नवरात्र में शहर में एक बार फिर प्रॉपटी बूम:3400 कराेड़ के 4500 भूखंडों, मकानों व फ्लैटों की रजिस्ट्रियाें से 204 कराेड़ रुपए का राजस्व मिला

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पंजीयन एवं मुद्रांक शुल्क विभाग का कलेक्ट्रेट स्थित ऑफिस,जहां रजिस्ट्री करवाने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। - Dainik Bhaskar
पंजीयन एवं मुद्रांक शुल्क विभाग का कलेक्ट्रेट स्थित ऑफिस,जहां रजिस्ट्री करवाने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी।
  • फेस्टिव सीजन में रोज हो रहीं 500 से अधिक रजिस्ट्रियां

काेराेना काल के डेढ़ साल में इस बार के नवरात्रों में शहर में एक बार फिर प्रॉपटी का बूम देखने काे मिला। जयपुर के तीनों डीआईजी स्टांप कार्यालयों के सब रजिस्ट्रार ऑफिसों में नवरात्रों के आठ दिन में 3400 कराेड़ रुपए कीमत के 4500 भूखंड, मकानों व फ्लैटों की रजिस्ट्रियां हुई है, जिससे सरकार काे 204 कराेड़ रुपए के राजस्व की आय हुई है।

यह इस वित्त वर्ष में अब तक की सबसे ज्यादा रजिस्ट्रियां है। इस वित्त वर्ष में अप्रेल से सितंबर तक 4400 कराेड़ रुपए कीमत की प्रॉपटी की रजिस्ट्रियां हुई थी। शहर के 12 रजिस्ट्रार ऑफिसों में जहां आम दिनों में 200 से 250 रजिस्ट्रियां हाेती है वहीं नवरात्रों के समय प्रतिदिन 500 से अधिक रजिस्ट्रियां हाे रही है। पंजीयन व मुद्रांक शुल्क विभाग के आंकड़े काे देखे ताे नवरात्रों के सात दिन में गत 17 माह में सबसे अधिक रजिस्ट्रियां हुई है।

नवरात्र से दीपावली तक हाेती हैं सबसे ज्यादा रजिस्ट्रियां
डीआईजी प्रथम वीरेंद्र सिंह का कहना है कि कारोबार काे लेकर लाेग नवरात्रों से दीपावली तक के समय काे शुभ मानते हैं। लाेग भूखंड, मकानों और फ्लैटों में निवेश भी इस समय सबसे अधिक करते हैं। इस देखते हुए दीपावली तक रजिस्ट्रियों की संख्या में बढ़ोतरी हाेगी।

पिछले नवरात्रों में 144 कराेड़ की आय, इस वर्ष 204 कराेड़ की आय
गत वर्ष नवरात्रों से दीपावली तक एक माह में सरकार काे 144 कराेड़ रुपए राजस्व की आय हुई थी। वहीं, इस बार नवरात्रों के आठ दिन में ही 204 कराेड़ रुपए राजस्व की आय हुई है। काेराेना काल में व्यापारिक गतिविधियों प्रभावित हाेने के साथ प्रॉपटी का कारोबार भी बूरी तरह प्रभावित हुआ है। गत वर्ष भी काेराेना लाॅकडाउन के चलते अप्रैल, मई, जून में रजिस्ट्रियां नहीं हाे पाई थी। इसके बाद जुलाई से रजिस्ट्रियां शुरू हुई थी। जुलाई में 84.78, अगस्त में 92.69, सितंबर में 94 कराेड़ रुपए के राजस्व की आय हुई थी।

खबरें और भी हैं...