आपदा में अवसर:बिजली कृषि कनेक्शन के टर्नकी प्रोजेक्ट में खेल, फर्मों को फायदा देने की संशोधित निविदा

जयपुर3 महीने पहलेलेखक: श्याम राज शर्मा
  • कॉपी लिंक
टेंडर जारी होने के बाद 2300 करोड़ के प्रोजेक्ट में बदल दिए नियम - Dainik Bhaskar
टेंडर जारी होने के बाद 2300 करोड़ के प्रोजेक्ट में बदल दिए नियम

प्रदेश में 9 साल से बकाया बिजली कृषि कनेक्शन अब टर्नकी प्रोजेक्ट से होंगे। पहले साल 2300 करोड़ के टर्नकी प्रोजेक्ट से 1.04 लाख कनेक्शन होंगे। अफसरों ने टेंडर करने के साथ ही प्रोजेक्ट में खास फर्मों को फायदा पहुंचाने के लिए नियम कायदे बदलाने का खेल शुरू कर दिया है। पहली बार कृषि कनेक्शन टर्नकी प्रोजेक्ट से हो रहे हैं तथा प्रदेश के 10 बड़े ठेकेदारों ने दो सप्ताह पहले ‘गुप्त’ मीटिंग की और जयपुर, जोधपुर व अजमेर डिस्कॉम की टीडब्ल्यू विंग के अधिकारियों ने संशोधित निविदा जारी कर दी। यानि 4 नियम बदल दिए।

टेंडर में अस्वच्छ प्रतिस्पर्धा में कुछ कंपनियों को बाहर रखने के लिए ज्वॉइंट वेंचर (जेवी) के नियम में बदलाव किया है। पहले ज्वाइंट वेंचर की दोनों कंपनियों में से किसी के पास भी 50 प्रतिशत काम करने का अनुभव की शर्त रखी गई थी, लेकिन अब जेवी की दोनों कंपनियों के पास टेक्निकल अनुभव का अनुपात 40:25 रखा गया। इससे करीब 50 कंपनियां बाहर हो जाएगी। तीनों डिस्कॉम की टीडब्ल्यू विंग ने 1,04,421 कनेक्शन के लिए 2300 करोड़ के 39 टेंडर जारी किए हैं। इस टर्नकी प्रोजेक्ट में मैटेरियल की खरीद से लेकर कनेक्शन करने का काम ठेकेदार कंपनियां करेंगी। डिस्कॉम के इंजीनियर केवल मॉनिटरिंग करेंगे। सभी 1.04 लाख कनेक्शन 9 महीने में देने हैं।

यह है मामला
जयपुर डिस्कॉम की टीडब्ल्यू विंग ने कृषि कनेक्शन के लिए 29 अप्रैल को टेंडर टीएन-523 जारी किया। जिसमें 35,502 कनेक्शन के लिए 947.90 करोड़ लागत रखी। टेंडर में भाग लेने के लिए ज्वाइंट वेंचर की दोनों कंपनियों में से किसी के पास भी 50 प्रतिशत काम करने का अनुभव की शर्त रखी। 4 टेंडर की अंतिम तारीख 24 मई थी। इस बीच, 6 मई को संशोधित निविदा जारी कर दी। यह टेंडर 25 मई तक भरा जाना है। अब टेंडर में 32,289 कनेक्शन कर दिए और लागत 795.83 करोड़ कर दी। जिसमें ज्वाइंट वेंचर के लिए शामिल होने वाली दोनों कंपनियों के पास टेक्निकल अनुभव का अनुपात 40:25 रखा गया। यानि एक के पास कम से कम 40 प्रतिशत व दूसरी के पास 25 प्रतिशत काम करने का अनुभव की शर्त जोड़ दी। यानि 100 करोड़ के टेंडर में 50 करोड़ का कार्य अनुभव जरूरी है। इसमें से एक फर्म के पास कम से कम 20 करोड़ और दूसरी के पास 12.5 करोड़ का कार्य करने का अनुभव जरूरी है।

टेंडर नियमों में बदलाव क्यों किया : ऊर्जा मंत्री
ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी का कहना है कि मुख्यमंत्री ने किसानों को बकाया कनेक्शन देने की घोषणा की है। जल्दी काम करने के लिए अधिकारियों को सीएलआरसी व टर्नकी प्रोजेक्ट से कनेक्शन देने के निर्देश दिए थे। टेंडर नियमों में बदलाव क्यों किए, जानकारी लेते हैं।

चेयरमैन की अध्यक्षता वाली टेक्निकल कमेटी ने बदले नियम
जयपुर डिस्कॉम की टीडब्ल्यू विंग के अधीक्षण अभियंता केसी शर्मा का कहना है कि डिस्कॉम चेयरमैन की अध्यक्षता वाली टेक्निकल कमेटी ने नियम बदले हैं। इसके लिए जोधपुर डिस्कॉम का प्रपोजल आया था।