24 साल से फरार धोखेबाज गिरफ्तार:1998 में फाइनेंस कंपनी खोल किया फर्जीवाड़ा, केस हुआ तो कई जगह काटी फरारी, अहमदाबाद में कर रहा था फैक्ट्री में काम

जयपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गिरफ्तार आरोपी कमलेश कुमार पन� - Dainik Bhaskar
गिरफ्तार आरोपी कमलेश कुमार पन�

जयपुर के ब्रह्मपुरी इलाके में 1998 में धनयोग फाइनेंस कंपनी खोल कर जालौर निवासी कमलेश कुमार ने कई लोगों से लाखों रुपया ठगा और फरार हो गया। उसने कंपनी खोलने के बाद कई ऐजेंट नियुक्त किए और आकर्षक ब्याज का लालच दिया। कमलेश की कंपनी के कर्मचारियों ने उसके खिलाफ 24 हजार रुपये की धोखाधड़ी का मामला नाहरगढ़ रोड थाने में दर्ज कराया था।

कमलेश कुमार ने कई जगह फरारी काटी। सूरत में उसके भाई का बिजनेस था। पुलिस को मुखबिर से कमलेश के बारे इनपुट मिला था कि आरोपी गुजरात के अहमदाबाद में एक फैक्ट्री में काम कर रहा है। आखिरकार 24 साल बाद अब उसे अहमदाबाद से गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस की डीएसटी नॉर्थ टीम ने 24 साल से फरार दो हजार रुपये के इनामी आरोपी कमलेश को गिरफ्तार कर लिया। नाहरगढ़ रोड थाने में दर्ज धोखाधडी के मामले में कमलेश लंबे समय से वांछित था और उस पर दो हजार रुपये का इनाम भी रखा गया था।

नाहरगढ़ थानाधिकारी देवेंद्र कुमार ने बताया कि जालौर निवासी कमलेश कुमार पनपालिया के बारे में पुलिस की टीम को मुखबिर से सूचना मिली कि वह गुजरात के अहमदाबाद में फरारी काट रहा है। इस पर डीएसटी टीम ने जाल बिछाकर आरोपी कमलेश कुमार पनपालिया को अहमदाबाद से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी परिवार सहित अहमदाबाद में रह रहा था और फैक्ट्री में नौकरी कर रहा था। शुरूआती पुलिस पूछताछ में सामने आया कि आरोपी ने पिछले 24 साल में पुलिस ने बचने के लिए अलग-अलग जगहों पर फरारी काटी थी।

फाइनेंस कंपनी खोल कर की थी धोखाधड़ी
थानाधिकारी देवेंद्र कुमार ने बताया कि आरोपी कमलेश कुमार के खिलाफ 1998 में फाइनेंस कंपनी खोल कर लोगों से धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज था। आरोपी के फरार हो जाने के बाद पुलिस ने काफी तलाश की मगर सफलता नहीं मिली। कुछ दिनों पहले मुखबिर से आरोपी का सुराग मिला तो पहले उसकी तस्दीक की गई। उसके बाद पुलिस ने अहमदाबाद से आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। पुलिस इसका पता लगा रही है कि कमलेश ने तब फाइनेंस कंपनी के जरिये कितने लोगों से कितने रुपयों की ठगी की थी।

खबरें और भी हैं...