राजस्थान में रिकॉर्ड, 11 साल में सबसे ज्यादा बारिश:4 महीने की बरसात 29 दिन में; आर्मी को बुलाया, फिर एक्टिव होगा मानसून

जयपुर6 महीने पहलेलेखक: दिनेश पालीवाल

राजस्थान में मानसून ने इस बार जुलाई के 29 दिन में ही पूरे राज्य को भिगो दिया। पश्चिमी राजस्थान (जोधपुर, जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर, पाली, जालोर) में इस बार सबसे ज्यादा बारिश हुई। श्रीगंगानगर और जोधपुर जैसे इलाकों में बचाव के लिए सेना को मोर्चा संभालना पड़ा। इस बार जुलाई में 11 सालों में सबसे अधिक 266MM बारिश हुई है।

इससे पहले जुलाई में साल 2015 में 262MM और साल 2017 में 252MM बारिश का रिकॉर्ड बना था। अभी बारिश का दौर थम चुका है, लेकिन मौसम केंद्र के अनुसार अगस्त के शुरुआती सप्ताह में सात दिन के लिए मानसून दोबारा एक्टिव होगा।

79 बांधों में पानी आया
राज्य में अच्छी बारिश के कारण इस बार कई बांधों में पानी की अच्छी आवक हुई। मानसून आने से पहले यानी 30 जून तक प्रदेश के 716 में से केवल 2 ही बांध थे, जो पूरी तरह भरे थे, लेकिन अब 29 दिन के अंदर ये संख्या बढ़कर 79 हो गई यानी 11 फीसदी बांध लबालब हो गए। वहीं, 248 बांध अब भी सूखे पड़े हैं।

अच्छी बारिश के दो कारण

एक्टिव मानसून: इस बार मानसून एंट्री करने के बाद से लगातार एक्टिव मोड पर रहा है यानी इस बार मानसून में एक बार भी ब्रेक नहीं लगा। बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से मानसूनी हवा लगातार आती रही।

ट्रफ लाइन: मौसम विशेषज्ञों के अनुसार मानसून की ट्रफ लाइन नॉर्मल पोजिशिन यानी नॉर्थ की तरफ रहती है। लेकिन, इस बार यह खिसककर दक्षिण की तरफ आ गई थी। यही कारण रहा कि इस बार अच्छी बारिश हुई है।

इन जिलों का कोटा पूरा
पश्चिमी राजस्थान के बीकानेर, चूरू, जैसलमेर, नागौर, गंगानगर और जोधपुर जिले में इस बार हुई बारिश ने पूरे मानसून सीजन का कोटा पूरा कर दिया है। जोधपुर और श्रीगांगनगर में बारिश से एक बार के लिए हालात बिगड़ गए थे। दोनों शहरों में सेना को बुलाना पड़ा। जोधपुर में तीन दिन तक स्कूलों की छुटि्टयां करनी पड़ी थीं।

चार जिलों में बने बाढ़ जैसे हालात
जोधपुर, गंगानगर, भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़ जिले ऐसे हैं, जहां कुछ एरिया में बाढ़ जैसे हालात बन गए। यहां पिछले दिनों 24 से 48 घंटे के दौरान 200MM (8 इंच) तक बरसात हुई। सर्वाधिक प्रभावित एरिया जोधपुर का रहा, जहां तेज बरसात में 30 से अधिक कॉलोनियां जलमग्न हो गई और सेना को मोर्चा संभालना पड़ा।

सामान्य से अब तक 66 फीसदी ज्यादा बरसात
राजस्थान में 1 जून से 29 जुलाई तक सामान्य से 66 फीसदी ज्यादा बरसात हो चुकी है। पूरे राज्य में इस सीजन में अब तक 320.8 MM बारिश हो चुकी है, जबकि 29 जुलाई तक सामान्यतः 193.7MM हाेती है। राज्य में अब तक एक भी ऐसा जिला नहीं है, जहां औसत से कम बारिश हुई हो।

आगे क्या: मौसम एक्सपर्ट के अनुसार अभी कुछ दिनों के लिए बारिश होने की संभावना कम है। आगे 3 से 4 अगस्त के बीच मानसून एक्टिव होगा। जो करीब 10 अगस्त तक एक्टिव मोड पर रहेगा।

जयपुर में तेज बारिश के बाद सीकर रोड पर घुटनों तक पानी भर गया। जहां बस भी पानी में आधी डूब गई। गाड़ी तैरती नजर आई।
जयपुर में तेज बारिश के बाद सीकर रोड पर घुटनों तक पानी भर गया। जहां बस भी पानी में आधी डूब गई। गाड़ी तैरती नजर आई।
जोधपुर तेज बारिश के बाद रेलवे स्टेशन पर पानी जमा हो गया। इसके कारण कुछ ट्रेनें भी रद्द करने पड़ी थीं।
जोधपुर तेज बारिश के बाद रेलवे स्टेशन पर पानी जमा हो गया। इसके कारण कुछ ट्रेनें भी रद्द करने पड़ी थीं।
जोधपुर में बारिश के दौरान दीवार ढहने से कार बुरी तरह से पिचक गई। जब बाहर निकाला गया तो कार पूरी तरह से कबाड़ हो चुकी थी।
जोधपुर में बारिश के दौरान दीवार ढहने से कार बुरी तरह से पिचक गई। जब बाहर निकाला गया तो कार पूरी तरह से कबाड़ हो चुकी थी।
इस सीजन में पहली बार कोटा बैराज के 11 गेट खोले गए।
इस सीजन में पहली बार कोटा बैराज के 11 गेट खोले गए।
ओसियां का सच्चियाय माता मंदिर की 160 सीढ़ियों पर बहने लगा झरना।
ओसियां का सच्चियाय माता मंदिर की 160 सीढ़ियों पर बहने लगा झरना।

ये भी पढ़ें-
जोधपुर में बारिश से तबाही का ड्रोन VIDEO:4 दिन बाद भी कई इलाकों में पानी नहीं उतरा; 600 लोग फंसे, बच्चे हो रहे बीमार

जोधपुर में बाढ़, स्कूलों में आज भी छुट्‌टी:3 दिन में 10 इंच बारिश से बिगड़े हालात; सेना ने मोर्चा संभाला