झगड़ा हुआ तो सास ने चुरा ली बहू की कार:परिवार में संपत्ति का विवाद था, सबक सिखाने के चक्कर में हो गई गिरफ्तार

4 महीने पहले

घरेलू विवाद में बहू को सबक सिखाने के चक्कर में एक सास गिरफ्तार हो गई। मामला जयपुर के सुभाष चौक थाना क्षेत्र का है। प्रोपॅर्टी विवाद में बहू को सबक सिखाने के लिए सास ने बहू की कार चुराई थी। घटना के बाद पीड़ित बहू थाने पहुंची। पुलिस की जांच में सास की पोल खुल गई। जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस ने पूछा तो उलटे धमकाने लगी सास

इससे पहले पुलिस को शक हुआ तो सास को कार के बारे में पूछा। इस पर सास नाराज हो गई और उल्टा एसएचओ को ही धमका दिया। फोन पर बोली कि कमिश्नर उसका दोस्त है और कार की तलाश मत करना। आस-पास के सीसीटीवी और मोबाइल लोकेशन से इसका राज खुला। मामला सुभाष चौक थाने का है। पीड़िता देवांशी चंचालानी (30) ने 31 दिसंबर को कार चोरी का मामला दर्ज करवाया था। देवांशी ने बताया कि घर के बाहर रखी उसकी कार चोरी हो गई।

प्रॉपर्टी में बहू को हिस्सा नहीं देना चाहती थी

सुभाष चौक थानाधिकारी जयप्रकाश पूनिया ने बताया कि महिला रितु चंचलानी (58) देवांशी की सौतेली सास है। देवांशी के पति की दो साल पहले मौत हो गई थी। इसके बाद से सौतेली सास ने परेशान करना शुरू कर दिया। इनके बीच प्रॉपर्टी को लेकर भी विवाद था। इसी को लेकर सौतेली सास उसे बार-बार परेशान करती रहती थी। रितु को प्रॉपर्टी बंटवारे को लेकर भी संदेह था कि बहू को भी हिस्सा देना पड़ेगा। इस बीच बहू के कैरेक्टर को लेकर भी कई बार गलत बात बोली देवांशी ने बताया कि सास उसे बाहर जाने से रोकती थी और गंदे आरोप लगाती। देवांशी ने बताया कि वह कॉम्पिटिशन एग्जाम की भी तैयारी कर रही है। 27 दिसंबर को परीक्षा की तैयारियों को लेकर भला बुरा कहा। इसके बाद उसके साथ जमकर मारपीट की। इसके बाद वह 28 दिसंबर को कंवर नगर स्थित मायके आ गई। 30 दिसंबर को उसकी कार चोरी हो गई।

बहू मायके आई तो सबक सिखाने का प्लान बनाया
रितु चंचलानी को बहू के मायके जाने का पता चला तो सबक सिखाने के लिए कार चोरी करने की योजना बनाई। रितु चंचलानी ने 30 दिसंबर की रात 11 बजे अपने घर से देवांशी की कार की डुप्लीकेट चाबी ली और अपनी रेड इटियोस में एक ड्राइवर को लेकर देवांशी के पीहर कंवर नगर पहुंच गई। रितु ने खुद की रेड कार को साथ लाए ड्राइवर के साथ घर भेज दिया। देवांशी की कार लेकर मालवीय नगर आ गई। यहां एक मकान में कार को छिपा रखा था। सुभाष चौक थानाधिकारी जयप्रकाश पूनिया ने बताया देवांशी ने बताया था कि एक कार की चाबी उसके सास के पास है। इस पर फोन कर कार के बारे में पूछा तो कमिश्नर के नाम धमकाने लगी। इस पर मोबाइल लोकेशन और आस-पास के सीसीटीवी फुटेज खंगाले तो इस मामले का राज खुला। उन्होंने बताया कि रितु को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया। चोरी की कार उसके पति के नाम होने की वजह से कोर्ट ने रितु को जमानत दे दी।

देवांशी के पति की दो साल पहले हो गई थी मौत, ससुर जेल में
देवांशी के पति नीरज चंचलानी की दो साल पहले किड़नी फैल होने से मौत हो गई थी। रितु चंचालनी सौतेली सास है। देवांशी के ससुर नकली दवाइयों के मामले में पिछले डेढ़ साल से जेल में बंद है। पहली पत्नी से एक बेटा और बेटी है। रितु के भी एक बेटा-बेटी है।