• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Platform Ticket In North Western Railway Including Jaipur For 10 Rupees From Today, Preparation To Give Unreserved Ticket

पुरानी दरों पर लौट रहीं रेलवे सुविधाएं:जयपुर समेत उत्तर पश्चिम रेलवे में प्लेटफॉर्म टिकट आज से 10 रुपए में, अनरिजर्व टिकट देने की तैयारी

जयपुर11 दिन पहलेलेखक: शिवांग चतुर्वेदी/एलडी बोहरा
  • कॉपी लिंक
दिल्ली और आगरा मंडल ने गुरुवार को प्लेटफॉर्म टिकट की पुरानी दर ₹10 रुपए लागू कर दी है। - Dainik Bhaskar
दिल्ली और आगरा मंडल ने गुरुवार को प्लेटफॉर्म टिकट की पुरानी दर ₹10 रुपए लागू कर दी है।

दिल्ली और आगरा मंडल ने गुरुवार को प्लेटफॉर्म टिकट की पुरानी दर ₹10 रुपए लागू कर दी है। इधर, जीएम विजय शर्मा ने जयपुर, जोधपुर, अजमेर और बीकानेर मंडल के डीआरएम के साथ वर्चुअल बैठक की और प्लेटफॉर्म टिकट की दर कम करने को लेकर निर्देश दिए।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया शुक्रवार 12 बजे के बाद प्लेटफार्म टिकट की दरें होंगी या फिर 15-25 किया जा सकता है। रेलवे बोर्ड ने कोरोना को देखते हुए स्टेशनों पर भीड़ रोकने के लिए आगंतुकों के प्रवेश को वर्जित करने का निर्देश दिया था।

करीब एक साल तक सिर्फ रिजर्वेशन टिकट वाले यात्रियों को ही स्टेशन में प्रवेश की अनुमति दी गई। बाद में डीआरएम को प्लेटफॉर्म टिकट की दर तय करने का अधिकार दिया गया। इसके बाद प्लेटफॉर्म टिकट ₹10 से ₹30 रुपए फिर ₹50 रुपए कर दिया गया। जयपुर सहित सभी मंडलों में इसे 30 नवंबर तक प्रभावी कर दिया।

जयपुर सहित चारों मंडलों में प्लेटफॉर्म टिकट को पुरानी दर पर शुक्रवार देर रात तक अपडेट किया जा सकता है। रेलवे के वाणिज्य विभाग से जुड़े वरिष्ठ अधिकारियों की दलील है कि प्लेटफॉर्म टिकट की बिक्री रेलवे आय प्रमुख स्त्रोत नहीं है। ये निर्णय तो कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए और स्टेशनों पर अनावश्यक भीड़ को नियंत्रित करने के लिए लिया गया था।

रेलवे ने अनरिजर्व टिकट के लिए ट्रेनों की सूची भी मांगी
रेलवे बोर्ड ने गुरुवार देर शाम उत्तर पश्चिम रेलवे सहित सभी जोनल रेलवेज से कहा हैकि रेलवे बोर्ड अनारक्षित कोचों में फिर से सामान्य/जनरल टिकट से यात्रा की अनुमति देना चाहता है तो ऐसे में शुक्रवार तक उन ट्रेनों की सूची भेजी जाए जिनमें जनरल कोच रिजर्व श्रेणी के बनाकर चलाए जा रहे हैं। डेढ़ साल से रेलवे ने ट्रेनों के सामान्य/जनरल कोच को भी सैकंड सीटिंग (2-एस) में बदलकर रिजर्व श्रेणी में संचालित किया जा रहा था।

खबरें और भी हैं...