पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Sheel Dhabhai Said See How The Transformation Takes Place In Seven Days, All The Officers And Employees Of The Corporation Are With Us, I Am Responsible From The Constitutional Provisions, Congress BJP Has No Role In This

चार्ज संभालते ही धाभाई के सियासी तेवर:बोलीं- सात दिन में देखना किस तरह कायाकल्प होता है, निगम के सभी अफसर-कर्मचारी हमारे साथ

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शील धाभाई ने जयपुर ग्रेटर नगर निगम मुख्यालय में कार्यवाहक मेयर का चार्ज संभाला - Dainik Bhaskar
शील धाभाई ने जयपुर ग्रेटर नगर निगम मुख्यालय में कार्यवाहक मेयर का चार्ज संभाला

जयपुर ग्रेटर नगर निगम आयुक्त से मारपीट मामले सस्पेंड मेयर सौम्या गुर्जर की जगह सरकार ने वित्त समिति चेयरमैन शील धाभाई को देर रात कार्यवाहक महापौर की जिम्मेदारी दी है। शील धाभाई ने आज सुबह ही जयपुर ग्रेटर नगर निगम मुख्यालय पहुंचकर कार्यवाहक मेयर का चार्ज संभाल लिया। शील धाभाई ने जिस तरह तत्काल चार्ज संभाला है, उसकी सियासी हलकों में चर्चाएं हैं। चार्ज संभालते ही शील धाभाई ने फुलटाइम मेयर वाले तेवर दिखाए हैं।

शील धाभाई ने मीडिया से बातचीत में कहा-आप एक सप्ताह में हम जो काम करेंगे, आप देखना जयपुर ग्रेटर नगर निगम का हम किस तरह कायाकल्प करते हैं। नगर निगम के सारे अफसर और कर्मचारी हमारे साथ हैं। जैसा नाम है ग्रेटर वैसा ही ग्रेट काम करके दिखाएंगे। मॉन्यूमेंट्स का संरक्षण से लेकर हर काम होगा। मेरा शुरू से सपना था कि जयपुर ग्रेटर नगर निगम क्षेत्र में उसके नाम के अनुरूप ही काम हो। सब कुछ बदल चुका है। कोई भी कर्मचारी ऐसा नहीं है काम नहीं करना चाहता, कर्मचारी भी समाज के पार्ट है।

सौम्या के निलंबन पर कहा, इस पर कुछ नहीं कहना, मुझे नई जिम्मेदारी पर फोकस करना है
मेयर सौम्या गुर्जर के निलंबन के सवाल पर शील धाभाई ने कहा, इस पर फिलहाल मुझे कुछ नहीं कहना है। मुझे मेयर की जो जिम्मेदारी दी गई है, उस पर फोकस करना है। चार्ज संभालते वक्त नगर निगम आयुक्त नहीं होने के सवाल पर कहा-आयुक्त होने न होने से फर्क नहीं पड़ता। उनको काम करना है, हमें देखना है वो हमारे साथ है। नगर निगम के सारे अफसर कर्मचारी हमारे साथ है।

संवैधानिक प्रक्रिया के कारण जिम्मेदारी, इसमें कांग्रेस या भाजपा का रोल नहीं
धाभाई ने कहा, एक प्रक्रिया है, इसमें संगठन तो बना नहीं सकता। गेंद सरकार के पाले में थी। जयपुर ग्रेटर मेयर की OBC महिला की सीट थी तो प्रावधानों के हिसाब से उसी वर्ग को दी जा सकती थी। मुझे संवैधानिक प्रक्रिया के तहत जिम्मेदारी दी है, इसमें कांग्रेस भाजपा का कोई रोल नहीं है।

शील धाभाई के तेवर फुलटाइम मेयर जैसे
शील धाभाई ने कार्यवाहक मेयर का चार्ज संभालते ही फुलटाइम मेयर की तरह तेवर दिखाए हैं। धाभाई के बयान बहुत कुछ इशारा करते हैंं। मेयर का चार्ज संभालते ही उन्होंने जिस तरह के बयान दिए हैं उससे साफ जाहिर है कि वे सौम्या गुर्जर की कार्य शैली को पसंद नहीं करती। साथ ही आयुक्त से टकराव को भी उन्होंने इशारों में गलत बता दिया है। शील धाभाई पहले भी अविभाजित नगर निगम की मेयर रह चुकी हैं। इस बार भी वे दावेदार थीं लेकिन उनकी जगह सौम्या गुर्जर को भाजपा ने मेयर बना दिया। जयपुर ग्रेटर नगर निगम में भाजपा का बहुमत है।

खबरें और भी हैं...