पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • This Is The Drug Department; First The Chemist's Licenses Were Suspended, Then Many Were Given Stay... Clean Chit To Some

दोनों बातें सही कैसे:ये ड्रग विभाग है; पहले केमिस्ट के लाइसेंस सस्पेंड किए फिर कई को स्टे दिया...कुछ को क्लीनचिट

जयपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कार्रवाई सही तो सस्पेंशन क्यों और गड़बड़ी तो फिर स्टे कैसे?

ड्रग विभाग की कार्रवाई पर अक्सर सवाल उठते हैं। अबकी अफसरों ने दूसरा ही ‘खेल’ कर दिया। चिकित्सा मंत्री के निर्देश पर बनी कमेटी ने मेडिकल स्टोर्स की जांच की और लाइसेंस सस्पेंड किए। जैसे ही मामला दूसरे अफसर के पास पहुंचा, उन्होंने तत्काल स्टे दे दिया और कुछ को क्लीन चिट। हालांकि कहा गया कि सुनवाई बाद में होगी। डिप्टी सेक्रेट्री, हेल्थ संजय शर्मा ने जवाब नहीं दिया। ड्रग कंट्रोलर राजाराम शर्मा ने कहा उनके क्षेत्राधिकार का मामला नहीं है।

सहा. औषधि नियंत्रक के अधीन हुई सभी कार्रवाई पर स्टे

ड्रग विभाग के अधिकारियों ने पिछले दिनों शहर के कई केमिस्ट की जांच की। अनियमितताओं के कारण कई के लाइसेंस भी सस्पेंड किए गए। हालांकि अपील अधिकारी और डिप्टी सेक्रेट्री (हेल्थ) संजय शर्मा के पास फाइलें पहुंचीं और वे स्टे देते गए। बोला गया...बाद में सुनवाई की जाएगी। चौंकाने वाली बात यह भी कि जिन पर भी स्टे दिया गया, वे सभी कार्रवाई सहायक औषधि नियंत्रक के अधीन हुई थी।

बड़ा सवाल...कार्रवाई सही थी तो फिर राहत क्यों दी

कोरोना में रूटीन से छोटी कार्रवाई की गई और लाइसेंस सस्पेंड किए गए। फिर स्टे भी दिए गए। ऐसे में सवाल यह है ड्रग विभाग ने कार्रवाई क्यों की? कार्रवाई सही थी तो फिर स्टे क्यों। गड़बड़ी थी तो निलम्बन क्यों किया गया? हालांकि अफसरों का कहना है कि स्टे देकर सुनवाई की तारीख दी गई है। बाद मेें इन मामलोें पर सुनवाई करेंगे। गौरतलब है कि पहली बार ड्रग विभाग ने इतने स्टे एक साथ दिए हैं।

खबरें और भी हैं...