BJP 200 विधानसभा क्षेत्रों में 1 दिसम्बर से निकालेगी रथयात्रा:गहलोत सरकार के 4 साल का होगा विरोध, राजनीतिक प्रस्ताव पास

जयपुर3 महीने पहले
BJP 200 विधानसभा क्षेत्रों में 1 दिसम्बर से निकालेगी रथयात्रा

BJP राजस्थान के सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों में 1 दिसम्बर से रथ यात्रा के साथ जन आक्रोश रैलियां शुरू करेगी। जन आक्रोश रैली और रथ यात्रा से पहले प्रदेश की गहलोत सरकार के खिलाफ आंदोलन की शुरुआत 26 नवम्बर से हो जाएगी। जयपुर में 26 नवंबर को प्रदेश बीजेपी मुख्यालय में प्रेस वार्ता रखी गई है। 27 नवंबर को सभी जिलों में बीजेपी नेता प्रेस कांफ्रेंस कर कांग्रेस सरकार के खिलाफ हल्ला बोल करेंगे। 25 से 30 नवंबर तक सोशल मीडिया पर अभियान चलाया जाएगा। 29 नवम्बर को जयपुर में प्रदेश स्तरीय रथ यात्रा की लॉन्चिंग की जाएगी। फिर 30 नवम्बर को जिलों में और 1 दिसंबर को सभी 200 विधानसभा क्षेत्र में रथयात्राएं निकलनी शुरू हो जाएंगी। 17 दिसंबर को काला दिवस मनाएंगे। ग्राम पंचायत स्तर पर ग्राम चौपाल 1 से 10 दिसंबर तक लगाई जाएगी। 20 दिसंबर तक जनआक्रोल रैली निकाली जाएगी। प्रदेश लेवल पर प्रेस वार्ता 11 दिसंबर को होगी। इसके बाद बड़ा प्रदर्शन किया जाएगा।

विरोध प्रदर्शन के कार्यक्रम 17 दिसम्बर को गहलोत सरकार की चौथी वर्षगांठ तक जारी रहेंगे। 17 दिसम्बर को बीजेपी पूरे राजस्थान में काला दिवस मनाएगी। राजस्थान बीजेपी की झुंझुनूं में हुई प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में यह प्रस्तावित कार्यक्रम तैयार किया गया है। बीजेपी ने झुंझुनूं में हुई कार्यसमिति में प्रस्ताव पास कर सरकार के खिलाफ जन आंदोलन करने और 2023 में कांग्रेस सरकार को उखाड़ फेंकने का संकल्प लिया है।

अरुण सिंह,प्रदेश प्रभारी और राष्ट्रीय महामंत्री,बीजेपी।
अरुण सिंह,प्रदेश प्रभारी और राष्ट्रीय महामंत्री,बीजेपी।

बीजेपी प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने कार्यसमिति की बैठक में कहा- प्रदेश की कांग्रेस सरकार के 4 साल 17 दिसम्बर को पूरे होने जा रहे हैं। सरकार जश्न मनाएगी, लेकिन जनता में गहलोत सरकार के खिलाफ आक्रोश है। ये जन आक्रोश किसके खिलाफ है ? जन आक्रोश तुष्टिकरण के खिलाफ, किसान कर्जामाफी नहीं होने के खिलाफ, बेरोजगारी, अपराध में बढ़ोतरी, महिला दुष्कर्म, भ्रष्टाचार के खिलाफ है।

राजनीतिक प्रस्ताव पास

बीजेपी ने एक राजनीतिक प्रस्ताव भी बैठक के दौरान पास किया है। जिसमें एक तरफ पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार की जनकल्याण की योजनाओं को लेकर प्रधानमंत्री मोदी का अभिनन्दन किया गया है। दूसरी तरफ प्रदेश की कांग्रेस सरकार को हिन्दू विरोधी सरकार बताया गया है। गहलोत राज में बेलगाम अपराधी-मदहोश सरकार, 4 साल में 7 हजार निर्दोष नागरिकों की हत्या होने का आंकड़ा दिया गया है।

हिन्दुओं के धर्मांतरण की घटनाएं, दलित और किसानों की मॉब लिंचिंग में हत्याएं, भरतपुर में भगवान कृष्ण की क्रीड़ास्थली पर अवैध खनन, संत विजयदास के आत्मदाह, दो दर्जन से ज्यादा साधुओं और पुजारियों की हत्या, जयपुर में महिला शिक्षक को जिन्दा जलाकर मार डालने, दौसा में आदिवासी महिला से रेप, छबड़ा,भीलवाड़ा, करौली, जोधपुर, चित्तौड़गढ़, नोहर ,मेवात, मालपुरा और जयपुर में समुदाय विशेष की ओर से प्लांड दंगे होने, सालासर में राम दरबाह ढहाने, अलवर में ड्रिल मशीन से शिवलिंग उखाड़ने, कठूमर ममें गौशाला पर बुलडोजर चलाने, कोटा में पीएफआई को रैली निकालने की इजाजत देकर तुष्टिकरण करने के आरोप लगाए गए हैं। पीपाड़ में बारावफात के जुलूस में सर तन से जुदा के नारे लगने और राज्य सरकार के संरक्षण में हिन्दुओं के धर्मांतरण की दर्जनों घटनाएं घटने के आरोप लगाए गए हैं। भीलवाड़ा में महिलाओं की तस्करी कर स्टाम्प पेपर पर खरीद-फरोख्त का मामला भी उठाया गया है।

राजनीतिक प्रस्ताव में बेहाल किसान और झूठ की सरकार बताई गई है। किसान का कर्ज 10 दिन में माफ करने का वादा कर सत्ता में आई कांग्रेस पर कर्जमाफी के वादे पूरी तरह भूलने, किसानों की जमीनें नीलाम होने, दर्जनों किसानों की आत्महत्या के मुद्दे उठाए गए हैं। पिछली बीजेपी सरकार की ओर से किसानों को सालाना 10 हजार रुपए बिजली पर सब्सिडी को लम्बे समय तक रोककर रखने के भी आरोप जड़े गए हैं। बाजरा खरीद 2350 रुपए की MSP पर नहीं होने और 1400 रुपए क्विंटल पर किसान को बाजरा बेचने पर मजबूर होने का दर्द भी बयां किया गया है।

27 लाख बेरोजगार युवाओं को राहुल गांधी की ओर से 3500 रुपए बरोजगारी भत्ता देने का वादा करने लेकिन 50 हजार युवाओं को भी इसका फायदा नहीं मिल पाने, सीएमआईई के आंकड़ों के अनुसार 30.7 फीसदी बेरोजगारी दर के साथ राजस्थान के देश में दूसरे स्थान पर होने, बिजली-पानी-स्वास्थ्य की बदहाली से जनता त्रस्त और सरकार मस्त होने, 9 बार बिजली की कीमतें अब तक बढ़ने, ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान के पिछले 3 साल से भ्रष्टाचार में देश में नंबर 1 पर होने, राजस्थान के हर परिवार पर 3 लाख 37 हजार का कर्ज होने, यूजीसी को राज्य के 30 जिलों को पिछड़ा घोषित करना पड़ा, क्योंकि 476 कॉलेजों में से 386 में प्रिंसिपल ही नहीं हैं। 15 राज्यों में गौवंश में फैली लंपी बीमारी में अकेले राजस्थान में 70 फीसदी गौवंश की मौत के आरोप लगाए हैं।

झुंझुनूं में बीजेपी कार्यसमिति की बैठक

बीजेपी आज सरदारशहर विधानसभा उपचुनाव टिकट के लिए उम्मीदवार भी फाइनल करेगी। प्रदेश की गहलोत सरकार के खिलाफ राजनीतिक प्रस्ताव भी इस बैठक में पास होगा। बीजेपी के 500 से ज्यादा नेताओं ने झुंझुनूं के चुड़ैला में कैम्प कर रखा है। जहां प्रदेश कार्यसमिति और कोर कमेटी की बैठक हो रही है। बैठक में राष्ट्रीय पदाधिकारी, कार्यसमिति सदस्य, प्रदेश कोर कमेटी सदस्य, प्रदेश पदाधिकारी, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य, मोर्चों के प्रदेश अध्यक्ष, मोर्चों के राष्ट्रीय पदाधिकारी, जिला प्रभारी, सह प्रभारी, जिला अध्यक्ष, प्रकोष्ठ और विभाग के प्रदेश संयोजक, सांसद, विधायक, जिला प्रमुख, महापौर और विस्तारक योजना संभाग प्रभारी शामिल हैं। प्रदेश की कांग्रेस सरकार की चौथी वर्षगांठ पर जन मुद्दों पर सरकार को चौतरफा घेरने से लेकर आगमी विधानसभा आम चुनाव-2023 तक की जिम्मेदारियां तय करने की स्ट्रेटेजी बैठक में बनाई जा रही है।

प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में प्रदेश कोर कमेटी भी शामिल है। मंच पर प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह, सह प्रभारी विजया राहटकर, प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, पूर्व CM और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे, केंद्रीय चुनाव समिति और कोर कमेटी सदस्य ओपी माथुर, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर मिश्रा, उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुनराम मेघवाल, कैलाश चौधरी, सांसद और राष्ट्रीय प्रवक्ता राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़, राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य जसकौर मीणा, अरुण चतुर्वेदी, सांसद सीपी जोशी समेत कई नेता शामिल हुए। अलग-अलग सेशन को ये नेता संबोधित कर रहे हैं।

बैठक में ये एजेंडे

-राजस्थान की गहलोत सरकार की चौथी वर्षगांठ 17 दिसम्बर को होने जा रही है। सरकार इस दौरान उत्सव और जश्न मनाएगी। बीजेपी काला दिवस मनाएगी।

- गहलोत सरकार की चौथी वर्षगांठ से पहले आंदोलन की रणनीति तय होगी।

-राजस्थान के सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों में जन आक्रोश रैली और प्रचार वाहनों के जरिए विरोध प्रदर्शन का शेड्यूल तय होगा।

- जयपुर में बीजेपी की प्रदेश स्तर की बड़ी रैली और जनसभा की तैयारी होगी। जिसमें पीएम मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय नेताओं को आमंत्रित करने की प्लानिंग है।

-चूरू के सरदारशहर में विधानसभा उपचुनाव के लिए उम्मीदवार फाइनल किया जाएगा।

- बूथ मैनेजमेंट से लेकर चुनाव मैनेजमेंट तक नेताओं की जिम्मेदारियां तय की जाएंगी।

- विधानसभा चुनाव 2023 की तैयारी के लिए स्ट्रैटेजी तैयार होगी।

-लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर वर्कप्लान और कार्यक्रमों पर चर्चा होगी।

- पदाधिकारी-नेताओं की विधानसभा चुनाव के लिए जिम्मेदारियां तय की जाएंगी।

-पार्टी संगठन के आगामी प्रोग्राम, रैलियां, सभाएं, आंदोलन पर चर्चा होगी।

- जिलों में बीजेपी कार्यालय शुरू करने और उद्घाटन कार्यक्रमों का रोड मैप तैयार होगा।

- बीजेपी नेताओं की घर वापसी और दूसरी पार्टी के नेताओं की पार्टी में जॉइनिंग पर एक राय बनाई जाएगी

-कांग्रेस और गहलोत सरकार के खिलाफ ज्वलंत मुद्दों पर चर्चा कर उन्हें प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर उठाने की तैयारी होगी।

2023 में अब तक की सबसे बड़ी जीत भाजपा की होगी

‘’राजस्थान में भाजपा की विजय लहर चल रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में शेखावाटी से लेकर पूरे राजस्थान में 2023 में अब तक की सबसे बड़ी जीत भाजपा की होगी और यह जीत हमेशा के लिए एक नया इतिहास बन जाएगी। प्रदेश में भाजपा की जीत में सबसे बड़े कारक मोदी सरकार की जनकल्याणकारी नीतियां होंगी। पूरे प्रदेश में बूथ और पन्ना लेवल तक 90 प्रतिशत से ज्यादा काम पूरा हो चुका है। कांग्रेस सरकार के खिलाफ पूरे प्रदेश में एंटीइन्कंबेन्सी का माहौल है। कांग्रेस के कुशासन का 2023 में हमेशा के लिए जनता खात्मा कर देंगी। 2023 में भाजपा की तीन चौथाई बहुमत की सरकार बनेगी। बीजेपी राजस्थान को विकसित और आत्मनिर्भर बनाने का काम करेगी।’’- अरुण सिंह,प्रदेश प्रभारी,बीजेपी

सतीश पूनिया,प्रदेशाध्यक्ष,बीजेपी।
सतीश पूनिया,प्रदेशाध्यक्ष,बीजेपी।

सरदारशहर विधानसभा चुनाव उम्मीदवार फाइनल होगा, मिशन-2023-24 को मिलेगी मजबूती

‘’ सरदारशहर विधानसभा सीट पर उम्मीदवार के लिए प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में चर्चा कर नाम फाइनल कर लिया जाएगा। झुंझुनूं सहित समूचे शेखावाटी क्षेत्र में भाजपा के लिए अपार संभावनाएं हैं। प्रदेश कार्यसमिति के झुंझुनूं में आयोजन से भाजपा के मिशन 2023 और 2024 को बड़ी मजबूती मिलेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में 2023 में प्रचण्ड बहुमत की राजस्थान में भाजपा सरकार बनेगी और 2024 में लोकसभा की सभी 25 सीटें भाजपा जीतेगी। प्रदेश कार्यसमिति बैठक में लगभग 500 लोग शामिल हो रहे हैं। जो मिशन 2023 और 2024 को लेकर मजबूत रणनीति के साथ चर्चा करेंगे और जनविरोधी कांग्रेस सरकार के खिलाफ प्रदेश के सभी जिलों और विधानसभा क्षेत्रों में होने वाली जन आक्रोश रैलियों को लेकर चर्चा रखी गई है। आगामी दिनों में किसानों से कर्जमाफी के नाम पर वादाखिलाफी, युवाओं के नौकरियों और बेरोजगारी भत्ते की की वादाखिलाफी, रीट पेपर लीक, ध्वस्त कानून व्यवस्था, भ्रष्टाचार का तांडव, महिला सुरक्षा जैसे मुद्दों को लेकर आंदोलनों और रैलियों के जरिए जनता के बीच जाएंगे।’’- सतीश पूनिया,प्रदेशाध्यक्ष,बीजेपी

झुंझुनूं की बैठक में शामिल पदाधिकारी

-राजस्थान के राष्ट्रीय पदाधिकारी

-प्रदेश कोर कमेटी सदस्य

-प्रदेश कार्यसमिति सदस्य

-70 बीजेपी विधायक

-लोकसभा और राज्यसभा सांसद।

- 27 प्रदेश पदाधिकारी

-बीजेपी के 7 मोर्चों के प्रदेशाध्यक्ष

-44 संगठनात्मक जिलों के अध्यक्ष

- जिलों के प्रभारी, सह-प्रभारी

-सभी बीजेपी से निगम महापौर

-सभी बीजेपी से जिला प्रमुख

-19 प्रकोष्ठों के संयोजक

- 25 विभागों के संयोजक

-सभी सम्भागों के प्रभारी

बीजेपी कोर कमेटी के 16 सदस्य

प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, केंद्रीय चुनाव समिति सदस्य और पूर्व प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश माथुर, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर मिश्रा, उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, अर्जुनराम मेघवाल, कैलाश चौधरी, राज्यसभा सांसद राजेन्द्र गहलोत, कनकमल कटारा, सीपी जोशी, विशेष आमंत्रित सदस्यों में राष्ट्रीय महामंत्री और प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह, राष्ट्रीय महामंत्री और राज्यसभा सांसद भूपेन्द्र यादव, राष्ट्रीय सचिव अलका गुर्जर, प्रदेश सह प्रभारी विजया राहटकर को आमंत्रित किया गया है।

27 प्रदेश पदाधिकारी बैठक में शामिल

प्रदेश पदाधिकारी का नाम

पद

सतीश पूनिया (विधायक)

प्रदेशाध्यक्ष

सरदार अजयपाल सिंह

उपाध्यक्ष

चन्द्रकांता मेघवाल (विधायक)

उपाध्यक्ष

सीपी जोशी (सांसद)

उपाध्यक्ष

मुकेश दाधीच

उपाध्यक्ष

हेमराज मीणा

उपाध्यक्ष

प्रसन्न मेहता

उपाध्यक्ष

माधोराम चौधरी

उपाध्यक्ष

नारायण सिंह देवल

उपाध्यक्ष

चंद्रशेखर मिश्रा

संगठन महामंत्री

मदन दिलावर (विधायक)

महामंत्री

भजनलाल शर्मा

महामंत्री

दीया कुमारी (सांसद)

महामंत्री

सुशील कटारा

महामंत्री

जितेंद्र गोठवाल

मंत्री

अशोक सैनी

मंत्री

महेंद्र यादव

मंत्री

केके विश्नोई

मंत्री

श्रवण सिंह बगड़ी

मंत्री

मधु कुमावत

मंत्री

विजेंद्र पूनिया

मंत्री

महेंद्र जाटव

मंत्री

वन्दना नोंगिया

मंत्री

कन्हैयालाल मीणा

मंत्री

रामलाल शर्मा (विधायक)

मुख्य प्रवक्ता

पंकज गुप्ता

कोषाध्यक्ष

डॉ श्याम अग्रवाल- सी.एस.

सह-कोषाध्यक्ष

प्रदेश में 25 में से 24 BJP के लोकसभा सांसद हैं

बीजेपी के लोकसभा सांसद

लोकसभा क्षेत्र

भागीरथ चौधरी

अजमेर

बालकनाथ

अलवर

कनकमल कटारा

बांसवाड़ा

कैलाश चौधरी (केंद्रीय मंत्री)

बाड़मेर

रंजीता कोली

भरतपुर

सुभाषचंद्र बहेड़िया

भीलवाड़ा

अर्जुनराम मेघवाल (केंद्रीय मंत्री)

बीकानेर

सीपी जोशी

चित्तौड़गढ़

राहुल कस्वां

चूरू

जसकौर मीणा

दौसा

निहालचंद मेघवाल

श्रीगंगानगर

रामचरण बोहरा

जयपुर

राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ (राष्ट्रीय प्रवक्ता)

जयपुर ग्रामीण

देवजी मानसिंगराम पटेल

जालौर

दुष्यंत सिंह- झालावाड़

बारां

नरेंद्र कुमार

झुंझुनूं

गजेंद्र सिंह शेखावत (केंद्रीय मंत्री)

जोधपुर

मनोज राजौरिया

करौली-धौलपुर

ओम बिरला (लोकसभाध्यक्ष)

कोटा

पीपी चौधरी

पाली

दीया कुमारी

राजसमंद

सुमेधानंद सरस्वती

सीकर

सुखबीर सिंह जौनापुरिया

टोंक-सवाईमाधोपुर

अर्जुनलाल मीणा

उदयपुर

आगे ये महत्पूर्ण ख़बर पढ़िए-

दिन में बिजली का इंतजार, 'कृषि बिजली कंपनी' कागजी घोषणा:रबी सीजन में 4500 MW बढ़ी बिजली डिमांड, सर्द रात में सिंचाई को मजबूर किसान