राजस्थान / 2245 मेगावाट का भड़ला सोलर पार्क विश्व का सबसे बड़ा पार्क, यहां सालाना 33,165 लाख यूनिट बिजली का उत्पादन होगा

प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • मेरकॉम संस्था ने दी रैंकिंग, जोधपुर के इस पार्क ने कर्नाटक के पावागढ़ सोलर पार्क को पीछे छोड़ा
  • 14 हजार एकड़ यानि करीब 50 हजार वर्ग किमी में फैला है यह सोलर पार्क, 18 कंपनियों के प्लांट लगे

दैनिक भास्कर

Mar 27, 2020, 04:20 AM IST

जयपुर (श्याम राज शर्मा). प्रदेश के जोधपुर में स्थित भड़ला सोलर पार्क अब विश्व का सबसे बड़ा सोलर पार्क हो गया है। यह सोलर पार्क 14 हजार एकड़ यानि करीब 50 हजार वर्ग किमी में फैला है तथा यहां पर 18 बड़ी कंपनियों के 36 सोलर प्लांट लगे हुए है। पहले कर्नाटक का पावागढ़ सोलर पार्क सबसे बड़ा था। लेकिन अब यहां पर सूरज की रोशनी से 2245 मेगावाट बिजली का उत्पादन शुरु होने के बाद कर्नाटक के पार्क को पीछे छोड़ दिया है। हीरो फ्यूचर एनर्जी की ओर से 300 मेगावॉट का सोलर प्लांट कमीशन करने के बाद संस्था मेरकॉम इंडिया संस्था ने भड़ला को विश्व का सबसे बड़ा सोलर प्लांट घोषित किया है।

9900 करोड़ का निवेश

भड़ला सोलर पार्क में करीब 9900 करोड़ का निवेश है। इन लगे सोलर प्लांट्स से सालाना 33 हजार 165 लाख यूनिट बिजली बनेगी। सोलर पार्क में बनने वाली बिजली सोलर एनर्जी कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया व एनटीपीसी खरीद रहा है। बिजली को ग्रिड सब-स्टेशन व हाइटेंशन लाइनों के जरिए प्रदेश के अलग अलग हिस्सों में पहुंचाया जा रहा है। यहां से 750 मेगावॉट बिजली उत्तरप्रदेश को भी सप्लाई हो रही है। यहां पहले फेज में लगे प्लांट से मिल रही बिजली की टैरिफ 6.45 रुपए प्रति यूनिट है। वहीं बाद में बने प्लांट्स से न्यूनतम टैरिफ 2.44 रुपए प्रति यूनिट तक बिजली मिल रही है

चार फेज में विकसित हुआ है

भड़ला सोलर पार्क चार फेज में विकसित हुआ है। पहले दो फेज राजस्थान अक्षय ऊर्जा की राजस्थान सोलर पार्क डवलपमेंट कंपनी लि. ने विकसित किया है। वहीं तीसरा फेज राजस्थान सरकार व आईएलएंडएफएस एनर्जी की जॉइंट वेंचर कंपनी सौर्य ऊर्जा कंपनी ने बनाया है। चौथे फेज को राजस्थान सरकार व अडाणी एंटरप्राइजेज की अडाणी रिन्युएबल पार्क कंपनी ने विकसित किया है। 

स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार
भड़ला सोलर पार्क में कई कंपनियों ने निवेश किया है तथा यहां टेक्नीशियनों की बड़ी संख्या में जरूरत है। ऐसे में मारवाड़ व आसपास के इलाके के युवा आईटीआई व पॉलोटेक्निक कर यहां पर टेक्निशयन की नौकरी ढूंढ रहे है। पहले इस क्षेत्र के युवा केवल खेती व सरकारी नौकरी पर ही निर्भर होते थे। 

इन कंपनियों में बड़े सोलर प्लांट

एसबी एनर्जी 600 मेगावॉट 
हीरो फ्यूचर एनर्जी 300 मेगावाट
एनटीपीसी 260 मेगावाट
एकमे सोलर 200 मेगावाट
एजूर पावर 200 मेगावाट


प्रदेश के लिए बड़ी उपलब्धि: अजिताभ

ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव अजिताभ शर्मा ने कहा कि भड़ला सोलर पार्क विश्व का सबसे बड़ा पार्क बनना प्रदेश के लिए बड़ी उपलब्धि है। इस प्लांट से प्रदेश में बिजली उपलब्धता बढ़ी है, साथ ही अन्य प्रदेशों को भी बिजली उपलब्ध करवाई जा रही है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना