विवाह पंचमी आज:ठाकुर जी की निकलेगी बारात, तोरण के बाद होगा पाणिग्रहण संस्कार

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ठाकुर श्री रामजी के तिलक चढ़ाते मंदिर महंत। - Dainik Bhaskar
ठाकुर श्री रामजी के तिलक चढ़ाते मंदिर महंत।

मार्गशीष शुक्ल पंचमी बुधवार को शहर में छोटी चौपड़ स्थित सीतारामजी मंदिर सहित रामजी के अन्य मंदिरों में राम-जानकी विवाहोत्सव का आयोजन किया जाएगा। ठाकुर जी की बारात निकासी निकलेगी। तोरण के बाद पाणिग्रहण संस्कार होगा। इस अद्भूत विवाह के साक्षी बनेंगे शहरवासी जो अयोध्यावासी और जनकपुरवासियों के रूप में शामिल होंगे। रामचरित मानस के मुताबिक भगवान राम का विवाह मार्गशीष शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि पर हुआ था।

रंगी रचनी मेहंदी सिया जी बाई सारे हाथ रचाओरी...
सीता जी को सब सखियों ने मेहंदी लगाई। “ रंगी रचनी मेहंदी सिया जी बाई सारे हाथ रचाओरी” व “सिया जी रे हाथ मेहंदी मानक रंग” पदों का गायन रामगोपाल बुशर, रामशरण हल्दिया, अवधेश पोद्दार व उपस्थित वैष्णव समाज ने सखी भाव में प्रस्तुत किए। मटकोर उत्सव में सीता जी ने कमला जी का पूजन व विभिन्न वैवाहिक रस्म-रिवाजों को समाज के वैष्णव रसिकों ने पदों के माध्यम से साकार किया। विवाह उत्सव के ये सभी रस्में मंदिर महंत किशोर महाराज के सानिध्य में हर्षोल्लास से संपन्न हुए। बुधवार को ठाकुर जी की बारात निकासी, तोरण, पाणिग्रहण आदि कार्यक्रम मंदिर प्रांगण में 8 बजे से शुरू होंगे।

रामजी का तिलक, सीताजी के मटकोर कार्यक्रम
सीतारामजी मंदिर में मनाए जा रहे सीताराम जी विवाह उत्सव व 46 दिनी मिजमानी उत्सव के तहत प्रतिदिन विभिन्न आयोजन हो रहे हैं। मंगलवार को रामजी का तिलक, सीताजी के मटकोर व मेहंदी कार्यक्रम हुआ। प्रसंगानुसार जनक जी ने रामलला जी का तिलक किया। मंत्री श्री रामबाबू झालानी ने बताया कि संस्था के उपाध्यक्ष रामप्रसाद अग्रवाल ने अपने कर कमलों से ठाकुर जी का तिलक किया। इसके बाद सीता जी के सगाई का प्रसंग हुआ।

खबरें और भी हैं...