भास्कर एक्सक्लूसिव3 दिन पहले ही चेताया था- RU अध्यक्ष को मारूंगा:महारानी कॉलेज की संयुक्त सचिव बोली- महासचिव ने कहा था, निर्मल स्टेज पर चढ़ा तो जूते मारूंगा

जयपुर13 दिन पहलेलेखक: स्मित पालीवाल

जयपुर के महारानी कॉलेज में छात्रसंघ ऑफिस उद्घाटन कार्यक्रम में हुई मारपीट को लेकर सभी पक्ष अपने-अपने दावे कर रहे हैं।

वहीं, कॉलेज की छात्रसंघ संयुक्त सचिव शहनाज बानो ने भास्कर को बताया कि अरविंद जाजड़ा ने 3 दिन पहले ही निर्मल को मारने की चेतावनी दी थी।

उन्होंने कहा था- अगर निर्मल स्टेज पर चढ़ गया तो मैं उसके जूते मारूंगा। अरविंद का कहना है कि निर्मल और उसके समर्थक केंद्रीय मंत्री को काले झंडे दिखाकर स्याही फेंकना चाहते थे।

मैंने उन्हें रोकने की कोशिश की। इसके बाद विवाद बढ़ गया और हाथापाई की नौबत आ गई थी।

वहीं, इस पूरे मामले पर निर्मल चौधरी ने भी अपना पक्ष रखा है। उनका कहा- अगर मैं काली स्याही झंडे लेकर गया था तो क्या उन्हें मंत्री जी ने कहा था कि तू जाकर इसे ठोक।

अगर मैं गुंडा बदमाश हूं, तो आपको यह अधिकार किसने दिया कि आप मेरे साथ लड़ाई झगड़ा करें। वह भी एक सार्वजनिक मंच पर, क्या उन्हें कानून पर भरोसा नहीं है।

अरविंद ने कहा कि अगर निर्मल शांति से बात करेगा तो मैं शांति से बात करूंगा। अगर हथियार से बात करेगा तो मैं हथियार से जवाब दूंगा।
अरविंद ने कहा कि अगर निर्मल शांति से बात करेगा तो मैं शांति से बात करूंगा। अगर हथियार से बात करेगा तो मैं हथियार से जवाब दूंगा।

अध्यक्ष, महासचिव दोनों को नहीं बुलाया - मानसी वर्मा
भास्कर से बातचीत में महारानी कॉलेज की छात्र संघ अध्यक्ष मानसी वर्मा ने कहा- छात्रसंघ कार्यालय उद्घाटन कार्यक्रम लगभग पूरा होने वाला था। सभी मेहमानों ने अपना भाषण दे दिया था। तभी अध्यक्ष निर्मल चौधरी और महासचिव अरविंद जाजड़ा कार्यक्रम में पहुंच गए। दोनों ने केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के सामने ही मंच पर मारपीट शुरू कर दी। कार्यक्रम में न तो अध्यक्ष निर्मल चौधरी और न ही महासचिव अरविंद जाजड़ा को बुलाया गया था। दोनों ही बिना बुलाए कार्यक्रम में शामिल हुए और फिर झगड़ने लगे।
इससे माहौल बिगड़ गया। इस पूरे मामले में विश्वविद्यालय प्रशासन ने भी मौन साध रखा है। वहीं, राजस्थान सरकार की लचर कानून-व्यवस्था की वजह से कॉलेज में पढ़ने वाली लड़कियों में डर का माहौल है ।इसलिए मैं अपने कार्यक्रम की असफलता के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन, विश्वविद्यालय छात्रसंघ और राजस्थान सरकार को जिम्मेदार मानती हूं।

अरविंद ने कहा कि निर्मल के साथ आ रहे लड़कों के पास काले कपड़े और स्याही की बोतल थी। वे मंच पर मौजूद गेस्ट की इमेज खराब करना चाहते थे।
अरविंद ने कहा कि निर्मल के साथ आ रहे लड़कों के पास काले कपड़े और स्याही की बोतल थी। वे मंच पर मौजूद गेस्ट की इमेज खराब करना चाहते थे।

अरविंद जाजड़ा बोले- निर्मल अपने हो-हल्ला करने वाले लड़कों के साथ आ रहा था
राजस्थान यूनिवर्सिटी के छात्र संघ महासचिव अरविंद जाजड़ा ने कहा- 'मंच पर हमारी विचारधारा के नेता थे, जिन्हें गुलदस्ता देकर मैं नीचे उतर ही रहा था। तभी मैंने देखा कि निर्मल अपने हो-हल्ला करने वाले लड़कों के साथ आ रहा था। इनमें कुछ लड़कों के पास काले कपड़े और स्याही की बोतल भी थी। वह मंच पर मौजूद अतिथि पर डाल उनकी इमेज खराब करना चाहते थे। मैंने उन्हें रोकने की कोशिश की। तब उन लोगों ने मेरे साथ गाली-गलौज की। मैं सहन नहीं कर पाया। चांटा मार दिया। उसके बाद हमारे समर्थकों की पिटाई हुई।'

हथियार का जवाब हथियार से दूंगा - अरविंद जाजड़ा'
अरविंद जाजड़ा ने कहा- मैं लॉ का स्टूडेंट हूं। हर काम कानून और संविधान के दायरे में रहकर ही करता हूं। निर्मल राजस्थान यूनिवर्सिटी का छात्रसंघ अध्यक्ष है। उसका कोई कैडर नहीं रहा। वह हिस्ट्रीशीटर और गुंडों के पांव में धोक देता है। 15-15 गाड़ियों का काफिला लेकर लोगों में खौफ पैदा करना चाहता है। यह राजस्थान यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष को शोभा नहीं देता। मैं निर्मल से डरने वाला नहीं हूं। अगर वह गाली गलौज करेगा। गाली गलोज से उसको जवाब दूंगा। अगर वह शांतिप्रिय बात करेगा। शांतिप्रिय तरीके से उससे बात कर लूंगा। अगर उसने हथियार उठाए। मैं भी हथियार से ही उसका जवाब दूंगा। इसका कोई दूसरा ऑप्शन नहीं होगा।

पुलिस के दखल के बाद मामला शांत हो गया। इसके बाद मंच पर आकर निर्मल चौधरी ने वहां मौजूद स्टूडेंट्स को संबोधित किया।
पुलिस के दखल के बाद मामला शांत हो गया। इसके बाद मंच पर आकर निर्मल चौधरी ने वहां मौजूद स्टूडेंट्स को संबोधित किया।

क्या केंद्रीय मंत्री ने कहा था मुझे पीटे अरविंद- निर्मल
राजस्थान यूनिवर्सिटी के छात्र संघ अध्यक्ष निर्मल चौधरी ने कहा- मुझे वहां इन्विटेशन दिया गया था। छात्रसंघ पदाधिकारी ने बकायदा अपने लेटर पैड पर मुझे बुलाया था। मैं जब वहां पहुंचा तब मेरा स्वागत किया जा रहा था। तभी केंद्रीय मंत्री के सामने उन्हीं के संगठन का महासचिव मेरे साथ मारपीट और धक्का-मुक्की करता है। मैं प्रशासन से बस यही मांग करता हूं कि इस तरह की घटना भविष्य में न हो। इसलिए दोषी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। क्योंकि सार्वजनिक मंच पर इस तरह की लड़ाई होती है। प्रदेश के लिए यह काला अध्याय है।

निर्मल ने अरविंद द्वारा लगाए गए आरोपों पर जवाब देते हुए कहा- अगर मैं काली स्याही झंडे लेकर गया था तो क्या उन्हें मंत्री जी ने कहा था कि तू जाकर इसे ठोक। अगर मैं गुंडा बदमाश हूं तो आपको यह अधिकार किसने दिया कि आप मेरे साथ लड़ाई झगड़ा करें। वह भी एक सार्वजनिक मंच पर। क्या उन्हें कानून पर भरोसा नहीं है।

निर्मल चौधरी ने कहा कि जब मैं महारानी कॉलेज पहुंचा तब छात्रसंघ पदाधिकारियों द्वारा स्वागत किया जा रहा था। लेकिन तभी मुझ पर पीछे से हमला किया गया।
निर्मल चौधरी ने कहा कि जब मैं महारानी कॉलेज पहुंचा तब छात्रसंघ पदाधिकारियों द्वारा स्वागत किया जा रहा था। लेकिन तभी मुझ पर पीछे से हमला किया गया।
महारानी कॉलेज की संयुक्त सचिव शहनाज ने लेटर पैड पर यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष निर्मल चौधरी को किया था इनवाइट।
महारानी कॉलेज की संयुक्त सचिव शहनाज ने लेटर पैड पर यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष निर्मल चौधरी को किया था इनवाइट।

अरविंद ने कहा था, निर्मल आया तो स्टेज पर ही जूते पड़ेंगे- शहनाज
महारानी कॉलेज की संयुक्त सचिव शहनाज बानो ने कहा- मैंने ही यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष निर्मल चौधरी को अपने लेटर पैड से इनवाइट किया था। इसके बाद यूनिवर्सिटी के महासचिव अरविंद जाजड़ा ने मुझे 3 दिन पहले ही कहा कि निर्मल को क्यों बुलाया है। उसे देख कर मुझे गुस्सा आता है। अगर निर्मल आया तो उसके स्टेज पर ही जूते पड़ेंगे। इसके बाद जो घटना हुई वह शर्मसार करने वाली है।

महारानी कॉलेज की प्रिंसिपल मुक्ता अग्रवाल ने कहा कि कार्यक्रम के दौरान काफी लोग दीवार कूदकर कॉलेज में पहुंच गए थे। इसके बाद कुछ देर के लिए माहौल बिगड़ गया था।
महारानी कॉलेज की प्रिंसिपल मुक्ता अग्रवाल ने कहा कि कार्यक्रम के दौरान काफी लोग दीवार कूदकर कॉलेज में पहुंच गए थे। इसके बाद कुछ देर के लिए माहौल बिगड़ गया था।

पहले से छात्रसंघ में चल रहा था विवाद- मुक्ता अग्रवाल
महारानी कॉलेज की प्रिंसिपल मुक्ता अग्रवाल ने बताया- छात्रसंघ पदाधिकारियों ने बिना मेरी परमिशन के इनविटेशन कार्ड बांटे थे। कार्यक्रम से पहले भी छात्रसंघ पदाधिकारी दो गुटों में बैठे हुए थे। जिन्होंने मुझे लिखित सहमति देकर कार्यक्रम के आयोजन की बात कही थी। इसके बाद सोमवार को केंद्रीय मंत्री की मौजूदगी में कार्यक्रम का समापन होने ही वाला था। आखरी के 2 मिनट में कुछ छात्र स्टेज पर पहुंच गए और झगड़ने लगे। जिसके खिलाफ हमने अशोक नगर थाना पुलिस को शिकायत भी दी है।

पहले कार्ड में निर्मल चौधरी का नाम नहीं है। वहीं दूसरे कार्ड में निर्मल का नाम लिखा हुआ है।
पहले कार्ड में निर्मल चौधरी का नाम नहीं है। वहीं दूसरे कार्ड में निर्मल का नाम लिखा हुआ है।

दोषी पर होगी सख्त करवाई - कुलपति
राजस्थान यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर राजीव जैन ने कहा कि इस तरह की घटना शर्मसार करने वाली है। इस पूरे मामले की जांच करवाएंगे, जो भी व्यक्ति दोषी है। उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

बता दें कि महारानी कॉलेज में सोमवार को छात्रसंघ कार्यालय उद्घाटन कार्यक्रम था। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत प्रचारक शैलेंद्र कुमार और विधायक रामलाल शर्मा को मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाया गया था। सुबह 11:30 बजे छात्रसंघ उद्घाटन कार्यक्रम शुरू हुआ। इसके बाद छात्रसंघ कार्यालय का उद्घाटन कर सभी मेहमान और छात्रसंघ पदाधिकारी 12 बजे तक मंच पर पहुंचे। जहां केंद्रीय मंत्री और दूसरे मेहमानों की स्पीच के बाद 1:30 बजे अरविंद जाजड़ा RSS के प्रांत प्रचारक का स्वागत करने के लिए मंच पर आएं।

इसके बाद लगभग 2 बजे निर्मल और अरविंद के झगड़ा हो गया। जो कुछ ही देर में ही दो गुटों में हाथापाई में तब्दील हो गया। इस दौरान 2 दर्जन से ज्यादा छात्र लगभग 5 मिनट तक आपस में झगड़ते गए। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस की टीम ने मामला शांत करवाया। वहीं अब निर्मल चौधरी ने अरविंद के खिलाफ अशोक नगर थाने में एफ आई आर दर्ज करवाई है।

ये भी पढ़ें

RU अध्यक्ष को केंद्रीय मंत्री शेखावत के सामने मारा थप्पड़:महारानी कॉलेज में भिड़े स्टूडेंट लीडर; निर्मल बोले- रुकने वाला नहीं हूं

महारानी कॉलेज के छात्रसंघ कार्यालय उद्घाटन कार्यक्रम में बड़ा बवाल हो गया। कार्यक्रम में राजस्थान यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष निर्मल चौधरी को महासचिव अरविंद जाजड़ा ने थप्पड़ मार दिया। इसके बाद मंच पर ही दोनों के समर्थक आपस में भिड़ गए। बता दें कि इस दौरान मंच पर केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह भी मौके पर मौजूद थे। घटना सोमवार दोपहर की है। (पूरी खबर पढ़ें)