पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Raghu Sharma Said Rajendra Rathod Neither In Three Nor In Thirteen, Rathod's Counterattack I Won Neither In 13 Nor In 3 But Seven Times, You Fought Seven Times And Won Only Twice

ट्विटर पर भिड़े स्वास्थ्य मंत्री और उपनेता प्रतिपक्ष:रघु शर्मा बोले- राजेंद्र राठौड़ न तीन में न तेरह में, राठौड़ का पलटवार- मैं 3 में न 13 में लेकिन 7 बार जीता,आप सात बार लड़कर दो बार ही जीते

जयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजेंद्र राठौड़ और रघु शर्मा- फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
राजेंद्र राठौड़ और रघु शर्मा- फाइल फोटो।

प्रदेश में चल रही सियासी उठापटक के बीच स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा और उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ के बीच ट्विटर पर जमकर नोकझोंक हुई। दोनों ने एक दूसरे पर जमकर शब्दबाण चलाएं। शुरुआत स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने राठौड़ पर निशाना साधकर की, बाद में ट्विटर पर दोनों के बीच वार पलटवार चलता रहा। रघु शर्मा ने कहा-राजेंद्र राठौड़ न तीन में न तेरह में, न वसुंधरा राजे के खेमे में, न सतीश पूनिया के खेमे में।

रघु शर्मा के इस बयान का राजेंद्र राठौड़ ने ट्विटर पर पलटवार करते हुए लिखा- चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा जी, आपने ठीक कहा ना मैं 3 में हूं और ना ही 13 में। मैं भाजपा कार्यकर्ता के रूप में जनता के अपार प्रेम और आशीर्वाद की बदौलत लगातार सातवीं बार विधायक निर्वाचित हुआ हूं। मगर मेरे साथ राजनीतिक सफर शुरू करने वाले मित्र आपकी कार्यशैली तो ऐसी रही है कि आप 7 चुनाव लड़कर मात्र 2 बार ही विधानसभा में पहुंच पाए।

राजेंद्र राठौड़ जी भाजपा प्रदेशाध्यक्ष को हराने के लिए आपने पहला चुनाव लड़ा केवल 2000 वोट आए थे

रघु शर्मा ने राठौड पर कटाक्ष करते हुए लिखा- राजेन्द्र राठौड़ जी, पहला चुनाव आपने 1980 में जनता दल से भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष स्व. जगदीश प्रसाद माथुर को हराने के लिए लड़ा। जिसमें आपको मात्र 2000 वोट आए। उसके बाद 1985 में ही जनता दल से ही चूरु से चुनाव लड़ा और आपकी ज़मानत ज़ब्त हो गई। उसके बाद हुए चुनाव में आप जनता दल से जीते और पार्टी का विघटन करके आप भाजपा में चले गए। मैं तीन चुनाव जीता जिसमें एक अजमेर लोकसभा का भी चुनाव शामिल है जिसमें आठों विधानसभाओं से भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा। आप भी प्रदेश के चिकित्सा मंत्री रहे हो और जब व्यवस्थाएं आपसे नही संभली और अधिकारी आपकी नही सुनते थे तो आपको कोटा में कहना पड़ा की मैं शर्मिंदा हूं कि मैं राज्य का चिकित्सा मंत्री हू, वह बात भी आपको नहीं भूलनी चाहिए।

राठौड़ का पलटवार, आपकी याददाश्त कमजोर हो गई, 1985 के चुनाव में चूरू से 5000 वोटों से हारकर दूसरे नंबर पर था फिर हार नहीं देखी

राजेंद्र राठौड़ ने रघु शर्मा के जवाब पर फिर पलटवार करते हुए शायराना अंदाज में लिखा- ना इतराओ इतना, बुलंदियों को छूकर, वक्त के सिकन्दर पहले भी कई हुए हैं,जहां होते थे कभी शहंशाह के महल,देखे हैं वहीं, अब उनके मकबरे बने हुए हैं। आपकी याददाश्त शायद कमजोर हो गई। 1985 के चुनावों में मैं चूरू से लगभग 5000 वोटों से हारकर दूसरे नंबर पर था और उसके बाद कभी हार नहीं देखी। आगे राठौड़ ने लिखा- हाथ कंगन को आरसी क्या, पढ़े लिखे को फ़ारसी क्या, तेल देखो, तेल की धार देखो। समय का चक्र घूम रहा है, अगले चुनाव में ढाई साल बाद फिर किसी मोड पर चुनाव का इतिहास लिखा जाएगा। अग्रिम शुभकामनाएं मेरे छात्र जीवन के मित्र।

रघु शर्मा ने लिखा- जिनके घर शीशे के होते हैं वे बाल सखाओं पर पत्थर नहीं फैंका करते
राठौड़ के पलटवार के बाद रघु शर्मा ने फिर जवाब दिया। रघु शर्मा ने लिखा- मेरे दोस्त, मेरे सखा, मेरे सम्माननीय जिनके स्वयं के घर शीशे के बने होते हैं वह बाल सखाओं पर पत्थर नहीं फेंका करते। इसके बाद शायराना जवाब देते हुए लिखा- "ना डरा मुझे ए दोस्त...नाकाम होगी तेरी हर कोशिश...जिंदगी के मैदान में खड़ा हूं, दुआओं का काफिला लेकर...! उजाले हमारी यादों के तुम्हारे साथ रहने दो, ना जाने जिंदगी की किस गली में शाम हो जाए।

खबरें और भी हैं...