जयपुर में पुलिसवाले बनकर लूट की कोशिश:पानी मांगने के बहाने घर में घुसकर तान दी बंदूक, महिला चिल्लाई तो भागे

जयपुर5 महीने पहले

जयपुर में बदमाशों इतने बेखौफ हैं कि पुलिस की वर्दी में वारदात करने लगे हैं। ये बदमाश पुलिस की वर्दी पहन कर घर में घुसने का प्रयास करते हैं। इस तरह से बात करेंगे जैसे कि आप को पहले से जानते हैं। आप के इलाके के थाने का नाम लेकर कहते हैं कि वहीं से आए हैं।

आप इनके झांसे में आए नहीं और घर में प्रवेश दिया कि ये बंधक बनाकर लूटपाट करते हैं। जयपुर शहर में मंगलवार दोपहर मानसरोवर और करधनी इलाके में इसी से वारदात करने की कोशिश की गई। फर्जी पुलिसकर्मी सीसीटीवी कैमरों में कैद हो गए।

करधनी थाना इलाके में बदमाशों ने पानी मांगने के बहाने जबरदस्ती घर के अंदर घुसने की कोशिश की। महिला चिल्लाने लगी तो उल्टे पांव भागे।
करधनी थाना इलाके में बदमाशों ने पानी मांगने के बहाने जबरदस्ती घर के अंदर घुसने की कोशिश की। महिला चिल्लाने लगी तो उल्टे पांव भागे।

पहली घटना
करधनी थाना इलाके के मंगलम सिटी स्थित डी 103 में रहने वाले भंवरसिंह नरूका ने FIR करधनी थाने में दर्ज कराई हैं। उन्होंने बताया कि मंगलवार दोपहर 12.40 बजे उनके फ्लैट पर एक पुलिसकर्मी आया। उस समय घर पर उनकी पत्नी बृजेश कंवर व उनकी माता चंद्रमुखी मौजूद थीं। उनकी पत्नी ने फ्लैट के अंदर का गेट खोला, बाहर का जाली का दरवाजा नहीं खोला। जाली के दरवाजे के भीतर रहकर पुलिसकर्मी से बात की।

पुलिसकर्मी ने कहा कि वह करधनी पुलिस थाने से आया है। उनके पति भंवर सिंह से बात करनी है। बृजेश कंवर ने कहा कि वह नहीं है। इस पर उसने भंवर सिंह का नंबर मांगा। इसके बाद पुलिसकर्मी ने महिला से पानी पिलाने के लिए कहा।

महिला ने जैसे ही पानी दिया आरोपी और उसके दो साथी घर में जबरन घुस गए। एक बदमाश ने पिस्टल दोनों महिलाओं पर तान दी। इस पर दोनों महिलाओं ने जोर जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया। इससे घबरा कर तीनों बदमाश मौके से कार से फरार हो गए। बदमाशों का बाजार से निकलते हुए का भी सीसीटीवी फुटेज पुलिस के हाथ लगा है।

मानसरोवर में महिला को दोनों बदमाशों के कपड़ों से संदेह हुआ तो उसने गेट ही नहीं खोला। इस पर दोनों बदमाश खिसक लिए।
मानसरोवर में महिला को दोनों बदमाशों के कपड़ों से संदेह हुआ तो उसने गेट ही नहीं खोला। इस पर दोनों बदमाश खिसक लिए।

दूसरी घटना
मानसरोवर थाना इलाके में बाइक सवार दो पुलिस की वर्दी पहने हुए एक मकान की घंटी बजाते हैं। मकान से महिला बाहर आती है। पुलिसकर्मी खुद को मानसरोवर थाने का स्टाफ बताकर उससे बात करने लगता है। बदमाश महिला को बार-बार गेट खोलने के लिए बोलता है, लेकिन महिला गेट नहीं खोलती। इस पर दोनों पुलिसकर्मी झुंझलाकर मौके से खिसक लेते हैं। हालांकि इस संबंध में किसी भी प्रकार की कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई गई। महिला को दोनों बदमाशों के पहने हुए पुलिस के कपड़ों से संदेह हुआ। इसलिए सूझबूझ दिखाते हुए उसने गेट खोला ही नहीं और अनहोनी टल गई।

गेट के बाहर से ही बात करें, आईडी भी देखें
जयपुर में ऐसी घटनाएं पहले भी हुई हैं। किसी सर्वे या पूछताछ के बहाने अगर कोई व्यक्ति पुलिसकर्मी बनकर या किसी अन्य कंपनी, ऑफिस का स्टाफ घर में घुसना चाहता है तो उससे सतर्क रहिए। गेट पर ही उससे बात कीजिए, उसे अंदर मत आने दीजिए। उनकी आईडी चेक कर सकते हैं। शक होने पर ऐसी किसी भी गतिविधि की सूचना तत्काल 112 या 100 नंबर पर दे सकते हैं। इससे एक तरफ जहां वारदात रोकी जा सकेगी और पुलिस की छवि खराब करने वाले बदमाशों-लुटेरों को पकड़ा जा सकेगा।