वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर:राजस्थान सरकार ने वैक्सीन की एक करोड़ डोज के लिए 20 मई तक कंपनियों से मांगे प्रस्ताव

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

18+ आयु वर्ग के लोगों के वैक्सीनेशन के लिए देश में पर्याप्त वैक्सीनेशन नहीं मिलने पर अब राजस्थान सरकार ने ग्लोबल टेंडर के जरिए देश-विदेश की कंपनियों से एक करोड़ डोज सप्लाई करने की मांग की है। सरकार ने आज शॉर्ट टर्म टेंडर निकाला है, जिसमें 20 मई तक कंपनियों को अपनी-अपनी बिड ईमेल के जरिए सबमिट करने के लिए कहा है।

पिछले दिनों मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में कोरोना वैक्सीन आयात करने का फैसला लिया गया था। वर्तमान में भारत सरकार की ड्रग कंट्रोलिंग जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने केवल 3 वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की ही मंजूरी दी है। इसमें दो वैक्सीन का उत्पादन तो भारत में हो रहा है, जबकि तीसरी वैक्सीन रूस से बनकर भारत आ रही है। नेशनल हेल्थ मिशन के निदेशक सुधीर कुमार शर्मा ने बताया कि हमने विदेशी वैक्सीन उपलब्ध करवाने के लिए यह टेण्डर किया है, जो कंपनी हमें जल्द से जल्द वैक्सीन उपलब्ध करवाएगी, उसी से वैक्सीन लेने की योजना है।

इसमें ये शर्त है कि उस वैक्सीन के उपयोग की मंजूरी भारत सरकार ने दे रखी हो। आपको बता दें कि सरकार ने 18 से 44 साल की उम्र वालों को वैक्सीन लगाने के लिए यह टेंडर किया है। राज्य में इस उम्र के लगभग 3.25 करोड़ लोग है, जिन्हे वैक्सीन लगाई जानी है।

3.75 करोड़ वैक्सीन का दिया है ऑर्डर
इससे पहले राज्य सरकार ने 18 से 44 साल के सीरम इंस्टीट्यूट को 3.75 करोड़ वैक्सीन का ऑर्डर दिया है, लेकिन कंपनी की ओर से 8 लाख से ज्यादा डोज उपलब्ध नहीं कराई गईं। वहीं कंपनी ने इतनी बड़ी मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध करवाने में समय भी ज्यादा बताया है। कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए सरकार ने विदेशों से वैक्सीन खरीद का निर्णय किया, ताकि जल्द से जल्द और ज्यादा से ज्यादा लोगो को वैक्सीनेट किया जा सके।

स्पूतनिक, फाइजर भी हो सकती है शामिल
इस ग्लोबल टेंडर के लिए फिलहाल रूस की कंपनी स्पूतनिक और अमेरिकी कंपनी फाइजर भी शामिल हो सकती है। स्पूतनिकल वी वैक्सीन को देश में आपात उपयोग के लिए मंजूरी मिली है। अमेरिकी कंपनी फाइजर की वैक्सीन को अभी भारत में इमरजेंसी उपयोग की मंजूरी नहीं मिली है। इसके अलावा भारत की कंपनी बायोलॉजिकल ई और जायडस कैडिला भी अपनी वैक्सीन बाजार में लाने की तैयारी कर रही है। कैडिला की वैक्सीन के तीनों चरण के ट्रायल भी हो गए और नतीजे आने के बाद इसे भी भारत सरकार आपात उपयोग की मंजूरी दे सकती है। हालांकि इन दोनों ही कंपनियों की वैक्सीन आने में अभी समय लगेगा।

खबरें और भी हैं...