• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Raj 40 Complaints, Till Date Not A Single Online Loan App Gang Has Been Caught, Because The Police Do Not Register The Case

ऑनलाइन लोन ऐप गिरोह का सेक्सुअल हैरेसमेंट:तुम्हारा आधार कार्ड सैक्स रैकेट-ड्रग डील में इस्तेमाल करेंगे...रिश्तेदारों को मैसेज- ये लोन चोर है

जयपुर4 महीने पहलेलेखक: रणवीर चौधरी

ऑनलाइन लोन ऐप का टॉर्चर लाइलाज बीमारी बन गया है। पुलिस भी इस बीमारी का बढ़ा रही है। राजस्थान में हर दिन 30 से 40 शिकायतें मिल रही हैं। इसके बावजूद पुलिस मामले दर्ज नहीं करती। यही वजह है कि राजस्थान में आज तक एक भी बड़े ऑनलाइन ऐप गिरोह का खुलासा नहीं हो पाया है।

ऑनलाइन ट्रैप में फंसे कई लोग बदनामी के डर से पुलिस तक पहुंचते नहीं है और जो पहुंचते हैं, पुलिस उन मामलों में भी महीनों तक मुकदमा दर्ज नहीं करती। यही वजह है कि ऑनलाइन सूदखोर लोगों को ड्रग केस और सैक्स रैकेट में फंसाने की धमकी देकर वसूली करते हैं।

कुछ समय पहले आरबीआई ने ऑनलाइन लोन एप से उधार न लेने के विज्ञापन जारी किए। प्ले स्टोर से सैकड़ों एप भी डिलीट किए गए, लेकिन कुछ समय बाद ही नाम बदलकर ऐप वापस एक्टिव कर दिए गए।ऑनलाइन लोन ऐप का जाल इतना बड़ा है कि देश में सिर्फ एक ऐप ने 87.15 लाख लोगों से 4572 करोड़ की ठगी थी। ऐसे में ऐसे सैकड़ों ऐप की ठगी के गणित का अंदाजा लगा सकते हैं। आज की इस कड़ी में पढ़िए- लोन ऐप वाले ये सूदखोर कितने भयावह तरीके के प्रताड़ित करते हैं?

ब्लैकमेल कर लाखों वसूल रहे, पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही

राजस्थान में आए दिन ऑनलाइन लोन ऐप के जरिए लोगों को ब्लैकमेल कर जबरन लाखों रुपए वसूले जा रहे हैं, लेकिन पुलिस अभी तक एक भी गिरोह को पकड़ नहीं पाई है। हालात यह है कि महीनों तक लोगों की एफआईआर ही दर्ज नहीं होती। मामला दर्ज भी होता है तो उसमें कार्रवाई नहीं होती है।