• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Sow Thorns On The Way To Their Own Homes And Hundreds Of Families Of 17 Villages, 44 Dhanis Settled On The Banks Of Rivers In Madhya Pradesh

पानी खत्म-खेत झुलसे, गांव-घर छोड़ गए लोग:राजस्थान के 17 गांव, 44 ढाणियों के सैकड़ों परिवार मध्यप्रदेश में नदियों किनारे जा बसे

जयपुरएक महीने पहलेलेखक: भरत सिसौदिया/मनोज श्रेष्ठ
  • कॉपी लिंक

मई में वो हो गया जो जून या जुलाई की शुरुआत में होता था। पारा 50 हो गया। इतनी गर्मी कि जलस्रोत सूख गए। खेत में जो बोया वो जल गया। मजदूर चले गए तो माइंस भी बंद हो गईं। परिणाम यह कि गांव खाली हो गए। परिवार पलायन कर मध्यप्रदेश की तरफ चले गए।

ऐसी जगह जहां खुद और पालतू जानवरों को पानी नसीब हो सके। यह हालात हैं पूर्वी राजस्थान के। भास्कर ने धौलपुर, सरमथुरा, MP के मुरैना व UP के सैपऊ से लगे राजस्थानी गांवों तथा डांग के गरही जाफर, मरेना, बसाई व बरसला तक जाकर लोगों के हालात जाने, पढ़िए विस्तृत रिपोर्ट-

धौलपुर: लोग पलायन कर पार्वती नदी किनारे चले गए
धौलपुर में गर्मी से चंबल का पाट 300 मीटर भी नहीं रहा। कोटा में 800 मीटर होता है। पानी की इतनी कमी कि डांग क्षेत्र के 17 गांव व 44 ढाणियां खाली हो गए हैं। लोग पलायन कर बसेड़ी के पास पार्वती नदी के किनारे या शहरी क्षेत्रों में चले गए हैं।

डांग: 280 खदानें रुकीं, अवैध खनन तक रुका
280 खदानें सूनी पड़ी हैं। पत्थर सुबह 9 बजे ही गर्म हो जाता है। खरौली के प्रहलाद व सरमथुरा में माइंस संचालक मानसिंह चौहान बताते हैं कि टेंट लगाए, मुफ्त खाना दिया, ताकि काम हो लेकिन मजदूर नहीं रुके। अवैध खनन तक बंद हो गया।

झिरी: गर्मी से 72 किमी का रास्ता 500 मीटर रह गया
मध्यप्रदेश सीमा पर झिरी पंचायत में शंकरपुर राजस्थान का अंतिम गांव है। नांव चालक राधेश्याम बोले कि अमूमन चंबल के इस पार से उस पार जाने के लिए 72 किलोमीटर जाना पड़ता है। अब 10 रुपए में नाव में बाइक रखकर 5 मिनट का रास्ता है।

सरमथुरा: 4 गांव के 200 से ज्यादा परिवार अब एक कुएं के भरोसे
सरमथुरा के गश्तीपुरा गांव के पास खेत में एक कुआ है। 4 गांव इसी के भरोसे हैं। सरमथुरा नगर पालिका के नेता प्रतिपक्ष सौनू चरौरे बताते हैं कि 200 परिवार यहीं से पानी निकालते हैं। मानसिंह चौहान ने बताया कि सरकार ने 82 गांव 64 मगरा के नाम से पानी की स्कीम शुरू की थी, लेकिन उनमें पानी दो-तीन दिन में आता है।