• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • SI Recruitment; There Was A Preparation To Seat The Dummy Candidate, 7 Accused Arrested From The Center; 7 Mobiles And 1 Lakh Recovered

एसआई भर्ती:डमी अभ्यर्थी बैठाने की तैयारी थी, सेंटर से 7 आरोपी गिरफ्तार ; 7 मोबाइल और 1 लाख बरामद हुए

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कब्जे से 7 मोबाइल, दो कार व एक लाख रुपए जब्त किए गए हैं।  - Dainik Bhaskar
कब्जे से 7 मोबाइल, दो कार व एक लाख रुपए जब्त किए गए हैं। 
  • एसओजी, सीएसटी, डीएसटी ईस्ट व रामनगरिया थाना पुलिस की संयुक्त कार्रवाई

नीट के बाद अब आरपीएससी की पुलिस सब इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह का पुलिस ने पर्दाफाश किया है। ईस्ट जिले की डीएसटी और रामनगरिया थाना पुलिस ने एक कॉलेज के बाहर से दो कार में बैठे 7 डमी कैंडिडेटों को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपियों की पहचान हनुमान चौधरी निवासी सिरोही, सुरेश निवासी डीडवाना, हरिमोहन, बनकेश, आशाराम व पवन मीना निवासी बामनवास के रूप में हुई है। इनके कब्जे से 7 मोबाइल, दो कार व एक लाख रुपए जब्त किए गए हैं।

इस बारे में डीसीपी प्रहलाद कृष्णिया ने बताया एसआई परीक्षा में निगरानी के लिए एसओजी, पीएचक्यू और कमिश्नरेट की स्पेशल टीमें, डीएसटी और थानों की स्पेशल टीमें परीक्षा केन्द्रों के पास में तैनात थीं। रामनगरिया एसएचओ पुरुषोत्तम महेरिया की टीम को वीआईटी कॉलेज के पास दो कारों में संदिग्ध युवक मिले थे। पूछताछ की तो सभी घबरा गए। पुलिस मोबाइल चेक किया तो उसमें एसआई भर्ती में बैठने वाले कुछ अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र एक-दूसरे भेजे हुए मिले।

मोबाइल चैट से खुलासा-15 लाख में किया था सौदा

आरोपियों के मोबाइल चैट में खुलासा हुआ कि एसआई भर्ती परीक्षा पास करवाने के लिए प्रत्येक अभ्यर्थी से 15 से 20 लाख रुपए में सौदा तय किया गया था। फिलहाल, सरगना विशाल फरार है और उसकी तलाश में छापामारी की जा रही है। अब विशाल के पकड़ में आने के बाद ही खुलासा होगा कि ये गिरोह किस तरीके से परीक्षा पास करवाते हैं?

आरोपियों की चैट के आधार परीक्षा केन्द्र के प्रबंधन की भूमिका की जांच की जा रही है। आरोपियों के मोबाइल में करीब आधा दर्जन अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र मिले हैं। अब पुलिस टीम प्रवेश पत्र वाले अभ्यर्थियों के संबंध में जांच कर रही है।

केवल वाट्सएप के जरिए ही संपर्क

1. बदमाश एक-दूसरे से वाट्सएप कॉल और चेटिंग से संपर्क करते थे। साथ ही, एक-दूसरे को लोकेशन भेज रखी थी। हनुमान व सुरेश अभ्यर्थी से एडवांस देने के लिए एक लाख रुपए लेकर आए थे। बाकी पैसे परीक्षा पास होने के बाद देने की बात हुई है।

2.बदमाश डमी कंडीडेट बैठाने या सेन्टर में वीक्षक लगाने की बात कहते है। प्राथमिक पूछताछ में सामने आया कि यह गिरोह लोगों को डमी कंडीडेट बैठाएंगे या सेन्टर में वीक्षक लगाकर पेपर सॉल्व कराने का झांसा देकर पैसे वसूलते है।

3.एडि. डीसीपी राजऋषि वर्मा व सांगानेर एसीपी नेमीचंद खारिया की टीमों आरोपियों से पूछताछ और मोबाइल चैट का एनालिसिस कर रही है। कुछ टीमें सरगना विशाल गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही हैं।

इधर, प्रदेशभर में नकल कराने में 20 लोग गिरफ्तार

पुलिस ने प्रदेशभर से 20 नकल कराने वालों को गिरफ्तार किया है।

  • उदयपुर पुलिस ने भूपालपुरा स्थित राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय सेंटर पर नकल करते फर्जी अभ्यर्थी को गिरफ्तार किया। आरोपी शामली अमित कुमार है। वह हेयर विग में डिवाइस छिपा लाया था और कान में ब्लूटूथ लगाकर नकल कर रहा था। परीक्षा खत्म होने से आधे घंटे पहले उसे दबोच लिया गया।
  • पाली में एक निजी स्कूल के परीक्षा केंद्र में माेबाइल पर ब्लूटूथ ऑन करके वाट्सएप के जरिए प्रश्नपत्र का हल करने वाले आराेपी तथा उसके दाेस्त काे गिरफ्तार किया है। दाेनाें बीकानेर के रहने वाले हैं। इनकी पहचान राजेश बेनीवाल और नरेंद्र खींचड़ के रूप में हुई है।
  • बीकानेर मे एसआई भर्ती में पुलिस ने 2 नाबालिग समेत 10 लोगो को नकल कराने के आरोप में गिरफ्तार किया है। ऐसे में जयपुर की संख्या मिले तो पूरे प्रदेश में 20 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस का कहना है सेंटरों पर कड़ी निगरानी की जा रही है।