पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना का कहर:दूसरी लहर में अप्रैल में 160 संक्रमित में से 9 गर्भवतियों की मौत, पिछली बार आंकड़ा 6 था

जयपुर10 दिन पहलेलेखक: सुरेन्द्र स्वामी
  • कॉपी लिंक

संक्रमण की दूसरी लहर में कोरोना वायरस से गर्भवती महिलाओं की जान को ज्यादा खतरा है। सांगानेरी गेट स्थित डेडिकेटेड कोविड सेन्टर महिला चिकित्सालय में पिछले साल 9 माह में 6 गर्भवती महिलाओं ने दम तोड़ा था। हालांकि इस बार सिर्फ अप्रैल में 9 गर्भवती जिंदगी हार चुकी हैं। यानि डेथ रेट 5.6 फीसदी रही है।

जनवरी में जहां सिर्फ 6 महिलाएं संक्रमित थीं, अप्रैल में यह संख्या 160 पहुंच गई है, पिछले साल अप्रैल में यह आंकड़ा 29 ही था। महिला चिकित्सालय सांगानेरी गेट में अब तक 1030 महिलाओं के संक्रमित होने के मामले आ चुके हैं। इधर, कोविड सेन्टर पर लगातार बढ़ रहे संक्रमित मामलों को देखते हुए यहां पर रुटीन सर्जरी बंद कर दी है। पिछले चार दिन में ही 40 से ज्यादा

कोरोना संक्रमित केसेज मिलना चिंतानजनक है।
महिला चिकित्सालय सांंगानेरी गेट की डॉ. शालिनी राठौड़ का कहना है कि गर्भवती महिलाओं की इम्यूनिटी ऐसे ही कमजोर होती है और संक्रमित होने के बाद अस्पताल भी देर से पहुंचती हैं। फिर कोविड निमोनिया के होने से गंभीर हालत में आक्सीजन का लेवल यानि सेचुरेशन 30 से 50 फीसदी गिरने लगता है। ऐसे में वेंटिलेंटर पर चली जाती हैं। सिजेरियन डिलीवरी कराकर बच्चे को तो बाहर निकाला जाता है। आक्सीजन का लेवल गिरने से विभिन्न अंगों जैसे लंग्स, लीवर और हार्ट धीरे-धीरे काम करना बंद करने से स्थिति और ज्यादा बिगड़ती जाती है।

संक्रमण और मौत से ऐसे बचाया जा सकता है

कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार गर्भवती महिला को घर में भी बाहर से आने वालों से न केवल सोश्यल डिस्टेसिंग बल्कि मास्क लगाकर ही दूरी से बात करें। भीड़भाड़ वाले क्षेत्र में भी नहीं जाए। गर्भावस्था के अंतिम कुछ माह में शादी-समारोह या किसी अन्य उत्सव में नहीं जाए। घर में हैल्थ एंड हाइजीन पर भी फोकस रखें। विशेषकर कोरोना से पीडित व्यक्ति से तो नहीं मिले तो ही न केवल खुद को बल्कि बच्चे को भी बचाया जा सकेगा।

पिछले साल की तुलना में इस बार वायरस ज्यादा खतरनाक हो रहा है। न केवल संक्रमण की दर बल्कि मौत की दर भी बढ़ रही है। गर्भवती महिलाओं की मौत के कारणों में आक्सीजन का लेवल नीचे गिरना, निमोनिया और देरी से गंभीर हालत में अस्पताल में पहुंचना है।-डॉ.सुधीर भंडारी, प्राचार्य, एसएमएस मेडिकल कॉलेज

कोरोना की सेकेंड वेव को देखते हुए गर्भवती महिलाओं को ज्यादा अलर्ट रहना है। अप्रैल में कोरोना संक्रमित 9 गर्भवती की मौत हुई है। किसी संक्रमित व्यक्ति से नहीं मिलने तथा मास्क लगाकर निकलें। थोड़ी सी भी दिक्कत होने पर तुरन्त डॉक्टर से संपर्क कर इलाज लेना चाहिए।-डॉ.आशा वर्मा, अधीक्षक, महिला चिकित्सालय सांगानेरी गेट

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें