राजस्थान के मंत्री को बड़ी जिम्मेदारी:हरीश चौधरी बने पंजाब-चंडीगढ़ कांग्रेस प्रभारी, सीनियर लीडर हरीश रावत को हटाया

जयपुरएक महीने पहले
हरीश चौधरी (फाइल फोटो)

राजस्थान के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी को पंजाब और चंडीगढ़ कांग्रेस का प्रभारी नियुक्त किया गया है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की मंजूरी के बाद संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने यह आदेश जारी किया। पार्टी के सीनियर लीडर हरीश रावत के हटने के बाद उन्हें यह जिम्मेदारी मिली है। हालांकि, चौधरी को अभी महासचिव और सचिव का पद नहीं दिया गया है।

हरीश चौधरी पंजाब में कैप्टन अमरिंदर को हटाने से लेकर सिद्धू विवाद तक ऑब्जर्वर के तौर पर सक्रिय थे। उन्होंने पहले भी संगठन में काम करने की इच्छा जताई थी। कांग्रेस में उन्हें लंबे समय से प्रभारी बनाए जाने की चर्चाएं थी।

गहलोत कैबिनेट से दो मंत्री प्रभारी बन चुके
इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा को गुजरात कांग्रेस का प्रभारी बनाया था। गहलोत कैबिनेट में रघु शर्मा के बाद हरीश चौधरी दूसरे मंत्री हैं, जिन्हें प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई है। एक व्यक्ति एक पद का नियम बनाया जाएगा तो अगले मंत्रिमंडल फेरबदल के समय हरीश चौधरी और रघु शर्मा को मंत्री पद से हटाकर पूरी तरह संगठन के काम में लगाया जाएगा।

पंजाब और गुजरात दोनों में अगले साल चुनाव होने हैं, इसलिए फुलटाइम प्रभारी की जरूरत है। ऐसे में मंत्री की जगह अब दोनों नेताओं के पास प्रभारी की जिम्मेदारी ही रहने के आसार हैं।

राजस्थान से तीन नेता राज्यों के प्रभारी और दो सहप्रभारी
आज की नियुक्ति से राजस्थान से तीन नेता राज्यों के प्रभारी बन चुके हैं। भंवर जितेंद्र सिंह, रघु शर्मा और हरीश चौधरी एआईसीसी इंचार्ज हैं। जुबेर खान और धीरज गुर्जर यूपी में प्रियंका गांधी के साथ सहप्रभारी हैं।

ऑपरेशन पंजाब की जिम्मेदारी काफी पहले सौंपी गई थी
हरीश चौधरी साल भर से पंजाब कांग्रेस विधायकों के संपर्क में थे। उन्हें अजय माकन के साथ ऑब्जर्वर बनाकर भेजा था। हरीश चौधरी लंबे समय तक चंडीगढ़ में कैंप किए हुए थे। कैबिनेट शपथ, नवजोत सिंह सिद्धू की नाराजगी और उठा-पटक के बीच हरीश चौधरी ही डैमेज कंट्रोल की कमान संभाले हुए थे। हरीश चौधरी को राहुल गांधी का नजदीकी माना जाता है।

खबरें और भी हैं...