शिक्षा विभाग:5 करोड़ के घोटाले की तैयारी, बिना परीक्षा स्कूलों में भिजवा रहे हैं 9वीं व 11वीं के पेपर

जयपुर6 महीने पहलेलेखक: विनोद मित्तल
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

शिक्षा विभाग की ओर से कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के कारण भले ही 9वीं और 11वीं की वार्षिक परीक्षा निरस्त की जा चुकी हो, लेकिन इस परीक्षा के प्रश्न पत्र जिलों में भेजने का काम चल रहा है। माना जा रहा है कि परीक्षा निरस्त होने के बावजूद पेपर छापने वाली फर्म को फायदा पहुंचाने और कमीशन के चक्कर में जिलों में जबरन पेपर पहुंचाए जा रहे हैं।

अगर किसी जिले के अधिकारी पेपर लेने के मना करते हैं तो बाकायदा उस पर पेपर लेने के लिए दबाव बनाया जाता है। कई जिलों के अधिकारियों ने बताया कि पेपर लेना हमारी मजबूरी है। लेकिन यह पेपर रद्दी के अलावा अब कुछ नहीं है। पेपर आए हैं तो भुगतान भी करना पड़ेगा। स्कूलों में पेपर जिस कक्ष में रखे हैं उसको सील भी किया जा गया है।

कई अधिकारियों ने बताया कि कोरोना काल में परीक्षा निरस्त होने के बावजूद पेपर भिजवाना बजट का दुरुपयोग है। हालांकि पेपर वितरण से जुड़े अधिकारी कहते हैं कि परीक्षा निरस्त होने से पहले ही टेंडर हो गया था। इसलिए पेपर भेजे जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि इन पेपर तैयार करने के लिए 5 करोड़ से अधिक का टेंडर दिया गया था।

सरकार ने मना किया, फिर भी तैयार कराए पेपर

हर साल इन दोनों कक्षाओं के पेपर जिला स्तर पर ही तैयार कराए जाते हैं। पहली बार राज्य स्तर पर पेपर तैयार कराए गए। इसका जिम्मा पंजीयक शिक्षा विभागीय परीक्षाएं बीकानेर को दिया गया। सरकार ने 17 मार्च 2021 को स्पष्ट कर दिया था कि परीक्षाएं पहले की भांति जिला स्तर पर ही होगी। इसके बावजूद एक फर्म को टेंडर देकर राज्य स्तर पर पेपर तैयार कराए गए।

प्रश्न पत्र छपवाने का टेंडर पहले ही किया जा चुका था। परीक्षाएं बाद में निरस्त हुई। इसलिए जिलों में पेपर पहुंचाना हमारी मजबूरी है। निदेशालय से भी यही निर्देश है कि भले ही परीक्षा निरस्त हो गई हो, पेपर तो पहुंचा दिए जाएं। - पालाराम मेवता, पंजीयक शिक्षा विभागीय परीक्षाएं बीकानेर

बिना परीक्षा ही स्कूलों में पेपर पहुंचाना गलत है। पुराने आदेश की लकीर पीटी जा रही है। इसमें कोई खेल हो रहा है। शिक्षामंत्री को दखल देकर इस पूरे मामले की जांच करानी चाहिए। -विपिन प्रकाश शर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, राजस्थान प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षक संघ

खबरें और भी हैं...