पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Slammed Outside For An Hour; The Nurse And The Compounder Kept Avoiding Each Other, Pushed The Family Out By Pushing, Broke The Mobile

SMS अस्पताल में मरीज की मौत पर हुआ हंगामा:एक घंटे तक मरीज को बाहर ही पटक कर रखा; नर्स व कंपाउंडर एक-दूसरे पर ही टालते रहे, धक्का-मुुक्की कर परिजनों को बाहर निकाला, मोबाइल तोडे़

जयपुरएक महीने पहले
एसएमएस अस्पताल में परिजनों से समझाइश करते हुए।

राजस्थान के सबसे बड़े SMS अस्पताल में आए दिन मरीजाें की मौत होने पर डॉक्टरों के लापरवाही के आरोप लगते रहे है। शुक्रवार दोपहर को भी एक मरीज को परिजन लेकर आए। एक घंटे तक मरीज को किसी ने नहीं देखा। परिजन हाथों में पर्चियां लेकर घूमते रहे। नर्स और कंपाउंडर एक-दूसरे पर मरीज को देखने के लिए टालते रहे। आखिरकार मरीज को मृत घोषित कर दिया। मरीज की मौत होने पर परिजनों ने अस्पताल के बाहर हंगामा किया। परिजनों का आरोप हैं कि उनके साथ दुव्यर्वहार किया। धक्का-मुक्की कर बाहर निकाल दिया। उनके फोन भी टूट गए। उन्होंने रिकॉडिंग शुरू की तो पुलिसकर्मी हाथ जोड़ने लगे। रिकॉडिंग करने से मना किया।

SMS में मरीज को दोपहर 12 बजे लेकर पहुंचे
अनीश सैनी ने बताया कि उनके भाई रूपेश सैनी को दोपहर 12 बजे लेकर आए थे। उनकी तबीयत ज्यादा खराब थी। इमरजेंसी से उन्हें वार्ड में शिफ्ट कर दिया। वार्ड में ले जाने के बाद 10 मिनट तक उन्हें बाहर ही पटक कर रखा था। किसी ने उन्हें देखा। वार्ड में मौजूद नर्स से बोला। नर्स ने कहा कि मेरा काम नहीं है। अभी कंपाउंडर आएगा। उन्होंने कंपाउंडर से भाई को देखने के लिए बोला तो उसने कहा कि इतनी इमररजेंसी नहीं है। वहां जाकर चुपचाप बैठ जाओं। उसने दोबारा से नर्स से जाकर कई बार फरियाद की। उसने एक भी नहीं सुनी।
डयूटी ऑफ हो गई दूसरा स्टाफ आएगा
कुछ देर के बाद नर्स ने बोला कि मेरी डयूटी ऑफ हो चुकी है। दूसरा स्टाफ आकर देखेगा। तब उसने कंपाउंडर से जाकर देखने के लिए बोला तो उसने भी कहा कि मैं जा रहा हूं। नर्स को बोलो। वे दोनों ही एक-दूसरे पर टालते रहे। इमरजेंसी में डॉक्टर ने देखकर पर्ची भी लिख कर दी थी। वह पर्ची से दवाई भी लेकर आया था, लेकिन वार्ड़ में किसी ने भी ध्यान नहीं दिया। बाद में स्टाफ ने आकर कहा कि उसके भाई की मौत हो चुकी है।
धक्का-मुक्की कर मोबाइल भी तोड़े
परिजनों का आरोप है कि भाई की मौत को लेकर अस्पताल प्रबंधन के पास पहुंचे। वहां पर अन्य स्टाफ भी बैठा हुआ था। वहां पर उन्होंने मोबाइल से रिकॉडिंग शुरू कर दी। उन्होंने रिकाॅडिंग करने से मना किया। उनके साथ बदतमीजी करने लग गए। अस्पताल के गार्ड भी आ गए। वे धक्का-मुक्की करने लग गए। उनके मोबाइल भी नीचे गिरा कर तोड दिए। अस्पताल में चौकी से पुलिसकर्मियों को भी बुलाया गया। पुलिसकर्मियों ने आकर समझाइश की। इसके बाद शव को मोर्चरी में रखवा दिया गया। शव की कोरोना टेस्टिंग की जाएगी। रिपोर्ट आने पर ही परिजनों को शव सुपुर्द किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...