प्रदेश बना सोलर हब:2.59 लाख करोड़ के निवेश से प्रदेश बना सोलर हब, अब बिजली बचाने के लिए होगी एनर्जी ऑडिट

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश में अड़ानी, मित्तल, जेएसडब्ल्यू सहित 16 बड़े निवेशकों ने सोलर प्लांट लगाने के लिए 2.59 लाख करोड़ के निवेश का एमओयू व एलओआई की है। प्रदेश में पहले से ही कई प्लांट लग रहे हैं। इससे अब प्रदेश सोलर हब बन गया है। राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस पर विद्युत भवन में ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी व एसीएस सुबोध अग्रवाल ने ऊर्जा संरक्षण अवार्ड दिया है।

ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि ऊर्जा की बचत ही उत्पादन है। युवाओं व बच्चों को ऊर्जा बचत का संदेश देना होगा। आवश्यकता नहीं होने पर विद्युत उपकरणों को बंद करें। कम ऊर्जा खपत वाले विद्युत उपकरणों का उपयोग करें। पीएम किसान योजना व अक्षय ऊर्जा उत्पादन में राजस्थान देशभर में अग्रणी है। एनर्जी ऑडिट करवाई जा रही है।

बिजली छीजत रोकने और गुणवत्तायुक्त बिजली सप्लाई की पहल की जा रही है। विभाग के एसीएस सुबोध अग्रवाल ने कहा कि सौर ऊर्जा के क्षेत्र में इस एक साल को प्रदेश के गोल्डन वर्ष के रूप में देखा जा सकता है। 2021-22 में रिकाॅर्ड 2200 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना की गई है। केंद्र के ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी ने राजस्थान को फ्रंट रनर राज्य घोषित किया है।

खबरें और भी हैं...