गहलोत के स्वस्थ होने तक कैबिनेट विस्तार पर ब्रेक!:अजय माकन बोले- तबीयत खराब न होती तो फेरबदल हो जाता; पायलट का क्या करना है, कांग्रेस अध्यक्ष तय करेंगे

जयपुर8 महीने पहले

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तबीयत खराब नहीं हुई होती, तो विधानसभा सत्र से पहले ही कैबिनेट विस्तार, राजनीतिक नियुक्तियां हो गई होतीं। अब कुछ समय के लिए इन पर ब्रेक लग गया है। सीएम की तबीयत ठीक होने के बाद ही अब काम आगे बढ़ेगा। सचिन पायलट जी का क्या करना है? एआईसीसी के स्तर पर क्या होगा? यह मेरे लेवल की बात नहीं है। यह कांग्रेस अध्यक्ष को तय करना है। अजय माकन दिल्ली स्थित एआईसीसी दफ्तर में मीडिया से बात कर रहे थे।

माकन ने कहा- 'गहलोत जी की तबीयत ठीक रहती तो अब तक कैबिनेट विस्तार हो जाता। पिछली बार मिला था, तब भी मैंने कहा था। दुर्भाग्यवश तबीयत खराब होने की वजह से यह नहीं हो सका। विधानसभा सत्र चल रहा है, लेकिन अभी भी अशोक जी घर से ही फाइलें निकाल रहे हैं। ऐसे समय में इन सब चीजों पर कुछ समय के लिए ब्रेक लगा हुआ है। पूरा रोडमैप तैयार है। क्या चीज पहले करनी है, क्या बाद में करनी है, सब रेडी है। बस गहलोत जी के जल्दी से ठीक होने का इंतजार है।'

कैबिनेट विस्तार के बाद जिलाध्यक्ष घोषित होंगे

जिलाध्यक्षों की नियुक्ति के सवाल पर अजय माकन ने कहा- कैबिनेट विस्तार के बाद जिलाध्यक्ष घोषित होंगे। पहले से ही हम लोगों का लाइन ऑफ एक्शन है कि कौन सी चीज कब करनी है। हमारे बोर्ड, कॉर्पोरेशन में भी नियुक्तियां होनी हैं। जिलाध्यक्ष भी हैं। हमने जनवरी में 38 लोगों की छोटी पीसीसी बनाई, जो अच्छे से काम कर रही है। बाकी नियुक्तियां भी एक-एक करके होंगी।
हमने सबसे रिपोर्ट ली है
जयपुर जिला प्रमुख चुनाव में क्रॉस वोटिंग और पायलट समर्थक वेद प्रकाश सोलंकी के आरोपों पर माकन ने कहा- वेदप्रकाश ने आरोप लगाए हैं। उन पर भी आरोप लगे हैं। हमने सबकी रिपोर्ट ली है। उसे हम देख रहे हैं। इससे ज्यादा कुछ नहीं कहूंगा।

खबरें और भी हैं...