• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • There Is No Need To Come To The Headquarters For The Information Of The Case, Website Started To Facilitate The Complainants, Now See The Status Of Your Case Sitting At Home On The Website Of Human Rights Commission

एक क्लिक पर मिलेगी जानकारी:केस की जानकारी के लिए मुख्यालय आने की नहीं है जरूरत, परिवादियों को सुविधा देने के लिए शुरू की वेबसाइट

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आयोग कार्यालय में "राजस्थान राज्य मानव अधिकार आयोग की त्रैमासिक पत्रिका का विमोचन किया गया। - Dainik Bhaskar
आयोग कार्यालय में "राजस्थान राज्य मानव अधिकार आयोग की त्रैमासिक पत्रिका का विमोचन किया गया।

राजस्थान राज्य मानव अधिकार आयोग में अपने केस की जानकरी के लिए अब जयपुर मुख्यालय आने की जरूरत नही है , आयोग ने परिवादियों को सुविधा देने के लिए वेबसाइट शुरू की है , जिस पर परिवादी घर बैठे अपने केस की स्थिति को देख सकेगा।

राजस्थान राज्य मानव अधिकार आयोग के अध्यक्ष जस्टिस गोपाल कृष्ण व्यास ने आज आयोग कार्यालय में "राजस्थान राज्य मानव अधिकार आयोग की त्रैमासिक पत्रिका का विमोचन किया गया। इस दौरान राज्य मानव अधिकार आयोग के सदस्य महेश गोयल ने मानव अधिकार आयोग की वेबसाईट का कम्प्यूटर पर क्लिक कर शुभारम्भ किया। जिसके बारे में अध्यक्ष व्यास ने कहा कि प्रदेश दूर-दराज रह रहें गरीब व्यक्ति अपने मामले / केस के संबंध में घर बैठे जानकारी प्राप्त कर सकेंगे और परिवादियों को अपने केस की स्थिति की जानकारी प्राप्त करने के लिए जयपुर मुख्यालय पर आने की आवश्यकता नहीं रहेगी।

वेबसाइट पर मिलेगी जानकारी
राजस्थान राज्य मानवाधिकार आयोग द्वारा आयोग की वेबसाईट (rshrc.rajasthan.gov.in) पर 12 अक्टूबर से आनलाईन सुविधा ( case / complaint search) शुरू की जा रही है, जिसका प्रयोग कर आयोग में दर्ज विभिन्न परिवादों से सम्बधित विवरण और स्थिति की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। इसके लिए आयोग की वेबसाईट rshrc.rajasthan.gov.in पर जाकर complaint search के लिंक पर क्लिक करना होगा फिर परिवादी / प्रार्थी को स्वयं के केस का नम्बर case number दर्ज करना होगा। उसके बाद सर्च बटन पर क्लिक करना होगा। परिणाम स्वरूप केस से सम्बंधित विवरण (case status) परिवादी को ऑनलाईन उपलब्ध हो जाएगा और केस से सम्बंधित "NEXT DATE" और "Disposed" की स्थिति ऑनलाईन देख सकेगा । डिस्पोजल (खारिज) हुए केसेज से सम्बधित आदेश (ऑर्डर) भी परिवादी / प्रार्थी स्वयं के स्तर घर बैठे डाउनलोड कर सकेगा।