तबादलों पर राजनीतिक विवाद:बिजली कंपनियों में तबादलों पर राजनीतिक विवाद, दोबारा वहीं लगाने पड़ रहे हैं इंजीनियर

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिछले 10 दिन में हुए तबादलों में हटाए इंजीनियरों के पक्ष में विधायक खड़े हुए

प्रदेश की सरकारी बिजली कंपनियों में तबादलों पर राजनीतिक विवाद हो गया है। पिछले 10 दिन में हुए तबादलों में हटाए इंजीनियरों के पक्ष में विधायक खड़े हो गए है। ऐसे में शिकायतों के बाद हटाए इंजीनियरों को भी दोबारा वहीं लगाना पड़ रहा है। वहीं दूसरे क्षेत्र के विधायकों के विधानसभा क्षेत्र की डिजायर के बाद हटाए इंजीनियरों का ट्रांसफर निरस्त करने का भी दबाव बढ़ गया है। हालांकि जयपुर डिस्कॉम सहित अन्य बिजली कंपनियों में ऊर्जा मंत्री की स्वीकृति के बाद ही तबादला सूचियां जारी हुई है।

कृषि मंत्री लाल चंद कटारिया के हस्तक्षेप के बाद झोटवाड़ा सबडिवीजन में दीपक गुर्जर व एचटीएम -प्रथम में रजत जैन को दुबारा लगा दिया है। एचटीएम प्रथम में लगाए आशीष गुप्ता को हटाने से कांग्रेस में अंदरूनी विवाद हो गया है। एईएन आशीष गुप्ता भी कांग्रेस की महिला नेता के बेटे है तथा ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला की सिफारिश के बाद लगे थे। लेकिन कटारिया ने हस्तक्षेप कर गुप्ता हो हटा दिया।

वहीं विद्याधर नगर व आमेर विधानसभा क्षेत्र के सबडिवीजनों में पोस्टिंग मसले पर कांग्रेस प्रत्याशियों से राय मशविरा नहीं किए जाने से उनकी नाराजगी बढ़ी है। इससे पहले डिस्कॉम के सचिव जगजीत सिंह मोंगा को जेईएन शिव कुमार गोयल, अनिरुद्ध जाखड़, मोहम्मद सैफ व नम्रता शर्मा के तबादलों में भी बदलाव करना पड़ा है। वहीं ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला के राजधानी से बाहर होने के कारण अब 30 सितंबर को तबादला सूचियों का रिव्यू किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...