फर्जी ई-मेल से 49 लाख रुपए ठगे:लखनऊ में बैठकर ठगों ने बैंक में मेल किया, फर्जी लेटर हेड से रुपए ट्रांसफर करवाए, दो गिरफ्तार

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जयपुर पुलिस ने कंपनी की फर्जी ई मेल बनाकर बैंक अकाउंट से 49 लाख रुपए की ठगी के दो आरोपियों को लखनऊ से गिरफ्तार किया है। रुपए ट्रांसफर करने के लिए कंपनी के लेटर हेड भी भेज दिए थे। पुलिस राजस्थान में हुई ठगी के बारे में पूछताछ कर रही है।

डीसीपी क्राइम अमृता दुहान ने बताया कि तौसिब अहमद पुत्र सलीम अहमद निवासी हरदोई उत्तरप्रदेश व कुणाल गुप्ता पुत्र ओमप्रकाश निवासी अलीगंज लखनउ काे गिरफ्तार किया है। ये लखनऊ में इकबाल सिद्दकी के मकान में किराए पर रहते है। दोनों को लखनऊ उत्तरप्रदेश से गिरफ्तार किया है। कमल एंड कंपनी की मेल आईड़ी से मिलती हुई आईड़ी बनाकर कंपनी के सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया पर मेल किया। फर्जी लेटर हेड से अन्य खातों में RTGS/NEFT के जरिए 49 लाख रुपए निकाल लिए। तब कंपनी की ओर से सांगानेर में रिपोर्ट दर्ज कराई गई।

ये बदमाश फर्जी नाम-पतों पर मोबाइल सिम लेकर आईड़ी बना लेते है। उनसे ई मेल आईड़ी बनाकर ठगी करते है। ये किराए के मकान में रहते है। ठगी के बाद दोबारा से मकान बदल लेते है। पुलिस ने मामले की जांच करते हुए बैंक में पहुंच कर पूरा रिकॉर्ड लिया। बदमाशों के मोबाइल सिम फर्जी मिली। मोबाइल की लोकेशन के आधार पर लखनऊ पहुंचे। तौसिब पहले भी जोधपुर में ठगी के मामले में गिरफ्तार हो चुका है। सांगानेर में एक ऑटो वर्ल्ड कंपनी के खाते से 23 लाख रुपए ट्रांसफर किए है। पुलिस उसकी भी जांच कर रही है।

कैसे करते है ठगी

ये आरोपी प्रतिष्ठित कंपनियों की मिलती जुलती ईमेल आईड़ी बना लेते है। फिर ऐसी बैंक में मेल करते है जहां पर कंपनी अकाउंट है और वहां से रोजाना लाखों का लेनदेन होता है। उन्हें कंपनी के फर्जी लेटर हेड, फर्जी चेक भी भेज देते है। ई मेल आईड़ी से कंपनी के अकाउंट से यूपी, बिहार व अन्य राज्यों के खातों में रुपए ट्रांसफर कर लेते है। बैंक कर्मी रोजाना के लेनदेन के हिसाब से रुपए ट्रांसफर कर देते है। फिर वे रुपए अपने एटीएम, पेटीएम से निकाल लेते है।