पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Recommendation Letter For Inclusion Of Vishnoi In OBC Central List, Rajasthan Government Sent Recommendation Letter To National Backward Classes Commission

गहलोत ने मोदी के पाले में डाली गेंद:विश्नोई जा​ति को OBC में शामिल करने के लिए CM ने सिफारिश भेजी, राज्य की 30 विधानसभा सीटों पर इस जाति का प्रभाव

जयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विश्नोई जाति को ओबीसी की केंद्रीय सूची में शामिल करने के लिए राज्य सरकार ने सिफारिश करके अब गेंद केंद्र की मोदी सरकार के पाले में डाल दी है। - Dainik Bhaskar
विश्नोई जाति को ओबीसी की केंद्रीय सूची में शामिल करने के लिए राज्य सरकार ने सिफारिश करके अब गेंद केंद्र की मोदी सरकार के पाले में डाल दी है।
  • राजस्थान में अभी ओबीसी की राज्य सूची में 91 जातियां हैं
  • विश्नोई समाज मारवाड़ और नहरी क्षेत्र में बड़ा वोट बैंक है

राजस्थान सरकार ने विश्नोई जाति को ओबीसी की केंद्रीय सूची में शामिल करने की राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को सिफारिश भेज दी है। सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग ने दो दिन पहले भेजी चिट्ठी में विश्नोई जाति को ओबीसी की केंद्रीय सूची में शामिल करने की सिफारिश की है। सिफारिशी चिट्ठी के साथ जरूरी दस्तावेज लगाकर आयोग को भेजे गए हैं। राजस्थान में अभी ओबीसी की राज्य सूची में 91 जातियां हैं। इनमें से कई जातियां केंद्रीय सूची में शामिल नहीं है। गहलोत ने गेंद अब मोदी सरकार के पाले में गेंद डाल दी है।

राजस्थान में विश्नोई जाति ओबीसी में शामिल है। 1 जनवरी 2000 को विश्नोई जाति को राज्य ओबीसी की सूची में 60वें नंबर पर शामिल किया था। विश्नोई जाति को राजस्थान में तो ओबीसी आरक्षण मिल रहा है, लेकिन केंद्रीय सेवाओं में इसका लाभ नहीं मिल रहा। विश्नोई अभी ओबीसी की केंद्रीय सूची में शामिल नहीं है।

राष्ट्रीय ओबीसी आयोग को भेजी गई सिफारिशी चिट्‌ठी
राष्ट्रीय ओबीसी आयोग को भेजी गई सिफारिशी चिट्‌ठी

ओबीसी की राज्य और केंद्रीय सूची की मायने
ओबीसी की राज्य सूची में शामिल जाति को केवल उसी राज्य में आरक्षण का लाभ मिलता है। केंद्रीय सूची में शामिल जाति को केंद्रीय सेवाओं में भी आरक्षण कर लाभ मिलता है। ओबीसी की केंद्रीय सूची में कोई जाति तभी शामिल हो सकती है जब संबंधित राज्य सरकार राष्ट्रीय ओबीसी आयोग को सिफारिश करें। उसके बाद राष्ट्रीय ओबीसी आयोग उस जाति की पात्रता जांच कर अपनी सिफारिश करता है उसके बाद कोई जाति केंद्रीय ओबीसी सूची में शामिल की जाती है। इसके लिए लंबी प्रक्रिया होती है।

मुख्यमंत्री से मिले थे विश्नोई समाज के कांग्रेस-भाजपा विधायक
विश्नोई जाति को ओबीसी की केंद्रीय सूची में शामिल करने की कई दिनों से मांग चल रही है। पिछले दिनों वन राज्य मंत्री सुखराम विश्नोई की अगुवाई मेंं विश्नोई समाज के कांग्रेस और भाजपा विधायकों ने अशोक गहलोत से मिलकर राष्ट्रीय ओबीसी आयोग को सिफारिशी चिट्ठी भेजने की मांग की थी। इस प्रतिनिधिमंडल में वन राज्य मंत्री सुखराम विश्नोई के साथ भाजपा विधायक पब्बाराम विश्नोई, बिहारीलाल विश्नोई, कांग्रेस विधायक किशनाराम विश्नोई, महेंद्र विश्नोई शामिल थे।

राज्य की 30 विधानसभा सीटों पर विश्नोई जाति का प्रभाव
विश्नोई जाति का राजस्थान के मारवाड़ और नहरी क्षेत्रों में अच्छा प्रभाव है। एक बड़ा वोट बैंक है। विश्नोई मुख्य रूप से किसान वर्ग में आते हैं। कांग्रेस का परंपरागत वोट बैंक रहा है। लेकिन कुछ अरसे से भाजपा ने भी इस वोट बैंक में सेंध लगा ली है। एनसीआर और हरियाणा के अलावा मध्यप्रदेश और यूपी के कुछ इलाकों में भी विश्नोई वोट अच्छी संख्या में है। राज्य की 30 विधानसभा सीटों पर विश्नोई वोट बैंक का सीधा प्रभाव है।