पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

संभागीय आयुक्त के निरीक्षण में नहीं मिले अफसर:तहसीलदार ने कहा-फील्ड में हूं पर नहीं भेज सकीं लोकेशन, कार्रवाई

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर के सब रजिस्ट्रार ऑफिस संख्या 9 एवं 10 : साढे़ दस बजे तक भी नहीं पहुंचे अधिकारी
  • आमेर के सीएमएचओ भी नहीं मिले, अस्पताल के कई कर्मचारी भी नदारद

संभागीय आयुक्त डाॅ. समित शर्मा ने शुक्रवार काे पंजीयक व मुद्रांक के सब रजिस्ट्रार ऑफिस 9 व 10 का औचक निरीक्षण किया। तहसीलदार सेवा के दाेनाें उप रजिस्ट्रार 10:35 बजे तक अनुपस्थित पाए गए। आयुक्त शर्मा ने सब रजिस्ट्रार ऑफिस 9 में तहसीलदार कनक जैन से माेबाइल पर बात की तो कनक जैन ने सब रजिस्टार-2 का अतिरिक्त चार्ज हाेने के कारण वहां हाेना बताया लेकिन वह वहां भी उपस्थित नहीं थीं।

जैन ने खुद काे फील्ड में होना बताया तो आयुक्त ने वाट्सएप लोकेशन मांग ली और दौरे का विवरण मांगा ताे वह नहीं दे पाई। इस पर पंजियन व मुद्रांक डीआईजी प्रथम प्रतिभा पारीक काे अनुशासनात्मक कार्रवाई के निर्देश दिए।
4-4 दिन से ऑफिस नहीं आ रहे अधिकारी पर हाजिरी रजिस्टर में छुट्‌टी का जिक्र नहीं

10:30 बजे तक उप रजिस्ट्रार-9 के ऑफिस में 7 में से मात्र 1 कार्मिक उपस्थित पाया। जांच में पता चला कि कार्यालय की इंचार्ज तहसीलदार कनक जैन 3 दिन से अनुपस्थित थी। उपस्थित रजिस्टर में कॉलम खाली पाया। इसी प्रकार रेखा कुमारी मीणा 4 दिन से अनुपस्थित थी, उनका भी उपस्थित रजिस्टर का कॉलम खाली मिला। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मानपुरा मचेरी ब्लॉक आमेर का सुबह 11:30 बजे आमेर का औचक निरीक्षण किया। डॉ संजय गोयल, वसंता एलएचवी, प्रेमलता शर्मा एएनएम, शफी मोहम्मद वार्ड बॉय व उगन्ता सैनी एएनएम ड्यूटी समय में हॉस्पिटल से अनुपस्थित पाए गए।

मरीज बाहर इंतजार कर रहे थे। अनुपस्थित काे माेबाइल कर पूछ गया ताे किसी ने मीटिंग का बहाना बताया तो किसी ने आमेर ब्लॉक सीएमएचओ कार्यालय में दाेपहर 2 बजे से प्रारंभ होने वाली ट्रेनिंग में भाग लेने की बात बताई। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी जयपुर प्रथम नराेत्तम शर्मा काे ब्लॉक सीएमएचओ डॉ मुकेश बैरवा काे पर्यवेक्षणीय लापरवाही के लिए नोटिस जारी करने के निर्देश दिए । सरकारी डॉक्टर के घर में चल रहे पैथलॉजी में 3 माह में 350 जांचें हुईं

लैब में पिछले 3 माह से अधिक समय में मात्र 18 जांच हुई जबकि वहां लैब टेक्नीशियन, सेल काउंटर यूपीटी जांच किट अन्य सामग्री उपलब्ध है। अस्पताल के ठीक सामने एक डायग्नोस्टिक सेंटर और एक अन्य सरकारी डॉक्टर के यहां संचालित निजी क्लीनिक से हजाराें रूपए की जांचें हाेने की बात सामने आई है।

क्लीनिक में पिछले 3 महीनों में सीबीसी की 350 से अधिक जांचे हुई है जबकि चिकित्सालय की लैब में एक भी नहीं हुई। निजी लैब में सरकारी चिकित्सक डॉ. नरेंद्र कुमार डांगी का निजी क्लीनिक मिला। डॉ. डांगी प्रतिमाह नॉन प्रैक्टिसिंग अलाउंस लेते हैं, उसके बावजूद निजी प्रैक्टिस करते पाए। इस पर विराट नगर फलाॅक सीएमएचओ काे कार्रवाई के निर्देश दिए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें