पायलट समर्थक ने जताई हनीट्रैप में फंसाने की आशंका:वेद प्रकाश सोलंकी बोले- मेरे पीछे ब्लैकमेल करने वाली महिलाओं को लगाया, कांग्रेस के लिए खड़ा हुआ नया संकट

जयपुरएक महीने पहले
जयपुर में मीडिया से बातचीत करते पायलट समर्थक कांग्रेस विधायक वेद प्रकाश सोलंकी।

पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट समर्थक चाकसू से कांग्रेस विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ने विरोधियों पर हनीट्रैप में फंसाने की साजिश रचने का आरोप लगाया है। सोलंकी ने जयपुर में मीडिया से बातचीत में कहा, मेरे पीछे ब्लैकमेल करने वाली महिलाओं को लगा दिया। जो महिलाएं ब्लैकमेल करती हैं, उन्होंने वीडियो कॉल किया। आवाज को दबाने के लिए कुछ भी करा सकते हैं। आवाज दबाने के लिए कुछ भी हो सकता है। मैं कई महीने पहले बजरंग नगर थाने में रिपोर्ट दे चुका, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

सोलंकी ने कहा- हनीट्रैप में भी फंसाया जा सकता है। षड्यंत्र तो बहुत समय से चल रहे हैं। मैं न पहले दबा, न आगे दबूंगा। मैंने इस मामले में पुलिस के उच्च अधिकारियों से भी बात की है। मेरा मुकदमा आज तक नहीं दर्ज किया गया। अगर आप आवाज उठाना चाहते हो, तो इन बातों के लिए तैयार रहना चाहिए। सोलंकी ने किसी नेता का नाम नहीं लिया, लेकिन उनका इशारा विरोधी खेमे की तरफ ही था।

सोलंकी के आरोपों से बीजेपी काे मिलेगा मुद्दा

जयपुर जिला प्रमुख चुनाव में वेद सोलंकी को संभाग प्रभारी गोविंद मेघवाल की रिपोर्ट में क्रॉस वोटिंग के लिए जिम्मेदार ठहराया। इसके विरोध में सोलंकी समर्थकों सहित दिल्ली गए और सबूत पेश किए। इस मामले में आरोप-प्रत्याारोप के बाद अब सोलंकी ने हनीट्रैप् की साजिश के आरोप लगाकर कांग्रेस के लिए नया संकट खड़ा कर दिया है। सत्ताधारी पार्टी का विधायक ही सत्ता खेमे पर हनी ट्रैप की साजिश का आरोप लगा रहा है। ऐसे में बीजेपी इसे मुद्दा बना सकती है।

सोलंकी बोले- संभाग प्रभारी गोविंद मेघवाल ने मुझे बिना सुने एकतरफा रिपोर्ट भेजी

जयपुर जिला प्रमुख चुनाव में क्रॉस वोटिंग मामले में वेद प्रकाश सोलंकी ने संभाग प्रभारी गोविंद राम मेघवाल पर कई आरोप लगाए। सोलंकी ने कहा- पहली बार ऐसा हुआ कि बिना पक्ष सुने आनन-फानन में रिपोर्ट भेजी गई। पंचायतीराज चुनाव में एक रिपोर्ट पर्यवेक्षक ने 24 घण्टे में ही भेज दी। गोविंद मेघवाल पर बीएसपी, भाजपा सब पार्टियों में घूमकर आए हैं। मैं भी भरतपुर का इंचार्ज रहा हूं। मैंने जो शिकायत जाहिदा जी की थी, उसपर कोई कार्रवाई नहीं हुई। मुझ पर जल्दबाजी में आरोप लगाए गए। बाड़ेबंदी के लिए होटल में 50 लोगों के लिए हमने रिसॉर्ट बुक कराए। इसके बाद भी वे नहीं आए।

मेघवाल खुद न जाने कितनी पार्टियों में रहे, वे आज मुझसे सर्टिफिकेट मांग रहे
सोलंकी ने कहा- मेरे राजनीतिक विरोधियों को बैठाकर गोविंद मेघवाल ने आरोप लगाए। एक व्यक्ति के पक्ष में भी उन्होंने प्रचार नहीं किया। मेघवाल को जिले की नॉलेज नहीं है। मुझसे पूछा नहीं और जिनपर मैंने आपत्ति जताई, उन्हीं को बैठकाकर मुझपर आरोप लगाए। गोविंद मेघवाल ने गलत काम किया है। खुद पता नहीं, किस-किस पार्टी में रहकर चुनाव लड़े, वह आज मुझसे कांग्रेस के प्रति निष्ठा का सर्टिफिकेट मांग रहे हैं।

खबरें और भी हैं...