राजस्थान में अगले 24 घंटे में होगी बारिश:8 जिलों में बरसा पानी; सिरोही में डेढ़ इंच बरसात, अक्टूबर में विदा होगा मानसून

जयपुर2 महीने पहले

राजस्थान में अगले 24 घंटे में अजमेर, कोटा, उदयपुर और जोधपुर संभाग में बारिश होने के आसार है। पिछले 24 घंटे में भीलवाड़ा, बांसवाड़ा, चित्तौड़गढ़, पाली, प्रतापगढ़, राजसमंद, सिरोही और उदयपुर जिले में बरसात हुई। सबसे ज्यादा 40MM बारिश सिरोही के पिंडवाड़ा में रिकॉर्ड की गई। इधर, मौसम केंद्र जयपुर के मुताबिक आज राजस्थान के 7 जिलों से मानसून विदा हो गया।

मौसम केंद्र नई दिल्ली के मुताबिक राजस्थान के अलावा आज श्रीनगर, पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के भी कई हिस्सों से मानसून की विड्रॉल लाइन गुजर रही है। राजस्थान में संभावना जताई जा रही मानसून की पूरी तरह से विदाई अक्टूबर के पहले सप्ताह में हो जाएगी।

मौसम केन्द्र जयपुर के मुताबिक राज्य में आज गंगानगर, हनुमानगढ़, चूरू, झुंझुनूं, सीकर, अलवर, नागौर के हिस्सों से मानसून विदा हो गया है। इससे पहले मानसून 20 जून को बीकानेर, जोधपुर, बाड़मेर और जैसलमेर से विदा हो चुका है।

वहीं मानसून की विड्रॉल लाइन अभी जयपुर, अलवर, पाली और जालोर जिलों के आसपास से गुजर रही है। विशेषज्ञों का मानना है कि जो वर्तमान में परिस्थितियां बनी हुई है उसे देखकर संभावना जताई जा रही है कि अक्टूबर के पहले सप्ताह में मानसून पूरी तरह से राजस्थान से विदा हो जाएगा।

8 जिलों में हुई बारिश
मौसम विभाग के मुताबक पिछले 24 घंटे में भीलवाड़ा, बांसवाड़ा, चित्तौड़गढ़, पाली, प्रतापगढ़, राजसमंद, सिरोही और उदयपुर जिले में कहीं-कहीं हल्की से मध्यम बारिश हुई। सबसे ज्यादा 40MM बारिश सिरोही के पिंडवाड़ा एरिया में दर्ज हुई।

वहीं आज राज्य में सुबह अधिकांश हिस्सों में मौसम शुष्क रहा, लेकिन दोपहर बाद मौसम में बदलाव देखने को मिला। अजमेर, टोंक, जयपुर, दौसा, करौली, नागौर, सीकर, सवाईमाधोपुर, पाली जिलों के कई हिस्सों में आसमान में बादल छा गए। मौसम विभाग ने इन जिलों के कुछ हिस्सों में बूंदाबांदी होने की संभावना जताई है।

क्या परिस्थिति रहती है, जब मानसून विड्रॉल होता है

  • मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक जिन एरिया में बारिश की गतिविधियों में 5 दिन से ज्यादा समय तक पूरी तरह ब्रेक लग गया हो।
  • क्षोभ मंडल की निचली परत में एंटी साइक्लोनिक सिस्टम विकसित हो गया हो। एंटी साइक्लोनिक सिस्टम में आसमान प्रेशर सिस्टम बढ़ता है और हवा नीचे (धरती) की तरफ आती है।
  • वातावरण (एनवायरमेंट) से नमी (मोइश्चर लेवल) का स्तर लगातार कम हो रहा हो।

अब आगे क्या?
जयपुर मौसम केन्द्र ने आज अजमेर, कोटा, उदयपुर और जोधपुर संभाग के कुछ हिस्सों में बादल छाने के साथ बूंदाबांदी की संभावना जताई है। वहीं, 30 सितम्बर को भी अजमेर, कोटा, उदयपुर और जोधपुर संभाग में बूंदाबांदी हो सकती है।

राजस्थान में अब तक 36 फीसदी ज्यादा बरसात
राजस्थान में इस मानसून सीजन ने पिछले 10 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। प्रदेश में अब तक कुल 593.6MM औसत बरसात हो चुकी है, जो पिछले 10 साल में किसी भी मानसून सीजन में हुई बरसात में सर्वाधिक है।

जिलेवार देखें तो झुंझुनूं और करौली ऐसे जिले हैं, जहां अभी सामान्य से मामूली कम बरसात हुई है। झुंझुनूं में सामान्य से 1 फीसदी, जबकि करौली में सामान्य से 2 फीसदी कम बरसात हुई है। वहीं सबसे ज्यादा बरसात झालावाड़ में 1316.9MM बरसात हुई है।