लेट पहुंचे कैंडिडेट्स को शिक्षक भर्ती ​​​​​​में बैकडोर एंट्री:जयपुर में पेरेंट्स का हंगामा, तीसरे दिन भी बंद रहा इंटरनेट

जयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजस्थान में चल रही शिक्षक भर्ती परीक्षा में सोमवार को जयपुर के एक केंद्र पर दूसरी पारी में पीछे के गेट से एंट्री देने पर विवाद हो गया। आरोप है कि कुछ अभ्यर्थियों को तय समय के 1 घंटे बाद भी एंट्री दी गई। ऐसे में जिनको एंट्री नहीं मिली उन स्टूडेंट्स ने हंगामा कर दिया। सांगानेर के मदरामपुरा में केसर इंटरनेशनल स्कूल में यह विवाद हुआ।

परीक्षा देने पहुंचे अभ्यर्थियों के परिजनों ने आरोप लगाया की आम छात्रों को 2 बजे तक परीक्षा केंद्र में एंट्री दी गई थी। आधे घंटे बाद पीछे के रास्ते से 2 छात्रों को एंट्री दी गई। जबकि पीछे का रास्ता आम छात्रों के लिए बंद था।

पत्नी को परीक्षा दिलाने पहुंचे नरेंद्र शर्मा ने कहा कि स्कूल और पुलिस प्रशासन ने मिलीभगत कर बड़ी धांधली की है। ऐसे में निर्धारित वक्त के बाद परीक्षा केंद्र पहुंचे दोनों कैंडिडेट को बाहर निकालकर उनका पेपर मान्य नहीं होना चाहिए। इसके साथ ही स्कूल प्रशासन और पुलिस के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं हुआ तो आम छात्रों के साथ बड़ा धोखा होगा। इंग्लिश का पेपर लीक ही माना जाएगा।

जयपुर में केसर इंटरनेशनल स्कूल में स्टूडेंट्स को लेट पहुंचने के बाद भी पीछे के गेट से एंट्री दी गई तो वहां हंगामा हो गया।
जयपुर में केसर इंटरनेशनल स्कूल में स्टूडेंट्स को लेट पहुंचने के बाद भी पीछे के गेट से एंट्री दी गई तो वहां हंगामा हो गया।

इससे पहले तीसरे दिन आज लेवल 2 के दो पेपर आयोजित हुए। सुबह 9:30 से दोपहर 12 बजे तक पहली पारी में संस्कृत और दूसरी पारी में दोपहर 3 से शाम साढ़े 5 बजे तक इंग्लिश का एग्जाम हुआ। चैकिंग के बाद अभ्यर्थियों को एंट्री दी गई।

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से परीक्षा सिर्फ जयपुर के 176 केंद्र पर ली गई। इसमें 1 लाख 18 हजार 86 अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। ऐसे में जिला प्रशासन की ओर से जयपुर जिले में सुबह 6 से शाम 6 बजे तक इंटरनेट बंद रहा।

इससे पहले रविवार को टोंक में बड़ी लापरवाही सामने आई थी। जहां एक सेंटर पर दूसरी पारी के हिंदी के पेपर कम पड़ गए थे। वहीं उदयपुर में एक डमी कैंडिडेट पकड़ा गया था।

26 फरवरी को सेकेंड लेवल SST के पेपर में 2 लाख 36 हजार 275 अभ्यर्थी उपस्थित रहे।
26 फरवरी को सेकेंड लेवल SST के पेपर में 2 लाख 36 हजार 275 अभ्यर्थी उपस्थित रहे।

दरअसल, टोंक के विवेक कॉलेज में दूसरी पारी में परीक्षा के दौरान पेपर कम पड़ने से अभ्यर्थियों ने हंगामा कर दिया था। दो कमरों में पेपर साढ़े 3 बजे पहुंचा था। अभ्यर्थी परीक्षा कक्ष से बाहर आ गए थे और नारेबाजी करने लगे थे। अभ्यर्थियों ने प्रशासन और सरकार के खिलाफ अव्यस्थाओं का आरोप लगाते हुए परीक्षा दोबारा कराने की मांग की थी। इसके बाद कलेक्टर चिन्मय गोपाल मौके पर पहुंचे और फिर से पेपर करने का आश्वासन दिया था।

इसके बाद नाराज अभ्यर्थियों ने विरोध खत्म किया था। सेंटर के करीब 540 परीक्षार्थियों की परीक्षा शाम 5 से 7.30 बजे तक कराई गई थी। इसके साथ ही अभ्यर्थियों के लिए प्रशासन की ओर से खाने और घर तक छोड़ने की व्यवस्था गई थी।

उदयपुर में डमी अभ्यर्थी पकड़ा
रविवार को पहली पारी में सुबह 9:30 से दोपहर 12 बजे तक सामाजिक विज्ञान का पेपर हुआ था। इसमें उदयपुर की हिरणमगरी पुलिस ने सेक्टर 4 स्थित महावीर जैन विद्या संस्थान से जालोर के रहने वाले कृष्णाराम विश्नोई को पकड़ा था। वह उदयपुर के झाड़ोल के रहने वाले संजय पारगी की जगह एग्जाम दे रहा था। दूसरा पेपर दोपहर 3 से शाम 5:30 बजे तक हिंदी का हुआ था।

शिक्षक भर्ती परीक्षा के दूसरे दिन हिंदी के पेपर में 1 लाख 66 हजार 370 स्टूडेंट्स उपस्थित रहे।
शिक्षक भर्ती परीक्षा के दूसरे दिन हिंदी के पेपर में 1 लाख 66 हजार 370 स्टूडेंट्स उपस्थित रहे।

शनिवार को लाखों में बिका नकली पेपर
शिक्षक भर्ती परीक्षा के पहले दिन शनिवार 25 फरवरी को जोधपुर में पुलिस ने मैरिज गार्डन से एक गिरोह को दबोचा, जिसमें 19 लड़के और 10 लड़कियों को पेपर सॉल्व कराया जा रहा था। पुलिस ने दावा किया था कि गिरोह के पास जो प्रश्न मिले हैं, वो असली एग्जाम से मैच नहीं हो रहे। इसके लिए प्रवीण विश्नोई नाम के स्टूडेंट ने 40 लाख रुपए में पेपर का सौदा किया था।

उसे 10 लाख रुपए सुरेश जाट, मुकेश जोशी निवासी सांचौर और रामेश्वर समेत 5 लोगों ने एडवांस दिए थे। इन 5 लोगों ने बाकी स्टूडेंट्स को 10-10 लाख रुपए में नकली पेपर बेचा था। गिरोह ने किसी से एडवांस नहीं लिया, लेकिन पास होने पर फुल पेमेंट की डील हुई थी। ये गिरोह बनाड़ रोड पर मैरिज गार्डन में परीक्षा शुरू होने से पहले ही पेपर हल कर रहा था।

बीकानेर में आंसर की बेचने की कोशिश
बीकानेर में पेपर ठगी के आरोप में दो युवकों को गिरफ्तार किया गया था। इसमें एक राजाराम बीकानेर के मुरलीधर व्यास कॉलोनी में कोचिंग सेंटर चलाता है, जबकि दूसरा सीताराम श्रीडूंगरगढ़ (बीकानेर) के सांवतसर गांव का रहने वाला है। इन दोनों से पुलिस ने एक लाख रुपए और तीन चैक बरामद किए थे। पुलिस का आरोप था कि हवलदार और सीआरपीएफ एसआई भर्ती परीक्षा की नकली आंसर की बेचने की कोशिश में थे। रीट एग्जाम में गड़बड़ी को लेकर ये आरोपी पुलिस के निशाने पर थे। जब इन्हें पकड़ा गया तो पूरे मामले का खुलासा हुआ था।

बोर्ड की ओर से निर्धारित ड्रेस कोड में एंट्री

कर्मचारी चयन आयोग की ओर से शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के लिए ड्रेस कोड तय किया गया है।

ऐसे में जो भी अभ्यर्थी ड्रेस कोड की पालना नहीं करता, उसे परीक्षा केंद्र में एंट्री नहीं दी जा रही है। बोर्ड की ओर से जारी ड्रेस कोड के अनुसार अभ्यर्थी कोट, टाई, मफलर, जैकेट, जरकिन, ब्लेजर, शॉल आदि पहनकर न आएं।

इसके साथ ही उनकी शर्ट, बिना जेब वाली, गर्म जर्सी स्वेटर, जिसमें बड़े बटन न लगे हों, पहनकर ही परीक्षा दे सकते हैं। महिला अभ्यर्थियों को पूरी आस्तीन का कुर्ता, शर्ट, ब्लाउज, आदि पहनकर एवं अपनी वेशभूषा में बड़ा बटन, किसी प्रकार के ब्रोच (जड़ाऊ पिन) या बैज या फूल लगाकर आने की इजाजत नहीं है।

मेटल डिटेक्टर से जांच

परीक्षा में नकल रोकने के लिए अभ्यर्थियों को मेटल डिटेक्टर से जांच के बाद ही केंद्र में प्रवेश दिया जा गया। वहीं कलेक्टर के वेरिफिकेशन के बाद ही परीक्षा केंद्र पर कर्मचारियों को नियुक्त किया गया।

इस दौरान केंद्र पर तैनात कर्मचारी भी मोबाइल का इस्तेमाल नहीं कर पाए। हालांकि इस दौरान केवल केंद्र अधीक्षक को की-पेड युक्त मोबाइल परीक्षा केंद्र पर रखने की परमिशन दी गई।

9 लाख से ज्यादा कैंडिडेट्स हो रहे शामिल

23-24 जुलाई को हुई रीट-2022 के पास अभ्यर्थी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल हो रहे हैं। लेवल-1 में कुल 2,12,259 और लेवल-2 में कुल 7,52,706 अभ्यर्थी भाग्य आजमा रहे हैं। इन अभ्यर्थियों में विशेष शिक्षा के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों की संख्या 16,418 है। लेवल -1 और लेवल-2 में सर्वाधिक आवेदन ओबीसी कैटेगरी में है। सबसे कम एमबीसी में है।

लेवल-2 में सर्वाधिक 3.30 लाख आवेदन ओबीसी और सबसे कम 28,566 आवेदन एमबीसी कैटेगरी के हैं। इसी तरह से लेवल-1 में भी सबसे अधिक 77,770 आवेदन ओबीसी के ही है। जबकि सबसे कम 12,350 एमबीसी कैटेगरी में है। इस भर्ती में लेवल-1 में 21 हजार और लेवल-2 में 27 हजार पद हैं। ऐसे में एक पद के लिए 20 अभ्यर्थियों में सीधा मुकाबला होगा।

इन पदों पर होगी भर्ती

  • प्राइमरी स्कूल टीचर - 21,000 पद
  • टीचर लेवल - 2 (हिंदी) - 3176 पद
  • टीचर लेवल - 2 (पंजाबी) - 272 पद
  • टीचर लेवल - 2 (संस्कृत) - 1808 पद
  • टीचर लेवल - 2 (उर्दू) - 806 पद
  • टीचर लेवल - 2 (सोशल स्टडीज) - 4172 पद
  • टीचर लेवल - 2 (सिंधी) - 9 पद
  • टीचर लेवल - 2 (अंग्रेजी) - 8782 पद
  • टीचर लेवल - 2 (साइंस/मैथ्स) - 7435 पद

अब 10वीं-12वीं-ग्रेजुएट बेरोजगारों के लिए नौकरियों की भरमार

अगर आप जॉबलेस हैं और जयपुर में नौकरी ढूंढ रहे हैं तो भास्कर ऐप बनेगा आपका मददगार। हर महीने की 10 हजार से लेकर 25 हजार की सैलरी मिलेगी। जयपुर शहर में बैंक, कॉर्पोरेट ऑफिस, डिलीवरी बॉय से लेकर कोई भी नौकरी चाहिए तो भास्कर पर खोजें अपनी पसंदीदा जॉब। (यहां क्लिक कर जॉब देखें)

ये भी पढे़ें

कर्मचारी चयन बोर्ड अध्यक्ष बोले- पेपर लीक नहीं हुआ:बोले- कुछ लोग बेवजह फैला रहे हैं अफवाह, नेटबंदी प्रशासन का निर्णय

राजस्थान में 48,000 पदों पर होने जा रही शिक्षक भर्ती परीक्षा के पहले दिन ही प्रदेश के 3 जिलों में फर्जी अभ्यर्थी पकड़ में आए हैं। ऐसे में लोगों के बीच में भर्ती परीक्षा को रद्द करने को लेकर कई तरह की चर्चाएं दिनभर चलती रही। दैनिक भास्कर ने राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा से इस बारे में सीधे सवाल पूछे। (पूरी खबर पढ़ें)

खबरें और भी हैं...