पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Rape In Kashmir With A Married Girl And Religious Conversion In Bharatpur Two Accused Arrested By Jaipur Police From Gurugram

विवाहिता से कश्मीर में दुष्कर्म कर धर्मांतरण केस:दबाव बनाकर निकाह करने वाले युवक और उसका भाई गिरफ्तार, कश्मीर से अपने भाई के पास मदद के लिए गुड़गांव आया था, तभी पुलिस ने धरदबोचा

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महिला से दुष्कर्म व धर्मांतरण के केस में आरोपी युवक और उसके भाई को जयपुर पुलिस ने गुड़गांव से पकड़ लिया। उनको पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया - Dainik Bhaskar
महिला से दुष्कर्म व धर्मांतरण के केस में आरोपी युवक और उसके भाई को जयपुर पुलिस ने गुड़गांव से पकड़ लिया। उनको पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया

जयपुर की रहने वाली 25 वर्षीया एक विवाहिता को पांच साल पहले रोजगार दिलवाने के बहाने कश्मीर ले जाकर दुष्कर्म करने और फिर धर्मांतरण कर प्रताड़ित करने वाले आरोपी युवक और उसके भाई को पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया है। पिछले दिनों मामला मीडिया की सुर्खियों में आने के बाद कश्मीर में मौजूद आरोपी को उसके भाई ने फोन कर जानकारी दी। तब वह घबराकर अपने भाई के पास गुड़गांव आया था, ताकि कोई मदद कर केस को सुलझा सके। इस बीच जयपुर पुलिस कमिश्नरेट की प्रताप नगर थानाप्रभारी बलवीर सिंह के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम ने दोनों भाईयों को गुड़गांव में ही पकड़ लिया। वहां से जयपुर लेकर आए।

डीसीपी (पूर्व) प्रहलाद कृष्णियां ने बताया कि गिरफ्तार मुख्य आरोपी शाहिद (28) और अमीर हुसैन (28) है। ये दोनों भरतपुर जिले में गोपालगढ़ स्थित पीपरोली गांव के रहने वाले है। गौरतलब है कि 16 जुलाई को एक महिला ने कोर्ट इस्तगासे के जरिए एक मुकदमा प्रताप नगर थाने में दर्ज करवाया था। जिसमें बताया कि वह सीकर जिले की रहने वाली है। वर्ष 2009 में उसकी शादी हुई। वह पति के साथ जयपुर में आकर रहने लगी। तब एक बेटा और एक बेटी थी। शराब पीकर मारपीट करता। बेरोजगार रहता। तब भूखे मरने की नौबत आ गई। वह पीहर वालों से मदद मांगने गई तब उन्होंने भी कोई मदद नहीं की।

वर्ष 2016 में रोजगार दिलवाने के बहाने कश्मीर ले जाकर दुष्कर्म
पीड़िता का आरोप है कि तब मकान में किराए से रहने वाले शाहिद, जो कि जेसीबी चलाता था। उसने पीड़िता से हमदर्दी जताते हुए मदद का भरोसा दिया। उसे काम दिलवाने की बात कहकर जून, 2016 में कश्मीर ले गया। दो दिन वहां ठहरकर अवैध संबंध बनाया। फिर नोएडा ले गया। वहां भाई के साथ मिलकर उसके जेवर भी हड़प लिए। वहां से भरतपुर में अपने रिश्तेदारों के घर ले आया। वहां कमरे में बंद रखा। कहने लगा कि तुम्हारी जिंदगी बर्बाद कर दूंगा। आरोपी शाहिद और परिवार के अन्य सदस्यों ने एक काजी की मदद से निकाह करवाकर महिला का धर्म परिवर्तन करवा दिया।

आतंकियों से संबंध बनाकर बच्चे को बम से उड़ाने की धमकियां देता था: पीड़िता

पीड़िता का आरोप है कि शाहिद और उसका परिवार नमाज पढ़ने व अन्य धार्मिक रीति रिवाज मानने के लिए प्रताड़ित करने लगा। पीड़िता के मुताबिक शाहिद उसे अपने भाई आमिर के पास नोएडा भी लेकर गया था। जहां उसके जेवर हड़प कर बेच डाले। वहीं, शाहिद ने अपने मोबाइल फोन में महिला के साथ संबंधों के गंदे वीडियो व फोटो ले लिए थे। जिनकी वायरल करने की धमकियां देता था। साथ ही, अपने संबंध आतंकियों से बताकर महिला के बच्चे को बम से उड़वाने की धमकी देता था।

दोबारा कश्मीर ले गया, वहां से कोटा और फिर 2017 में जयपुर ले आया
आरोप है कि अगस्त-सितंबर 2016 में दोबारा कश्मीर ले गया। दिसंबर 2016 के अंतिम सप्ताह में कोटा ले गया। फरवरी 2017 में जयपुर ले आया। यहां जून 2017 में पीड़िता ने एक बच्ची को जन्म दिया। जनवरी 2020 में शाहीद ने पीड़िता से कुछ खाली कागजों पर साइन करवाए। इसके करीब डेढ़-दो माह बाद शाहिद जरुरी काम से कश्मीर जाने की बात कहकर चला गया। तब लॉकडाउन लग गया। ऐसे में पीड़िता परिवार पालने के लिए इधर उधर भटकने लगी।

मुकदमा दर्ज नहीं करने पर थानाप्रभारी को किया था लाइन हाजिर

पीड़िता प्रताप नगर थाने पहुंची तो पुलिस ने जवाब दिया कि कोर्ट से आदेश लाओगी तब मुकदमा दर्ज कर जांच करेंगे। इसके बाद 15 जून 2021 को प्रताप नगर थाना और डीसीपी ईस्ट ऑफिस में रजिस्टर्ड डाक से शिकायत भेजी। लेकिन तब भी एफआईआर दर्ज नहीं की गई।

इसके बाद कोर्ट ने 5 जुलाई को केस की स्टेटस रिपोर्ट मांग कर दस्तावेज देखे और प्रताप नगर थाना पुलिस को मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया। तब 16 जुलाई को केस दर्ज हुआ। मामले में लापरवाही बरतने और केस नहीं दर्ज करने पर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने थानाप्रभारी श्रीमोहन मीणा को लाइन हाजिर कर दिया।

खबरें और भी हैं...