आवास पर लादूलाल पितलिया के साथ रायपुर सरपंच रामेश्वर छींपा (बाएं से तीसरे)

वायरल ऑडियो में बातचीत...
छींपा: क्या संजू यार, कल से फोन लगा रहा हूं, फोन ही नहीं लग रहा है, इस बीच फोन पितलिया को दिया जाता है।
छींपा: जयश्रीराम।
पितलिया: जयश्रीराम, चाय पानी हो गया?
छींपा: हो गया। अब मेरा निवेदन है,आगे क्या करना है? यार पितलिया जी, अब मैं दुविधा में पड़ गया। संगठन में मुझे बदनाम कर रखा है। संगठन के लोग कह रहे हैं पितलियाजी को छींपा साहब ने ही गुमराह कर रखा है। पूरा मेरे खिलाफ वायुमंडल बना रखा है संगठन में।
पितलिया: मैं तो निर्दलीय लड़ता कोई तकलीफ ही नहीं रहती। आप कहो उनसे।
छीपां: पितलियाजी अब सुनो, आप कब इधर आ रहे हो। हम दोनों घंटे भर शांत वातावरण में बैठकर चर्चा कर लेते हैं, या तो आप आ जाओ नहीं तो मैं आ जाता हूं। हम भविष्य की लाभ हानि के बारे में चर्चा कर लें।
पितलिया: मैं कल आ जाऊं।
छींपा: आप जहां कहीं भी हो ,मैं आ जाऊं। मैं अकेला आ जाता हूं। रामनाथजी को ले आता हूं। और लोगों पर मुझे विश्वास नहीं है। पहले हम तीनों बैठकर चर्चा कर लें।
पितलिया: अपन पहले भगवानसिंहजी, आप और जो भी विचारधारा के लोग हैं उनसे बैठकर चर्चा कर लें। हम सबकी राय लेकर ही गए थे, लेकिन सब कुछ उल्टा हो गया। पूरी तरह उल्टा हो गया।
छीपां: मेरी बात सुनो।
पितलिया: केवल तीन ही नहीं, आरएसएस की पूरी टीम के साथ बैठकर बात करेंगे। जो टीम कहेगी वह करेंगे। भगवानजी, चांदमलजी सोमानी, शंकरजी माली सब पदाधिकारी सहित 20 की टीम से बात करेंगे। आप जो कहेंगे वह मैं करुंगा।
छींपा: आप आज ही बैठो, डिले मत करो, डिले करने में आपका भी नुकसान है और हमारा भी। मेरे जैसा व्यक्ति न घर का रहा न घाट का। मेरे विरोधी जितने भी हैं वे यह प्रचार करने में सफल हो गए कि यह सरा खेल छींपाजी ने करवाया है। जबकि आप 25 तारीख से मेरे संपर्क में नहीं हो, मेरे से कोई राय मशविरा नहीं हुई। इसके बाद मुझे बदनाम करने की कहां आवश्यकता है?
पितलिया: भीलवाड़ा में सब पदाधिकारी मिल जाएंगे, वहां बैठकर सब चर्चा हो जाएगी। आप जो कहेंगे मैं वह करूंगा।
छींपा: मैं भीलवाड़ा आ रहा हूं, लोगों को इकट्ठा कर लेता हूं। आज रख लेता हूं।
पितलिया: कल रख लेते तो ठीक रहता।
छींपा: मेरी बात सुनो... आपके साथ डेढ़ माह से लग रहा हूं। केवल संगठन के लिए लग रहा हूं। भाजपा हमारी मजबूत हो। उसके लिए काम करना है। इसलिए लग रहा हूं। मूल बात है आप आ जाओ, जैसा चाहो वह होगा। जो समय निकल गया, तीन दिन का खराब समय था वह निकल गया। भविष्य में हमें आगे बढ़ना है।
पितलिया: कल रख लो, कल विजय को बुला लूं, सब बैठकर बात करें। टीम कहेगी वह कर लूंगा।
छींपा: अब भी विरोधी हमें बदनाम करें, हमारी परीक्षा है। आप संगठन के लिए काम आएंगे। ​​​​​
पितलिया: भीलवाड़ा की टीम जो कहेगी कर लूंगा...।
छींपा: टीम का मतलब संगठन के जो अच्छे लोग हैं वो जो कहें वह करें। इस समय हमारी परीक्षा है। आप संगठन के लिए बहुत काम आएंगे।​​​​​​​
पितलिया: विजय को बुला लेता हूं। विजय भीलवाड़ा की टीम से भी बात कर लेगा और ऊपर भी बात कर लेगा।
छींपा: आज कितने बजे रखें , आप आज ही आ जाओ, कितने बजे रखूंं। विजय को बुला लो।
पितलिया: हां..हां..​​​​​​​
छींपा: मेरा निवेदन, इस जंग में आपका मूल काम है। संगठन में सब लोगों के प्रति आपका सम्मान है, हकीकत बात है। कई बार ग्रह गौचर आ जाते हैं ऐसे, जिससे नुकसान हो जाता है, आप हताश न हो। संगठन आपके साथ है। आपके सम्मान में कहीं कमी नहीं आएगी। मैंने टिकट की दावेदारी आपके लिए छोड़ी। मेरी पहचान नहीं है क्या? मेरे प्रति जो स्थानीय निगेटिव लोग हैं वे आज फैला रहे हैं कि छींपा ने गड़बड़ किया। आप फोन बराबर उठाओ।
पितलिया: आज आ जाऊंगा, फोन चालू कर दिया है।
छींपा: जो भी करो या तो साफ कह दीजिए। 25 तारीख से श्रवणसिंह बगड़ी के साथ हो, फार्म उठाने भी बगड़ीजी को साथ ले गए। कल भी फार्म उठाने जाते वक्त मुझे रास्ते में उतार दिया। आपके साथ यह हो क्या रहा है? यह कौन करवा रहा है?
पितलिया: आप जो कह रहे हो, वैसा कुछ नहीं है। एक परसेंट भी ऐसा कुछ नहीं है। नामांकन फार्म उठाते वक्त ज्यादा भीड़ नहीं करनी थी। ज्यादा भीड़ में कांग्रेस वाले उठाकर ले जाते और दो दिन रख लेते तो फार्म ही नहीं उठा पाते। आपने पेपर में भी देखा होगा पीछे के रास्ते से गए और पीछे से ही वापस चले गए। फार्म उठाते वक्त ज्यादा बखेड़ा नहीं करना था। ज्यादा प्रचार करके लोगों को ले जाते और कोई अड़चन आ जाती तो क्या करते? इसलिए साइलेंट रूप से फार्म उठाया, भीड़ में से कोई उठाकर ले जाता और फार्म ही नहीं उठा पाते तो पूरा सत्यानाश हो जाता।
छींपा: विजय से बात कर लो और फिर आ जाइए।
पितलिया: मैं आपको फोन कर दूंगा।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

और पढ़ें