• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Rajasthan Jaipur Adarsh ​​Nagar Moksh Dham LIVE Report Update; 18 COVID Victims Dead Bodies Cremated At Shamshan Ghat

जयपुर के मोक्षधाम से LIVE रिपोर्ट:मौत के आंकड़े छुपा रही सरकार; दोपहर 3:30 बजे तक 18 कोरोना शवों का संस्कार, चिताओं के ठंडी होने तक एंबुलेंस में शवों को करना पड़ रहा इंतजार

जयपुर7 महीने पहलेलेखक: विष्णु शर्मा
आदर्श नगर मोक्षधाम में मंगलवार दोपहर मां रेखा जारानी की चिता को मुखाग्नि देती उनकी बेटी।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर जान पर भारी पड़ रही है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, प्रदेश में संक्रमण से रोजाना 70 से 80 मरीजों की मौत हो रही है। जबकि राजधानी जयपुर में मौत का आंकड़ा 8 से 10 के बीच होने का दावा किया जा रहा है। हालांकि, हकीकत अलग है। मंगलवार दोपहर भास्कर संवाददाता दोपहर को जयपुर के आदर्श नगर स्थित मोक्षधाम पहुंचा।

यहां मोक्षधाम के बाहर से ही एक साथ काफी चिताओं की लपटें उठती नजर आईं। मोक्षधाम में प्रवेश करने पर पता चला कि दोपहर करीब 2 बजे मोक्षधाम के एक हिस्से में आठ चिताएं एक साथ जल रही थीं। वहीं कुछ दूरी पर पीपीई किट पहने बैठे परिजन बिलख रहे थे। वे एकटक गुमसुम से अपनों को विदाई दे रहे थे।

आदर्श नगर मोक्षधाम में एक साथ आठ चिताएं जल रही थीं।
आदर्श नगर मोक्षधाम में एक साथ आठ चिताएं जल रही थीं।

इन्हीं में कुछ ऐसे भी शव थे जो कि लावारिस थे। जिनकी न कोई पहचान थी और न कोई अपना उनको अंतिम विदाई देने पहुंचा था। ऐसे में श्री नाथ गौशाला ट्रस्ट की तरफ से मोक्षधाम में मौजूद कर्मचारी ही इन चिताओं की अग्नि देने में जुटे हुए थे। वहां मौजूद पंडित श्याम ने बताया कि इतनी मौतें तो पिछले साल भी नहीं देखी थी। अब तो रोजाना एक चिता ठंडी नहीं होती। तब तक दूसरी लाश आ जाती है। कुछ दिनों से यह सिलसिला बढ़ गया है।

जयपुर पुलिस कमिश्नर की माताजी सहित 18 कोविड शवों का दोपहर 3:30 बजे तक अंतिम संस्कार

गमगीन माहौल के बीच घोर सन्नाटे को चीरते हुए एक के बाद एक हर आधा घंटे में एंबुलेंस शवों को लेकर आदर्श नगर मोक्षधाम पहुंच रही थी। वहां मौजूद दमकलकर्मी इन गाड़ियों और मोक्षधाम के आसपास के इलाके को सैनेटाइज कर रहे थे। भास्कर संवाददाता करीब 3 घंटे वहां मौजूद रहा। इस बीच पता चला कि दोपहर करीब 3:30 बजे तक कोविड पॉजिटिव 18 शवों का अंतिम संस्कार किया जा चुका था।

इनमें जयपुर के पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव की माताजी भी शामिल थीं। इसके बाद भी देर शाम तक शवों के आने का सिलसिला बरकरार था। इनमें नगर निगम की आठ गाड़ियां लगी हुई हैं। जो शवों को नि:शुल्क मोक्षधाम तक पहुंचा रही हैं।

एक तरफ कई चिताएं एक साथ जल रही थीं। वहीं एंबुलेंस में रखा शव अपनी बारी का इंतजार कर रहा था
एक तरफ कई चिताएं एक साथ जल रही थीं। वहीं एंबुलेंस में रखा शव अपनी बारी का इंतजार कर रहा था

मोबाइल पर वीडियो कॉल के जरिए दिखाई अंत्येष्टि, बेटी ने दी मां को मुखाग्नि

कोविड गाइड लाइन और महामारी के डर से लोग मोक्षधाम तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। ऐसे में ज्यादातर शव संबंधित अस्पताल की मोर्चरी से सीधे एंबुलेंस के जरिए आदर्श नगर मोक्षधाम पहुंच रहे हैं। वहीं, मालवीय नगर निवासी रेखा जारानी की चिता को उनकी बेटी मुखाग्नि दे रही थी। शव के साथ छह लोग मौजूद थे। इसमें चार महिलाएं शामिल थी।

रोते-बिलखते परिजन कर्मचारियों की मदद से अंतिम संस्कार की क्रिया कर रहे थे। परिवार की महिलाएं घरों में मौजूद अपने नजदीकी परिजनों को मोबाइल फोन पर वीडियो कॉलिंग के जरिए लाइव अंत्येष्टि दिखा रहे थे। परिजनों ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव रेखा की सोमवार रात को तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद उन्होंने मंगलवार को दम तोड़ दिया।

अपनों को दूर से ही अंतिम विदाई
अपनों को दूर से ही अंतिम विदाई

कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, इसी बीच मरीज ने दम तोड़ दिया

मोक्षधाम में 17 वर्षीय एक बालक अपने पिता के शव को लेकर पहुंचा था। उसके ताऊ और चार पांच परिजन भी मौजूद थे। पूछने पर मृतक के बड़े भाई ने सिर्फ इतना कहा कि तीन दिन पहले ही तबीयत खराब हुई थी। तब मरीज को भर्ती करवाने के लिए कई अस्पतालों के चक्कर लगाए। फोन किए। लेकिन कुछ मदद नहीं मिली। इस बीच मंगलवार को कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके कुछ देर बाद ही अचानक घर पर मौत हो गई।

रेखा देवी कोरोना की वजह से चल बसीं। परिजनों ने मोबाइल पर वीडियो कॉलिंग से रिश्तेदारों को अंत्येष्टि दिखाई।
रेखा देवी कोरोना की वजह से चल बसीं। परिजनों ने मोबाइल पर वीडियो कॉलिंग से रिश्तेदारों को अंत्येष्टि दिखाई।
पीपीई किट पहने दूर बैठे परिजन रोते बिलखते रहे।
पीपीई किट पहने दूर बैठे परिजन रोते बिलखते रहे।
खबरें और भी हैं...