बेरोजगारी में राजस्थान दूसरे नंबर पर:हरियाणा के बाद राजस्थान में सबसे ज्यादा बेरोजगार, प्रदेश के 55% ग्रेजुएट के पास नौकरी नहीं, महिलाओं की बेरोजगारी दर में राजस्थान देश में तीसरे स्थान पर

जयपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर

हरियाणा के बाद राजस्थान की बेरोजगारी दर देश में सबसे ज्यादा है। राजस्थान की बेरोजगारी दर 26% से ज्यादा है, जबकि हरयिाणा में यह आंकड़ा 36% है। देश में राजस्थान और हरियाणा ही ऐसे राज्य हैं, जहां बेरोजगारी दर 20% से ज्यादा है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) की रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक, राजस्थान के 56% ग्रेजुएट युवा बेरोजगार हैं, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह दर 20% है। ग्रेजुएट की बेरोजगारी में राजस्थान राष्ट्रीय औसत से दोगुने से ज्यादा है। यह रिपोर्ट कोरोना काल की है।
महिला बेरोजगारी में तीसरे स्थान पर
महिला बेरोजगारी के मामले में देश में हरियाणा और जम्मू कश्मीर के बाद राजस्थान तीसरे स्थान पर है। CMIE की रिपोर्ट के अनुसार, राजस्थान में महिला बेरोजगारी की दर 65% है, जो हरियाणा और जम्मू कश्मीर के बाद सबसे ज्यादा है। हरियाणा में महिला बेरोजगारी दर 79% है, जबकि जम्मू कश्मीर यही आंकड़ा 72% है।

शहरी महिलाओं में बेरोजगारी दर ज्यादा
ग्रामीण महिलाओं की तुलना में शहरी महिलाओं में बेरोजगारी दर ज्यादा है। शहरी महिलाओं की बेरोजगारी दर 92% है। इसी तरह ग्रामीण महिलाओं की बेरोजगारी दर 55% है। पुरुष बेरोजगारी दर में भी राजस्थान हरियाणा के बाद दूसरे स्थान पर है। राजस्थान की पुरुष बेरोजगारी दर 21% है। हरियाणा की पुरुष बेरोजगारी दर 25% है।

मनरेगा के कारण अंतर
गांवों में मनरेगा में बड़ी संख्या में महिला श्रमिक काम करती हैं। राजस्थान के गांवों में महिलाओं की बेरोजगारी दर शहरों की तुलना में कम होने की वजह यही है। मनरेगा के अलावा सरकारी निर्माण कामों में भी महिलाएं अच्छी तादाद में काम करती हैं। बेरोजगारी बढ़ने के पीछे कोरोना भी बड़ा कारण बताया जा रहा है। जिस वक्त यह स्टडी हुई उस वक्त कोरोना का प्रभाव ज्यादा था।

खबरें और भी हैं...