पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वैक्सीनेशन की दिक्कत:काेवैक्सीन WHO से मान्य ही नहीं; काेविशील्ड की सेकेंड डाेज 84 दिन बाद, हजयात्रा पर संकट

जयपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अप्रैल-मई में पहली डाेज लगी ताे दूसरी डाेज अगस्त में लगेगी...हज जून में

सऊदी सरकार ने दूसरे देशाें काे हजयात्रा की इजाजत ताे दे दी है पर उन हजयात्रियाें की सामने परेशानी हाे गई, जिन्हाेंने काेवैक्सीन लगवाई है या फिर अप्रैल-मई में काेविशील्ड। सऊदी सरकार की गाइडलाइन के अनुसार उन्हीं हजयात्रियाें काे एंट्री मिलेगी जिन्हें डब्ल्यूएचओ से एप्रूव वैक्सीन लगी है।

काेवैक्सीन काे डब्ल्यूएचओ से एप्रवूल नहीं मिला है। साथ ही, वे हजयात्री जिन्हाेंने अप्रैल-मई में काेविशील्ड की पहली डाेज ली है लेकिन दूसरी डाेज जुलाई-अगस्त में लगेगी। जबकि जून के आखिर में मुकद्दस सफर हज की उड़ान शुरू हाे जाएगी।

नियम में साफ है कि उड़ान से 14 दिन पहले सेकेंड डाेज लग जानी चाहिए। प्रदेश में 1574 हजयात्रियाें ने हज के लिए आवेदन किया है। 200-250 आवेदकाें काे काेवैक्सीन और एक हजार आवेदकों को काेविशील्ड लगी है। ऐसे में अगली डाेज 84 दिन बाद लगेगी। राजस्थान हज वेलफेयर साेसायटी के महासचिव हाजी निजामुद्दीन ने केन्द्र और राज्य सरकार काे पत्र लिखा है कि जिन आवेदकों को काेविशील्ड की पहली डाेज लगी चुकी है, उन्हें पुराने नियमाें के अनुसार 28 दिन में दूसरी डाेज लगवाने की छूट दी जाए। साथ ही, काेवैक्सीन काे डब्ल्यूएचओ से मान्यता प्राप्त करने की प्रक्रिया जल्द से जल्द पूरी करें ताकि हजयात्रियाें काे हज पर जाने का माैका मिल सके। क्याेंकि जून के आखिर में हजयात्रा शुरू हाे जाएगी और अगस्त तक चलेगी।

आयु सीमा के कारण 450 आजमीन नहीं जा पाएंगे

सऊदी अरब सरकार की ओर से जारी नए फरमान के बाद राजस्थान के 450 से अधिक आजमीन हज यात्रा की दौड़ से बाहर हो गए हैं। ये सभी आजमीन 61 से 65 साल के हैं। केंद्रीय हज कमेटी ने पिछले साल नवंबर में हज आवेदन की शुरुआत कराई थी। आवेदन के लिए जारी शर्तों में कहा गया था कि 18 साल से 65 साल तक के लोग हज यात्रा के लिए आवेदन कर सकेंगे।

खबरें और भी हैं...