नाचते-गाते बारात पहुंची- दुल्हन परिवार समेत गायब:बहन ने भाई की शादी तय कराई- बारात लाई, 2 लाख खर्च किए लेकिन खाली हाथ लौटे

जयपुर5 महीने पहले

जयपुर में मैरिज ब्यूरो संचालक बताकर तीन लोगों ने एक महिला को उसके भाई की शादी करवाने का भरोसा दिलाया। एक होटल में लड़की दिखाई। रिश्ता पक्का करवाया। फिर शादी के खर्च के बहाने दो लाख रुपए वसूल कर लिए। भाभी को घर लाने का अरमान लिए बहन नाचते गाते रिश्तेदारों के साथ भाई की बारात लेकर मैरिज गार्डन पहुंची। लेकिन गेट पर ताला लगा नजर आया। न दुल्हन नजर आई और न ही घरवाले। बारात को वापस लौटना पड़ा।

घटना के बाद पीड़ित महिला ने रकम लौटाने के लिए चक्कर काटे तो दो चेक सौंप दिए। वे भी बाउंस हो गया। आखिरकार ठगी का शिकार हुई बहन ने कानोता थाने में सोमवार को केस दर्ज करवाया। जमवारामगढ़ में रहने वाली गुड्‌डी देवी ने रिपोर्ट में बताया कि उसके भाई कजोड़ जांगिड़ की शादी नहीं हो रही थी। वे कई साल से लड़की तलाश कर रहे थे।

भाई की शादी न होने से परेशान थी बहन

इसी दौरान उसकी मुलाकात गांव के गंगाराम नामक व्यक्ति से हुई। उसने कानोता में कृष्णा होटल में सर्व समाज सामूहिक विवाह सम्मेलन में विवाह करवाए जाने की जानकारी दी। तब गुड्डी अपने भाई कजोड़ और परिवार के सदस्यों के साथ होटल कृष्णा पहुंची। वहां पीड़ित परिवार की मुलाकात गायत्री देवी, श्रवण सिंह और राहुल जांगिड़ से हुई। उन्होंने बताया कि वे मैरिज ब्यूरो चलाते हैं।

अविवाहित लड़के व लड़कियों के काफी शादी संबंध करवा चुके हैं। उन तीनों ने गुड्डी को भी उसके भाई की शादी करवाने का आश्वासन दिया। विवाह के लिए करीब ढाई लाख रुपए खर्च आना बताया। फिर रजिस्ट्रेशन शुल्क और अन्य खर्च बताकर एडवांस 2.11 लाख रुपए जमा कर लिए। उन्होंने गुड्डी देवी और उसके भाई कजोड़ को होटल में मौजूद कुछ लड़कियां दिखाई। उनमें से एक लड़की कजोड़ और उसके परिवार को पसंद आ गई।

बारात को गार्डन में बुलाया, दरवाजे पर मिला ताला
पीड़िता गुड्‌डी ने आरोप लगाया है कि आरोपियों ने 20 जुलाई को लूनियावास स्थित हनुमान मंदिर बगीची में बारात लाने की बात कही। तय तारीख पर गुड्डी देवी अपने भाई कजोड़ की बारात लेकर बगीची पर पहुंची। लेकिन वहां पर कोई भी मौजूद नहीं मिला। गेट पर ताला लगा था। वहां न कोई सजावट थी। न ही कोई व्यवस्था। यह देखकर परिवार हैरान रह गया।

गुड्डी देवी ने गायत्री देवी को फोन कर बातचीत की तो उन्होंने बारात कानोता में ही कृष्णा होटल लेकर आने की बात कही। गुड्‌डी भाई की बारात लेकर कृष्णा होटल पहुंची। वहां भी कोई व्यक्ति नहीं मिला। जब गुड्डी देवी ने गायत्री देवी, श्रवण सिंह और राहुल जांगिड़ से फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया तो उनका मोबाइल फोन बंद आने लगा। तब बारात को दुल्हन ब्याहे बिना ही लौटना पड़ा।