• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • The Newly Elected Executive Committee Of Vyas Faction Suspended The General Secretary Saraswat After Meeting, Saraswat Said The Union Will Not Run With Only Four People

विवादों में राजस्थान ओलंपिक संघ:व्यास गुट की नवनिर्वाचित कार्यकारिणी ने महासचिव सारस्वत को किया निलंबित, सारस्वत बोले- सिर्फ चार लोगों से नहीं चलेगा संघ

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर में अनिल व्यास गुट की हुई बैठक। - Dainik Bhaskar
जयपुर में अनिल व्यास गुट की हुई बैठक।

राजधानी जयपुर में रविवार को राजस्थान राज्य ओलिंपिक संघ की स्पेशल जनरल और इलेक्शन मीटिंग आयोजित हुई। अनिल व्यास गुट की ओर से चार खाली पदों पर निर्विरोध निर्वाचन प्रक्रिया के बाद इस बैठक का आयोजन किया गया था। जिसमें निर्विरोध निर्वाचित अध्यक्ष रामोतार जाखड़, चैयरमैन अनिल व्यास सहित भारतीय ओलिंपिक संघ के कोषाध्यक्ष आनंदेश्वर पांडेय भी मौजूद रहे।

भारतीय ओलिंपिक संघ कोषाध्यक्ष आनंदेश्वर पांडेय ने कहा कि जिसके पास बहुमत होता है। वो मीटिंग का आयोजन करता है, और जिसके पास बहुमत नहीं होता है, वो भागता-फिरता है। उन्होंने कहा की खाली चल रहे चार पदों पर उपाध्यक्ष अनिल व्यास की ओर से चुनाव का आयोजन करवाया गया था। साथ ही, जिस पक्ष की ओर से चुनाव करवाया गया। उनको राजस्थान राज्य ओलिंपिक संघ के 30 में से 15 जिला संघों का समर्थन है। साथ ही, 31 राज्य संघों में से 19 का समर्थन है। ऐसे में जिसको भी कोई शिकायत हो, वो भारतीय ओलिंपिक संघ में अपनी शिकायत दर्ज करवाया सकता है। जिसका निस्तारण भी सिर्फ भारतीय ओलम्पिक संघ की ओर से ही किया जाएगा।

राजस्थान राज्य ओलिंपिक संघ के नव निर्वाचित अध्यक्ष रामोतार जाखड़ ने बताया कि जनार्दन सिंह गहलोत के निधन के बाद से ही एक गुट की ओर से लगातार अनियमितताएं की जा रही है। पिछली मीटिंग में महासचिव अरुण सारस्वत को निलंबित किया गया था। इसके बाद आज उनको पद से हटाने का आदेश पारित कर दिया गया है। इसके साथ ही जनार्दन सिंह गहलोत के निधन के बाद जो भी अनियमितताएं हो रही है। उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करवाने का फैसला भी लिया गया है।

इस दौरान नवनिर्वाचित चेयरमैन अनिल व्यास ने बताया कि पिछले कुछ महीनों से संघ के खातों में अनियमितताओं की भरमार हो रही है। जनार्दन सिंह गहलोत के निधन के बाद 11 बार बैंक से ट्रांजेक्शन किया गया। लेकिन किसी भी ट्रांजेक्शन पर कोषाध्यक्ष के हस्ताक्षर नहीं है। इसके साथ ही अभी तक बैंक में ये तक नहीं बताया गया है कि जनार्दन सिंह गहलोत का निधन हो चुका है। ऐसे में इन सभी अनियमितताओं की जांच का फैसला लिया गया है। हमारे पास पर्याप्त संघों का समर्थन है, और अगर दूसरे गुट को कोई आपत्ति है। तो वो आकर एक मंच पर बात कर सकता है।

वहीं संघ के महासचिव अरुण सारस्वत ने अनिल व्यास गुट की इस कार्रवाई को असंवैधानिक बताया है। उन्होंने कहा कि सिर्फ कागजी कार्रवाई से कुछ नहीं होता। धरातल पर अनिल व्यास गुट के समर्थन में जिला संघ नहीं है। ऐसे में 31 अक्टूबर को संघ की बैठक में रिक्त चल रहे पदों पर चुनाव के साथ अनिल व्यास गुट के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

बता दें की अनिल व्यास गुट जहां निर्विरोध निर्वाचन कर जिला संघों और राज्य संघों के समर्थन होने का दावा कर रहा है। वहीं महासचिव अरुण सारस्वत गुट की ओर से 31 अक्टूबर को खाली चारों पदों पर चुनाव की घोषणा भी की जा चुकी है। ऐसे में देखना होगा की भारतीय ओलिंपिक संघ इस समय जहां खुद दो गुटों की अंदरुनी लड़ाई में उलझा हुआ है। वो राजस्थान राज्य ओलम्पिक संघ के विवाद को किस तरह सुलझाता हुआ नजर आता है।

दरअसल, 40 सालों तक राजस्थान राज्य ओलिंपिक संघ के अध्यक्ष पद की कमान संभालने वाले जनार्दन सिंह गहलोत के निधन के बाद संघ में लगातार विवाद की स्थिति बनी हुई है। संघ अब दो गुटों में बंट गया है। जनार्दन सिंह गहलोत के निधन के बाद से ही दोनों ही गुटों में वर्चस्व की लड़ाई हावी हो रही है। उपाध्यक्ष अनिल व्यास गुट की ओर से पिछले दिनों खाली चार पदों पर चुनाव का नोटिफिकेशन जारी किया गया। जिसके बाद 15 अक्टूबर को खाली चारों ही पदों पर एक-एक नामांकन आने के बाद निर्विरोध निर्वाचन प्रक्रिया पूरी की गई। वहीं अब अध्यक्ष पद पर निर्वाचित रामोतार जाखड़ की ओर से आज बैठक बुलाकर कई महत्वपूर्ण बिंदुओं को पारित किया गया।

खबरें और भी हैं...