पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • The Claim Of Money Rain, Doubling The Money And Converting Ordinary Things Into Gold By Special Tantric Action, Caught Three Thugs Living In Gujarat, One Was Working In The Army

लोहे-तांबे को सोना बनाने वाले 'तांत्रिक ठग' गिरफ्तार:पुलिस का स्टिकर लगी लग्जरी गाड़ियों में घूमते, लोगों को झांसा देते और कहते- कुछ पैसा लगाओ फिर देखो बरसात हो जाएगी, जालसाजों में एक पूर्व सैनिक भी

जयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सफेद शर्ट में कनू भाई, बीच में मोहम्मद कामिल और पिंक टीशर्ट में नरेश गिरी। - Dainik Bhaskar
सफेद शर्ट में कनू भाई, बीच में मोहम्मद कामिल और पिंक टीशर्ट में नरेश गिरी।

जयपुर में सिंधी कैंप पुलिस ने 3 जालसालों को गिरफ्तार किया है। इसमें से एक पूर्व सैनिक है। तीनों जयपुर में सिंधी कैंप इलाके में एक होटल में रुके हुए थे। ये महंगी गाड़ियों में घूूमते हैं और अलग-अलग शहरों में जाकर लोगों से तांत्रिक विद्या के नाम पर रुपए ऐंठ लेते हैं। सिंधी कैंप पुलिस ने तंत्र-मंत्र व पूजा का सामान, पुलिस का स्टिकर लगी कार को भी जब्त किया है।

गुजरात के रहने वाले हैं तीनों

डीसीपी वेस्ट प्रदीप मोहन शर्मा ने बताया कि नरेश गिरी पुत्र हेमराज गिरी निवासी गूंजा मेहसाना, गुजरात, मोहम्मद कामिल पुत्र कासिम निवासी सरखेज अहमदाबाद (गुजरात) व कनू भाई जोशी पुत्र केशवलाल निवासी बनासकांठा, गुजरात को गिरफ्तार किया गया है। तीनों तांत्रिक गुजरात के रहने वाले हैं। दो दिन पहले ही जयपुर आए थे। इनके खिलाफ भीलवाड़ा के रहने वाले गौरव सिंह ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। गौरव ने पुलिस को बताया कि उसके परिचित को तीनों ने झांसा दिया कि वे एक विशेष तंत्र विद्या के जरिए रुपए को दोगुना करने की कला जानते हैं। कोई इनको रुपए दे दे तो वे रुपयों को इसी विद्या से दोगुने कर देते हैं। तब परिचित ने उन्हें 50 हजार रुपए दे दिए। परिचित के कहने पर गौरव ने भी उन्हें 50 हजार रुपए दे दिए। दोनों ने एक लाख रुपए उसे दिए। रुपए दोगुने नहीं हुए तो इनके बीच में पहले कहासुनी हो गई। रुपए वापस मांगने पर तीनों बदमाश उसे धमकी देने लग गए। तीनों ने खुद को गुजरात पुलिस में बताया। तब गौरव ने पुलिस के पास जाकर सूचना दी।
लोहे और तांबे की चीजों को सोने में बदलने का दावा
सिंधीकैंप थानाधिकारी गुंजन सोनी ने बताया कि जांच में पता लगा कि नरेश गिरी पहले आर्मी में था। गिरफ्तार तीनों ठग आपस में अच्छे दोस्त हैं। तीनों पहले लोगों को विश्वास में लेते हैं। दावा करते हैं कि वे तांत्रिक विद्या में माहिर हैं। इसके बाद लोगों को धनवर्षा, रुपए दोगुने, लोहे और तांबे चीजों को सोने में बदलने का दावा करते हैं। इसके बाद अलग-अलग शहरों में जाकर होटलों में लोगों से मिलते हैं। उन्हें झांसे में फंसा कर होटलों में ही बुला लेते हैं। उनके साथ होटल में ही रुकते हैं। यहां तक होटलों में रुकने से लेकर आने-जाने का पूरा खर्चा उनसे ही लेते हैं। तंत्र विद्या की बात बोलकर उनसे रुपए ले लेते हैं। रकम ऐंठने के बाद कुछ दिन झूठे दावे करते हैं। रुपए मांगने पर उन्हें पुलिस में होने की धमकी देकर चले जाते हैं।
तीनों को होटल से पकड़ा

सिंधी कैंप थाने के एएसआई बनवारीलाल, हेड कॉन्स्टेबल प्रकाशचंद, बद्री नारायण, कॉन्स्टेबल गंगाराम, सतवीर, महीपाल की टीम होटल पहुंची और गिरफ्तार किया। तीनों से इनका परिचय गुजरात के मेहसाना में हुआ था। तीनों के होटल में रुकने का खर्चा भी पीड़ित ही भुगतान कर रहा था। होटल के कमरे की तलाशी लेने पर हरा कपड़ा, लाल कपड़ा, काला धागा, सामग्री सहित अन्य तांत्रिक क्रियाओं से संबंधित सामान मिला है।

खबरें और भी हैं...